सुरेश रघुनाथ पित्रे की कविता - प्रकृति देती है एक ही धचका

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------


|| प्रकृती देती है एक ही धचका ||


कुदरत जभी तक उदार है |
मानव को सृष्टि का आधार है |
मानव तू कितना लूटेगा |
कितने पेड़ तू काटेगा ? ||१||

साँस तुमही तो लेता है |
पेड़ हमें प्राणवायु देता है |
क्या तुम पेड़ को तोड़ोगे ?
क्या खुदही को मारोगे ? ||२||

सीमेंट का जंगल बहुत है |
ज़हरीला धुआ प्रभूत है |
पेड़ तोडने का भूत सवार है |
धरती का पूत मानव गँवार है ||३||

प्रदूषण चारों और फैला है |
धरती का आँचल मैला है |
मदमस्त विकास हो रहा है |
अलमस्त मानव जी रहा है ||४||

सुनामी का एक ही झटका |
भूकंप का एक ही धक्का |
आँधी का एक ही हचका |
प्रकृति देती ही एक ही धचका ||५||

कवि - © सुरेश रघुनाथ पित्रे.
पता - " वैद्य सदन ", राघोबा शंकर रोड,
चेंदणी, ठाणे (पश्चिम), पिन कोड -४००६०१
Email ID - enquiryhindi@gmail.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "सुरेश रघुनाथ पित्रे की कविता - प्रकृति देती है एक ही धचका"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.