मंगलवार, 15 मई 2012

मुरादाबाद में गजल- गोष्ठी - एक रपट

image

मुरादाबाद की साहित्यिक एवं सामाजिक संस्था ‘परमार्थ’ के तत्वावधान में दिनांक 12 मई,2012 को नवीन नगर कॉलोनी स्थित मानसरोवर कन्या इंटर कॉलेज के सभागार में सम्मान समारोह एवं गजल- गोष्ठी का आयोजन किया गया जिसमें मेरठ से पधारे वरिष्ठ शायर श्री कृष्ण कुमार ‘बेदिल’ को उनके उल्लेखनीय साहित्य सृजन के लिए ‘ब्रजपाल सरन स्मृति शब्द-साधक सम्मान’ से सम्मानित करते हुए उन्हें प्रतीक चिन्ह, मानपत्र, अंगवस्त्र, श्रीफल नारियल तथा सम्मान राशि भेंट की गयी। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाकवि श्री ब्रजभूषण सिंह गौतम ‘अनुराग’ ने की तथा मुख्य अतिथि प्रसिद्ध शायरा डॉ. मीना नकवी एवं विशिष्ट अतिथि चंदौसी (भीमनगर) के शायर श्री प्रफुल्ल रंजन ‘साबिर’ रहे।
सम्मान समारोह के कार्यक्रम में सर्वश्री मनोज ‘मनु’, विवेक ‘निर्मल’, शचीन्द्र भटनागर, कृष्ण कुमार ‘नाज+’, अशोक विश्नोई, डॉ. अजय ‘अनुपम’, अम्बरीश गर्ग, ओंकार सिंह ‘ओंकार’, योगेन्द्रपाल सिंह विश्नोई, ”शिशुपाल ‘मधुकर’, शिवअवतार ‘सरस’, रामदत्त द्विवेदी, विकास मुरादाबादी, उदयप्रकाश सक्सेना ‘अस्त’, परशुराम ‘नयाकबीर’ आदि साहित्यकार उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन श्री योगेन्द्र वर्मा ‘व्योम’ ने किया तथा आभार अभिव्यक्ति संस्था के अध्यक्ष श्री विवेक ‘निर्मल’ ने प्रस्तुत की।


-विवेक ‘निर्मल’
अध्यक्ष
साहित्यिक एवं सामाजिक संस्था ‘परमार्थ’
मुरादाबाद

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------