विनायक पाण्डेय की कविता - मैं चला

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image                       

  मैं चला

यूँ ही होता रहा दर से बदर मैं

हर बार एक नया ठिकाना मिल गया

गम तो बहुत दिए जिन्दगी ने लेकिन

हमेशा हंसने का कोई बहाना मिल गया


सितम ढाने वालों से कह दो

उनका सितम बड़ा हसीन था

पर अफ़सोस कि जिन्दा हैं अभी

क्योंकि जिन्दगी पे यकीन था


सैलाब बहा ले जाये किनारा पर

किनारा खत्म होता नहीं

बसते है गुलशन उजड़ के

पतझड़ सदा रहता नहीं


है मुकम्मल सारी दुनिया

दिल जो अपने साथ है

बंद कर आँखें और देख

ख्वाहिशों की रात है


दिल के कोने में

उम्मीदों की लौ जला

खुद गिरा और खुद ही संभला

और आज मैं फिर चला

--

तेरे अक्स
बीते हुए लम्हों की
गुजरी परछाईयों में
आँखों से मेरी झांको
दिल की गहराईयों में
अक्स हैं तेरे तेरे
नक्श हैं तेरे तेरे

उजली सी सुबह जैसा
रोशन वो चेहरा तेरा
भूलूं मैं कैसे भूलूं
रूह पे छाये जो मेरे
अक्स हैं तेरे तेरे
नक्श हैं तेरे तेरे

यादों की तन्हाईओं में
पल पल दिल डूबता जाये
ख्वाबों के आसमां पे
बादल बनके जो बिखरे
अक्स हैं तेरे तेरे
नक्श हैं तेरे तेरे

अक्स हैं तेरे तेरे
नक्श हैं तेरे तेरे
 

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "विनायक पाण्डेय की कविता - मैं चला"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.