मंगलवार, 8 मई 2012

अनुराग तिवारी की कविता - मन अनुरागी

मन अनुरागी

मन अनुरागी, तन संसारी,

मेरा है गिरधारी।

अभी बहुत हैं पूरी करनी,

मुझको ज़िम्‍मेदारी।

तुमने ही संसार बनाया,

औ' रिश्‍तों का ताना-बाना।

व्‍यथित-भ्रमित मन-बुदि्‌ध, न सूझे

आखिर मुझे कहाँ है जाना।

इस जग की है राह कठिन प्रभु,

राग-द्वेष के मोह-पाश में,

हो जाती है भूल-चूक औ'

अनचाहे अपकर्म बहुत से।

पाप हरो प्रभु, तुम ही मुझको

सच्‍ची राह दिखाओ।

बन कर रथी मेरे अन्‍तर के

मुझको भव पार कराओ।

मन हो निर्मल, दीप जले प्रभु

इसमें तेरी भक्‍ति का।

दो वर, विकल बुदि्‌ध को मेरी

तव चरणों की आसक्‍ति का।

--

-सी ए. अनुराग तिवारी

5-बी, कस्‍तूरबा नगर,

सिगरा, वाराणसी- 221010

मो. ः 9415694329

1 blogger-facebook:

  1. Respected Ravi Ji,

    My aforesaid poem is also published in another blog. Link is : http://gautamnarendramohan.blogspot.in/2012/05/blog-post_09.html
    There, the author has published the poem without mentioning my name or Rachanakar in such a manner that gives an impression that it is written by him. What should we do. Please guide.

    CA. Anurag Tiwari

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------