सोमवार, 21 मई 2012

एस. के. पाण्डेय के दोहे

image

दोहे-(६)

पाथर माने देवता बिनु माने बेकार  ।
यसकेपी संसार है बिनु माने बेसार  ।।

मातु-पिता गुर देवता जो मानो संमान ।
यसकेपी दुतकारिये नहि मानो पहिचान ।।

जननी सम परदार है माने की ही बात ।
यसकेपी माने बिना देख पशू सकुचात ।।

परधन माटी जानिये कही गई थी बात ।
यसकेपी नहि मानते बढ़ी डकैती जात ।।

परहित सम नहि पुन्य कछु परपीड़ा सम पाप ।
यसकेपी बढ़ने लगे बिनु माने संताप ।।

माने से यह लोक में रही निराली रीत ।
मनुज हुआ मानव तभी अब तो सब बिपरीत ।।

साचे योगी देखते सुख सूना संसार ।
यसकेपी भोगी मते जग ही सुख को सार ।।

केवल मनका भेद है बात एक ही साच ।
यसकेपी सब नाचते तरह-तरह के नाच ।।

जबकी सपना रूप जग ग्रन्थ कहे समुझाय ।
यसकेपी पाखंड बहु तदपि रहे जग छाय ।।

दंभ कपट छल धूरता लोग लिए अपनाय ।
यसकेपी बिरले बचे सही राह जो जाय ।।

संत ग्रन्थ गुरजन रहे ठेंगा लोग देखाय ।
यसकेपी याते मची चहूँ ओर अब हाय ।।

गंधारी ज्यों आँख पे पाटी लियो लगाय ।
यसकेपी नहि चाहते देखा किम दिखलाय ।।

बात एक ही बहुमते अर्थ होइ विपरीत i
यसकेपी निज-निज मते लोग कलपते रीत ।।

जाको जो रुचिकर लगे तामे करते प्रीति ।
यसकेपी यह ही बनी इस कलयुग की नीति ।।

सही गलत क्या कुछ नहीं मनवा बेपरवाह ।
यसकेपी सब चल दिए भली-बुरी जो राह ।।

मनुज देह धरि रहि रहे ते सब मानव नाहिं ।
यसकेपी जो मानते मानव वही कहाहिं ।।

यसकेपी नहि मानते ग्रन्थ मते दो रूप ।
जीवत शव सम या दनुज आज भरे जग कूप ।।

शव सम भे बिनु भावना इनसे कैसी आस  ।
यसकेपी इनसे भये इनके लोग निराश   ।।

दनुज रूप सुख पावते पर पीड़ा अधिकाय ।
यसकेपी जो भी करें थोर वही कहलाय ।।

बिनु माने अनरथ बड़े रोज जगत में होय ।
यसकेपी नय मानिए मानवता कह रोय ।।
---------
डॉ. एस. के. पाण्डेय,
समशापुर (उ.प्र.) ।


ब्लॉग: श्रीराम प्रभु कृपा: मानो या न मानो

URL1: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

   
              *********

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------