शुक्रवार, 11 मई 2012

प्रमोद कुमार ‘‘सतीश’’ की कविता - पैसा ही पैसा

image

पैसे के बिना दुनियां में कुछ नहीं होता
पैसा नहीं होता तो इंसा, इंसा नहीं होता
हर वक्त हर लम्हा हर मोड़ पर है जरूरी
पैसे के लिए इंसा चैन से नहीं सोता
लोग कहते हैं कि प्यार में पैसा नहीं लगता
लेकिन पैसे के बिना प्यार का अहसास नहीं होता
रहने के लिए पैसा, खाने के लिए पैसा
जीने के लिए पैसा, मरने के लिए पैसा
मान है पैसा, सम्मान है पैसा
जान है पैसा, पहचान है पैसा
खुदा की खुदाई,भगवान है पैसा
इन्सान की जरूरत, ईमान है पैसा
धर्म, कर्म, जीवन का सार है पैसा
रिश्तों की बुनियाद, घरबार है पैसा
लोगों की जिन्दगी है, संसार है पैसा
हर एक जिन्दगी का आधार है पैसा
मौज है मस्ती है, झनकार है पैसा
भीख मांगते बच्चों की करूण पुकार है पैसा
स्वर है,गीत है, संगीत है पैसा
संस्कार, परम्परा, रीत है पैसा
पैसे के दम पर बदल जाते हैं यहाँ लोग
हमदम है हमसफर है, मीत है पैसा
बच्चा है, बुढ़ापा है जवानी है पैसा
गरीबी की मार, अमीरी की निशानी है पैसा
जरा भूंखे के पेट से पूछकर देखो
सुकड़ती आँतों की कहानी है पैसा
आदि है अनादि है अन्त है पैसा
वर्तमान युग के लिए सन्त है पैसा
राजा है, प्रजा है, सरकार है पैसा
इन्सानी जिन्दगी की दरकार है पैसा
पैसा है पास तो हर काम है आसां
जीवन की मशीनरी का औजार है पैसा
धर्म की आड़ में, होते हैं काले काम
जुर्म की नाव और पतवार है पैसा
पैसे के लिए फूटते हैं रोज यहाँ बम
आतंकियों के हाथ का हथियार है पैसा
पैसों की चाहत में बिक जाता है यहाँ हुस्न
जिस्म का बाजार है, व्यापार है पैसा
इस पैसे की चाह में हम अन्धे हो गए
फेंक कर संस्कृति की पोशाक नंगे हो गए
दहशत और पाप के अन्धेरों में खो गए
अंहकार की गहरी नींद में सो गए

-
             प्रमोद कुमार ‘‘सतीश’’
ई- मेल---kumar.pramod547@gmail.com

2 blogger-facebook:

  1. bahot khoob pramod sir...achi rachna ke liye badhai..sahi bhi hai. sab kuch to nhi kahunga..lekin aaj paisa behad ahamiyat rkhta hai.
    zeeshan akhtar, jhansi

    उत्तर देंहटाएं
  2. badiya pramod ese hi app nai nai rachnaye kare
    hamari shubhkamnaye apke sath hai

    bese kuch line pase ke bare me bolna chauga

    paisa chare ki ronak hai hath ka mel nahi...........

    paisa ghamand nahi suabhiman hai...........

    per chadar dekh kar nahi per pasar kar chadar ka size napna chaye

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------