शेर सिंह की कविता - मां

कड़ी धूप में घनी छांव है मां

गंगा की बहती जलधारा है

हर दुख - तकलीफ की ढाल

एक पवित्र आत्‍मा का नाम है मां ।

ईश्‍वर- भगवान को तो नहीं देखा है

लेकिन ईश्‍वर- भगवान भी क्‍या भिन्‍न होंगे मां से

सोचता हूं ईश्‍वर- भगवान भी मां जैसे ही होंगे

हर बला से बचाती है मां ।

कोई विपति दुष्‍प्रभाव डाले इस से पूर्व ही

झेल लेती है, सह लेती है मां

स्‍वयं कांटों से हो कर गुजरती है

लेकिन अपने बच्‍चों की राह निष्‍कंटक बनाती मां ।

सिर पर सुखद छत है मां

हर आशा और विश्‍वास की डोर है मां

दुनिया की हर बुरी नजर से बचाती

एक रक्षा कवच का नाम है मां ।

स्‍वयं सहे लेकिन अपने बच्‍चों को न पहुंचे ठेस

सहनशीलता की जीवंत प्रतिमा है मां

अपने विश्‍वास को टूटते देख कर भी

अपने आंचल में फिरभी छिपाने को तत्‍पर मां ।

अपने मन के घावों, चोटों को

सब से छिपाती, झुठलाती है मां

तिरस्‍कारों, उपेक्षाओं को अनदेखा कर

दया और ममता का अथाह सागर मां ।

--

0 शेर सिंह

के.के. - 100

कविनगर, गाजियाबाद -201 001

E Mail- shersingh52@gmail.com

-----------

-----------

0 टिप्पणी "शेर सिंह की कविता - मां"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.