मंगलवार, 15 मई 2012

शिल्पी चौहान की कविताएँ - माँ, बेटियाँ

माँ

समुद्र है प्‍यार का
अहसास है विश्वास का
माँ कहते हैं उस ताकत को
जो नाम है भगवान का
बच्‍चों की तमन्‍ना व जरूरत है माँ
यही या कुछ और है माँ
जीवन का हर अहसास है माँ
बच्‍चों की आँखों से दिल को जान जाना
बिन कहे हर बात समझ जाना,
क्‍या कहें उनके बारे में जो खुद
तो इन्‍सान पर बच्‍चों के लिए भगवान हैं
जीती है दुनिया नाम से इनके
नाम से सारा जहाँ है इनके
ये कुदरत की सच्‍चाई, खुदा की खुदाई है

माँ ही एक प्‍यार की मूरत बनाई है
दरिया है प्‍यार का, नाम है भगवान का
माँ कहते हैं जिसे, स्‍थान है भगवान का।

--

बेटियाँ
बडी बेटियाँ , बेटियाँ कम, अधिक सहेली हो जाती हैं,
जब घर में केवल बेटे हों, माएँ और अकेली हो जाती हैं।
शोर शराबे वाले घर में बेटी चुप का कोना है
बेटी का ही होना घर में, पूरे घर का होना है।
चुप-चुप रहती हैं बेटियाँ , माँ की चेली हो जाती हैं।
मन उड़ने का कभी हुआ तो, पंख धरे बेटी के मिलते,
मन के घाव नहीं दिखते, घाव हरे बेटी के मिलते,
जब भी टीस बढ़ी दांतों में, दवा की गोली हो जाती हैं।
अपना हिस्‍सा नहीं मांगती, खुद हिस्‍सा बन जाती हैं,
मन की आंखें वो छलनी हैं, जहाँ बेटियाँ छन जाती हैं।
उन्‍हें पता है दर्द कहाँ हैं, किस शीशी में दवा कहाँ हैं,
मन का चेहरा जब हँसता है, खिली चमेली हो जाती हैं।
औरत से औरत का रिश्ता, बिन कहे सब कह जाता है,
आँगन से नाली का पानी, धीरे धीरे बह जाता है।
बनती जब फूल बेटियाँ , खुली हथेली हो  जाती हैं
बडी बेटियाँ , बेटियाँ कम, अधिक सहेली हो जाती हैं।

--

shilpi chauhan
Research Scholar
Banasthali University.
(Rajasthan)

8 blogger-facebook:

  1. बेनामी4:46 pm

    bahut achhi abhivyakti hai apki.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. shweta dubey (banasthali vidyapith)11:13 am

    oye shilpi... bahut pyari si kavita hai... betiyo ka naam roshan kar diya tumne kavita me. all the best.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------