देवेन्द्र कुमार पाठक की कविताई 'दोहे बैसाख के'

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

गर्म मिज़ाज़ हुई हवा, लगते ही बैसाख |

सूरज दिखलाने लगा, लाल भभूका आँख |1|

 

हवा हो गई बेहया, भूली सब मरजाद |

खरी दुपहरी डोलती, ठाँव कुठाँव अबाध |2|

 

अंबर जले अलाव-सा, तपेँ तवा-से खेत|

सूखे नदियोँ के नयन, घाम निचोड़े रेत |3|

 

जले भूख की आग मेँ, गहना,गोरू,खेत |

मरघट जैसे गाँव मेँ, हम-तुम ज़िन्दा प्रेत|4|

 

प्यास-पसीना,घाम-लू , आँधी-अंधड़,धूल|

डगर-डगर,डग-डग उगे, मानो भू पर शूल|5

 

अधरोष्ठोँ के पृष्ठ पर, आलेखित है प्यास|

आँखोँ की मरुभूमि पर, दहक रहा संत्रास|6|

 

टीका-ब्याह,दहेज का , है बैसाख दलाल|

बलि की गौ है बेटियाँ, बलिवेदी ससुराल|7|

 

बैसाखी दिन की थकन, मन-अंतस बेचैन |

हड़क गई आई न फिर, नीँद समूची रैन|8|

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "देवेन्द्र कुमार पाठक की कविताई 'दोहे बैसाख के'"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.