शुक्रवार, 11 मई 2012

मुल्ला नसरूद्दीन के चुटकुले 1-10

 

1.

एक दिन मुल्ला एक मशहूर मनोचिकित्सक के पास पहुँचा और उससे निवेदन किया कि क्या वो उसका व्यक्तित्व विभाजित (पर्सनॉलिटी स्प्लिट) कर सकता है.

“तुम्हारा व्यक्तित्व विभाजित करना?” डॉक्टर ने आश्चर्य से पूछा - “यहाँ तो स्प्लिट पर्सनालिटी वाले इलाज के लिए आते हैं और ठीक होकर जाते हैं. तुम तो उलटे इस काम के लिए कह रहे हो! भला क्यों?”

“इसलिए कि,” मुल्ला ने जवाब दिया – “मैं बेहद अकेलापन महसूस करता हूँ.”

--

2.

बॉस ने मुल्ला से पूछा – “आखिर तुम कब सुधरोगे? तुम तो रोज ही देर से आते हो!”

“यह तो सरासर आपकी गलती है सर!” मुल्ला ने आगे कहा – “शाम को घर जाते समय आप ही हमेशा से कहते रहे थे कि घड़ी को मत देखो काम को देखो. तो अब मेरी आदत घर में भी ऐसी हो गई है. अब मैं घर पर भी घड़ी नहीं देखता.”

--

3.

नई भर्ती के लिए साक्षात्कार हो रहे थे. मुल्ला से साक्षात्कारकर्ता ने पूछा – “एक तरफ तो आप कह रहे हैं कि आपको 5 वर्षों का कार्य का अनुभव है, परंतु दूसरी तरफ आपके प्रोफ़ाइल में तो लिखा है कि आपने इससे पूर्व कभी भी कहीं भी काम नहीं किया है.”

“तो क्या,” मुल्ला ने स्पष्ट किया – “आपने अपने विज्ञापन में यह नहीं लिखा था कि आपको एक स्वप्नदृष्टा युक्त उम्मीदवार की आवश्यकता है?”

--

4.

इंजीनियर हेतु भर्ती के लिए लिखित परीक्षा चल रही थी.

थर्मोडायनामिक्स का एक कठिन सवाल मुल्ला को उलझा रहा था.

आखिर में मुल्ला को जवाब सूझ गया. मुल्ला ने लिखा – इसका स्पष्ट उत्तर है कि मुझे यह नौकरी नहीं मिलनी!

--

5.

मालिक ने डायरेक्टर को कहा कि मुल्ला को नौकरी से निकाल दे. मुल्ला नया नया नौकरी में आया ही था और उसे बमुश्किल हफ़्ता भर हुआ था.

डायरेक्टर भला आदमी था, वो किसी का दिल नहीं दुखा सकता था. तो उसने बर्खास्तगी पत्रक में लिखा – “मुल्ला नसरूद्दीन ने हमारे साथ पूरे सप्ताह भर काम किया और हम सब उसके कार्य से संतुष्ट थे.”

--

6.

मेले में एक झूले पर मुल्ला लगातार झूले जा रहा था. थोड़ी देर के लिए झूला बंद हुआ तो मुल्ला दौड़ता हुआ आया, जल्दी से पानी पीया और फिर वापस झूले पर जा बैठा.

पास बैठे एक बच्चे ने पूछा – “अंकल, आपको भी झूला झूलना बहुत अच्छा लगता है?”

“अच्छा?” मुल्ला भड़क गया – “झूले में बैठना मुझे बिलकुल ही अच्छा नहीं लगता. मेरा सिर चकराता है. झूले में इतने देर से बैठे बैठे मेरा जी घबरा रहा है. परंतु इस झूले के मालिक पर मेरा पचास रुपया उधार है. और उस उधारी को वसूलने का हिक्कक... एक,,,, हिक्कक... यही.... हिक्कककक... रास्ता बचा.... हिक्कक...”

---

7.

एक धनी विधवा को उसके व्यापार में बड़ा नुकसान हो गया और वो दीवालिया हो गई. उसने अपने प्रेमी मुल्ला नसरूद्दीन से अपना दुखड़ा रोया और पूछा - “मैं तो अब गरीब हो गई. तुम मुझे अब भी उतना ही प्यार करते रहोगे ना?”

“हाँ, हाँ, क्यों नहीं,” मुल्ला ने जवाब दिया – “मैं तुम्हें हमेशा, ताउम्र प्यार करते रहूंगा. इसी शिद्दत के साथ. अलबत्ता आज के बाद शायद हम दोनों की मुलाकात अब कभी न हो.”

--

8.

एक आदमी बीच बाजार में जापानी क्रीम बेच रहा था और चिल्ला चिल्ला कर उसकी खूबियाँ गिना रहा था. वो चिल्लाया – “यदि इस जापानी क्रीम के लेबल पे लिखे पर भरोसा न हो तो मेरी ओर देखो. मैं 103 साल का हूँ, मगर लगता 35 का भी नहीं हूँ...”

एक संभावित ग्राहक ने पास खड़े विक्रेता के सहायक मुल्ला नसरूद्दीन से पूछा – “क्या ये सही में 103 साल का है? 103 साल में तो जुबान हिलने लग जाती है...”

“ठीक ठीक तो मुझे भी नहीं पता,” मुल्ला ने जवाब दिया- “मगर इतना बता सकता हूं कि हमारी कंपनी में विक्रेता के रूप में इसने कल ही ज्वाइन किया है.”

--

9.

मुल्ला कम्यूनिटी हेल्थ सेंटर पहुँचा और अपनी व्यथा सुनानी शुरू कर दी –

मेरे पास एक ही, छोटा सा कमरा है और मेरे साथ मेरे दो और भाई रहते हैं. एक ने चार बंदर पाले हैं और दूसरे ने छः कुत्ते. वे सभी उसी छोटे से कमरे में रहते हैं. बदबू और घुटन से मेरा तो जीना हराम हो गया है.

काउंसलर ने सांत्वना देते हुए कहा – “कमरे में खिड़की तो होगी..”

“हाँ है” मुल्ला ने कहा.

“तो उसे तुम खोल क्यों नहीं लेते” काउंसलर ने उपाय बताया.

“क्या?” मुल्ला चिल्लाया – “और मैं अपने सारे कबूतर उड़ जाने दूं?”

--

10.

मुल्ला नसरूद्दीन ने अपनी नई गर्लफ्रेंड से पूछा कि क्या वो उससे शादी करेगी.

उसकी गर्लफ्रेंड कुछ उहापोह में थी. फैसला लेने से पहले उसने जांच परख करने के लिहाज से मुल्ला से पूछा –

“यदि मैं ना कह दूं तो क्या तुम आत्महत्या कर लोगे?”

“हाँ शायद,” मुल्ला ने आगे कहा – “यह तो मेरा जाना पहचाना और परीक्षित तरीका है.”

--

1 blogger-facebook:

  1. मित्र, जो लिंक आपने दिया था स्कैन करके टैक्स में बदलने का साफटवेयर. वो साफटवेयर पैड है. कोई फ्री वाला साफटवेयर दो.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------