रविवार, 13 मई 2012

शेर सिंह की कविता - मां

कड़ी धूप में घनी छांव है मां

गंगा की बहती जलधारा है

हर दुख - तकलीफ की ढाल

एक पवित्र आत्‍मा का नाम है मां ।

ईश्‍वर- भगवान को तो नहीं देखा है

लेकिन ईश्‍वर- भगवान भी क्‍या भिन्‍न होंगे मां से

सोचता हूं ईश्‍वर- भगवान भी मां जैसे ही होंगे

हर बला से बचाती है मां ।

कोई विपति दुष्‍प्रभाव डाले इस से पूर्व ही

झेल लेती है, सह लेती है मां

स्‍वयं कांटों से हो कर गुजरती है

लेकिन अपने बच्‍चों की राह निष्‍कंटक बनाती मां ।

सिर पर सुखद छत है मां

हर आशा और विश्‍वास की डोर है मां

दुनिया की हर बुरी नजर से बचाती

एक रक्षा कवच का नाम है मां ।

स्‍वयं सहे लेकिन अपने बच्‍चों को न पहुंचे ठेस

सहनशीलता की जीवंत प्रतिमा है मां

अपने विश्‍वास को टूटते देख कर भी

अपने आंचल में फिरभी छिपाने को तत्‍पर मां ।

अपने मन के घावों, चोटों को

सब से छिपाती, झुठलाती है मां

तिरस्‍कारों, उपेक्षाओं को अनदेखा कर

दया और ममता का अथाह सागर मां ।

--

0 शेर सिंह

के.के. - 100

कविनगर, गाजियाबाद -201 001

E Mail- shersingh52@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------