प्रेम जनमेजय का पत्र

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

साहित्य जगत में रचनाकारों के पत्रों को प्रकाशित करने की परंपरा रही है. कई रचनाकारों के पत्र तो साहित्यिक दस्तावेज जैसे ही रहे हैं.

इसी परंपरा में रचनाकार.ऑर्ग को मिले पत्रों को स्कैन कर (उनकी स्वयं की हस्तलिपि में) प्रकाशित किया जा रहा है ताकि सनद रहे.

यदि आपके पास चर्चित व प्रसिद्ध साहित्यकारों के पत्र हैं तो उन्हें स्कैन कर रचनाकार.ऑर्ग को भेजें अथवा डाक द्वारा भेजें जिसे स्कैन कर यहाँ प्रकाशित किया जाएगा.

DSCN9378

DSCN9379

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "प्रेम जनमेजय का पत्र"

  1. मित्र, क्या ऑनलाइन कमाई की जा सकती है?

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.