विनायक पाण्डेय की कविता - कुछ सवाल

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image
राख के ढेर से उठाया था इस चिंगारी को
और ये मुझसे ही शिकायत करती है
मेरे एहसानों का एहसास ही नहीं इसे
ये कैसी मेरी जिन्दगी है

कितनी तन्हा है ये खुद भी जानती है
मेरे सिवा न कोई इसका और
जब भी हँसती है खुद पे साफ झलकता है
ये कैसी मेरी हर ख़ुशी है

कतरा भर उम्मीद लड़ती है अंधेरो से
पर जलाने को और आंसू बाकी नहीं
बुझने को मजबूर है पर बुझती भी नहीं
ये कैसी मेरी रौशनी है

ये फासले नापे है कई बार यूँ तो
पर आज रास्ता कुछ लम्बा लगा
लफ्ज वही हैं पर सुर बदले से है
ये कैसी मेरी मौसिकी है

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

3 टिप्पणियाँ "विनायक पाण्डेय की कविता - कुछ सवाल"

  1. बेनामी6:11 am

    bahut khoob likha hai pandey ustaad.



    sachan

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया......अच्छा लगा|

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.