शशांक मिश्र भारती की तीन कविताएं

 

असमंजस

शशांक मिश्र भारती

समुद्र से उठा

मनोंभावों का ज्‍वार

जलने लगा हृदय

आस-पास के वातावरण को देखकर

शक्‍ति क्षीण हो गई

अकस्‍मात हृदय में-

भावों की क्रान्‍ति हो गई,

विचार किया कि -

सामना किया जाए

प्रतिकूल परिवेश से

और-

उसे अनुकूल बनाया जाए

अनुकूल बनाने के लिए

संघर्ष की वीणा उठा ली

निरन्‍तर प्रयत्‍न किया

जटिलताओं से जूझा

मानसिक व्‍यथाओं को सहा

तब-

आ सका हूं इस मंजिल पर

लेकिन-

देखकर आगे का पथ

उलझ जाता हूं मैं-

असमंजस में।

 

अभाव

मैं-

चाहता हूं छोड़ दूं

सतत्‌ कठिनाईयों से पूर्ण पथ,

किन्‍तु

समक्ष आ जाता है वह प्रेम

जिसके कारण

मैं विरोधी रहा हूं,

उन भाषाओं और भाषाविदों का

विकास में बाधक रहे हैं-

जो देवनागरी के,

किन्‍तु-

मैं कुछ कर नहीं कर पाया हूं

देवनागरी के विकास में,

जिसका कारण

मेरे मन में व्‍याप्‍त व्‍यथाएं

और-

उचित मार्गदर्शन का अभाव।

 

प्रतिबिम्‍ब

आज-

जब से उठा हूं देख रहा हूं

उस प्रतिबिम्‍ब को

जो मेरे सामने फैला है,

समक्ष आ जाता है

लुप्‍त हो जाता है

दूर आते ही-

फिर चमक जाता है

सोचता हूं-

जिसने-

अर्द्धविक्षिप्‍त सा

बना दिया है मुझे

जिसका रहस्‍य

रहस्‍य ही रह गया

आखिर क्‍या है वह प्रतिबिम्‍ब।

 

सम्‍पर्कः-हिन्‍दी सदन बड़ागांव

शाहजहांपुर-2424010प्र0

09410985048

ईमेल:-shashank.misra73@rediffmail.com

-----------

-----------

0 टिप्पणी "शशांक मिश्र भारती की तीन कविताएं"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.