मंगलवार, 8 मई 2012

प्रभुदयाल श्रीवास्तव की हास्य व्यंग्य रचना - नोंक झोंक घर की - मेडम टीवी चलाओ

नोक झोंक घर की
मेडम टी. वी. चलाओ


सर उवाच

मेडम टी वी चलाओ मेडम टी वी चलाओ
अच्छे अच्छे प्रॊग्राम मिस न करोओ

एक चेनल में कितने अच्छे लोकगीत हैं आ रये
और दूसरे चेनल में सलमान खान हैं गा रये
तीजे चेनल में री मेडम प्रीटी जिंटा नच रईं
और चौथे में मेडम कैसीं रीना राय उचक रईं|
देरी न लगावा देरी न लगाव
अच्छे अच्छे प्रॊग्राम मिस न करोओ|
ज़ी टी वी के विद्या और सागर कों कैसें छोडें
सास बहु जैसे सीरियल सें कैसे मुखड़ा मोड़े
और लाफ्टर शो के जे अहसान कुरेशी देखो
मटक मटक जोनाच दिखा रये उनपे नज़रें फेंको
स्विच जल्दी सें चटकाऒ स्विच जल्दी से चटकाओ
अच्छे अच्छे प्रॊग्राम मिस न करोओ
अपने राजू श्रीवास्तव कैंसें रोज हँसा रये
सुंदर कन्याओं खों हँस के कैंसे देख फँसा रये
और चुट्कले मस्ती करकें हमकों मटक सुना रये
खुद नच रये हैं मटक मटक कें सब जग खों नचवा रये
टेम यूं न गवांओ टेम यूं न गंवाओ
अच्छे अच्छे प्रॊग्राम मिस न करोओ

कितनो अच्छो प्रॊग्राम सरकारी चेनल दे रओ
टेस्ट मेच तो क्रकेट को भुँसारे सें ही हो रओ
कीने छक्का मारो है और् कीने केच झपट लओ
कछु नहीं मालूम पड़ रओ है कीने मेच लपक लओ
हमखों यूं न तरसाओ हमखों यूं न त्रसाओ
अच्छे अच्छे प्रॊग्राम मिस न करोओ


मेडम उवाच......

देखो प्यारे प्यारे सैंयाँ रोज ने टी वी देखो
अपनॆ तन और मन खों देखो और खुद खों अवलोको
आंखें कैसी लाल हो गईं सूज कें मोरे सैंयां
टी वी ने अब पार लगेहे तोरी जीवन नैया
मन कर्मों में लगाव धर्मों में लगाव
अच्छे अच्छे प्रॊग्राम मिस ने कराओ

टी वी में तो कितने गंदे प्रागराम हें आ रये
बाप मतारी के संगे तो देखे तक ने जा रये
अपनो कल्चर हिंदुस्तानी डूब रहो है सैंयां
डूब रही है किश्ती अपनी कोऊ नैइं खिवैया
कल्चर खों बचाओ कल्चर खों बचाओ
अच्छे अच्छे प्रॊग्राम मिस ने कराओ

रोज रात दिन फिल्में आ रईं हो रये सब दीवाने
आंखें फाड़त देखत बच्चे बूढ़े और स्याने
पास पड़ोसी रिश्तेदारी में कोऊ आ न जा रओ
फिल्मों और सीरीयल में फंस अपनो समय गवां रओ
अपनो तन ने मिटाओ अपनों मन ने भटकाओ
अच्छे अच्छे प्रॊग्राम मिस् ने कराऒ


सर उवाच

मेडम तोरी बातें मोखों कछु समझ ने आ रईं
कौन जमाने सें तुम मेडम सोकें उठकें आ रई
ंदुनिया वारे अपने रंग में कि्तने आगे बढ़ गये
जो रे गये पोंगा पंथन में बिल्कुल आज पिछड़ गये
लाओ अब तो बदलाओ नये जमाने में आओ
अच्छे अच्छे प्रॊग्राम मिस ने कराओ

और पुरानी बातों पे नई बातें हावी हो गईं
जिनखो कल बीवी कहते थे आज वे मेडम हो गईं
पहिन सूट सलवार वॆ मेडम चला रहीं स्क्रूटर
और कार में घूम रईं फर्रटे भरकें निर्डर
खूब टी वी चलाओ सैंयाँ टी वी चलाओ
अच्छे अच्छे प्रॊग्राम मिस ने कराऒ

                                                s

2 blogger-facebook:

  1. bahut achhe sir gharo me t.v ko lekar hoti tu-tu mai-mai par acchi ,sarthak or majedar prastuti ....badhai

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी10:01 pm

    Thanks
    Prabhudayal

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------