मंगलवार, 24 अप्रैल 2012

सविता श्रीवास्तव की प्रस्तुति - बुंदेली दादरा और बुंदेली गारी

image

नई दुल्हन जब ससुराल में आती है उस समय गाया जाने वाला दादरा

दादरा
बालम छोटे से बालम हल्के से
हल्के की आई बड़ी लाज बालम छोटे से ........

जो मैं गई थी पनियाँ भरन खों
बालम गये मोरे साथ रे
बालम वहीं मचले वहीं मचले
गगरी दिलादे मेरी जान‌ बालम छोटे....

जो मैं गई थी पिक्चर देखन‌
बालम गये मोरे साथ रे
बालम वहीं मचले वहीं मचले
गोदी में ले ले मेरी जान बालम छोटे.....

जो मैं गई थी एन सी सी केंप में
बालम गये मोरे साथ रे
बालम वहीं मचले वहीं मचले
पमपम दिला दे मेरी जान‌ बालम छोटे...

जो मैं गई थी बिस्तर लगाने
बालम गये मोरे साथ रे
बालम वहीं मचले वहीं मचले
लोरी सुना दे मेरी जान बालम छोटे...

---

विवाह के समय बुंदेलखंड में गाई जाने वाला बुंदेली गारी

गारी
हम जानत कछु नौने से हुइयें सो
राजा हिमांचल के दमाद भलेजू|

माथे पे सेहरा उनें नईं भावे सो
लटों से गंगा बहाये भलेजू हम ....जानत

कानों में कुंडल उनें नईं भावें सो
बिच्छू ततैया लटायें भलेजू ......हम जानत

गले में हरवा उनें नईं भावें सो
सर्पों की माला लटकायें भलेजू.... हम जानत

हाथों में कंगना उनें नईं भावें सो
डम डम डमरू बजायें भलेजू .....हम जानत

अंग में जामा उनें नईं भावे सो
मृगछाला लटकायें भलेजू ........हम जानत

पावं में जूता उनें नईं भावे सो
सो पदम खड़ाऊं पहने भलेजू ....हम जानत
संग में उनके गौरा सोहें सो
नंदी पे हैं सवार भलेजू......... हम जानत

--.

सविता श्रीवास्तव  12 शिवम सुंदरम नगर छिंदवाड़ा

5 blogger-facebook:

  1. बेनामी7:34 pm

    bahut acchii lagi
    Ragani Shrivastava Khurai vaali

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीया सविता जी ने बुन्देली गीतों को प्रकाशित करने का विचार किया, इस हेतु वे साधुवाद की हक़दार हैं.... परन्तु जो प्रथम गीत 'दादरा' उन्होंने दिया है वह पारम्परिक न होकर अधुनाप्रेरित रचना मानी जानी चाहिए... बेहतर होता अगर वे इसकी जगह बुन्देली दादरा की कोई प्राचीन पारम्परिक रचना यहाँ प्रकाशित करतीं... क्योंकि ऐसी रचनाएँ बाद में उस साहित्य और संस्कृति विशेष के न जानने वाले लोगों के मन में भ्रम पैदा कर देती हैं, और वे इन रचनाओं को ही पारम्परिक मानकर व्यवहार करते हैं...जो कालान्तर में संस्कृतियों के पतन का कारण भी बन सकती हैं... हमारे इन विचारों के पीछे केवल यही मूल भाव है कि यह हम सभी का नैतिक दायित्व है कि हम जब भी कोई इस तरह के सांस्कृतिक परिदृश्यों को समाज के समक्ष प्रस्तुत करें तो उसके मूल स्वरूप में ही प्रदर्शित करें ताकि भविष्य में दस्तावेज़ बन जाने वाले इन अभिलेखों से आने वाली पीढ़ियाँ दिग्भ्रमित न हों... प्रयास हेतु पुनः साधुवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  3. ईमेल से प्राप्त टिप्पणी
    आदरणीया सविता जी ने बुन्देली गीतों को प्रकाशित करने का विचार किया, इस हेतु वे साधुवाद की हक़दार हैं.... परन्तु जो प्रथम गीत 'दादरा' उन्होंने दिया है वह पारम्परिक न होकर अधुनाप्रेरित रचना मानी जानी चाहिए... बेहतर होता अगर वे इसकी जगह बुन्देली दादरा की कोई प्राचीन पारम्परिक रचना यहाँ प्रकाशित करतीं... क्योंकि ऐसी रचनाएँ बाद में उस साहित्य और संस्कृति विशेष के न जानने वाले लोगों के मन में भ्रम पैदा कर देती हैं, और वे इन रचनाओं को ही पारम्परिक मानकर व्यवहार करते हैं...जो कालान्तर में संस्कृतियों के पतन का कारण भी बन सकती हैं... हमारे इन विचारों के पीछे केवल यही मूल भाव है कि यह हम सभी का नैतिक दायित्व है कि हम जब भी कोई इस तरह के सांस्कृतिक परिदृश्यों को समाज के समक्ष प्रस्तुत करें तो उसके मूल स्वरूप में ही प्रदर्शित करें ताकि भविष्य में दस्तावेज़ बन जाने वाले इन अभिलेखों से आने वाली पीढ़ियाँ दिग्भ्रमित न हों... प्रयास हेतु पुनः साधुवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके प्रयास के लिए सादुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेनामी1:56 pm

    bahut badhiya,,,thanks

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------