रविवार, 17 जून 2012

धर्मेन्द्र कुमार सिंह की कहानी : आँखों के साँप

Image014 (Custom)

कजरी गाँव से नई नई आई थी शहर में अपने मामा के पास। उसकी माँ और तीन छोटी बहनें गाँव में ही थे। उसका बाप चौथी बेटी के जन्म के बाद घर छोड़कर भाग गया था ऐसा गाँव के लोग कहते थे। उसकी माँ का कहना था कि उसका बाप इलाहाबाद के माघ मेले में नहाने गया था और मेले के दौरान संगम के करीब जो नाव डूबी थी उसमें उसका बाप भी सवार था। जिन लोगों को थोड़ा बहुत तैरना आता था उनको तो बचा लिया गया पर जो बिल्कुल ही अनाड़ी थे उनको गंगाजी ने अपनी गोद में सुला लिया। तब वह छह साल की थी। उसकी माँ ने पुलिस में रिपोर्ट भी लिखाई थी। तत्कालीन दरोगा का घर इलाहाबाद में था इसलिए जब तक वो थाने में रहा उसने इस केस के नाम पर हर शनिवार इलाहाबाद का कार्यालयीन दौरा किया, उसका तबादला होने के बाद नए दरोगा ने कुछ दिन इधर उधर करके यह लिखकर मामला बंद कर दिया कि उस डूबी हुई नाव में उसका बाप भी सवार था। नाव वाले अपनी सवारियों का नाम पता लिखकर बैठाते नहीं और गोताखोर सारी लाशें ढूँढ नहीं पाते। रिपोर्ट की एक प्रति नया दरोगा उसकी माँ को दे कर गया था जो उसकी माँ ने सँभाल कर रख ली थी। उनकी झोपड़ी और थोड़ी सी जमीन जो झोपड़ी के पीछे थी उसके बाप के नाम पर थी।

उसकी माँ दूसरों के घरों में झाड़ू पोंछा बर्तन (कुछ संज्ञाओं को समय क्रिया बना देता है और कुछ क्रियाओं को संज्ञा) करती थी। पहले तो वह अपनी माँ के जाने के बाद दिनभर झोपड़ी में अपनी बहनों की देखभाल करती थी पर जब उससे छोटी वाली बहन थोड़ा बड़ी हो गई तो कजरी की माँ कजरी को भी अपने साथ हाथ बँटाने के लिए ले जाने लगी। वक्त बीतने लगा और देखते ही देखते कजरी बारह साल की हो गई। वो बिल्कुल अपनी माँ पर गई थी। उसका भी रंग हल्का साँवला और बदन भारी था। बारह साल की उम्र में ही उसका बदन चौदह पंद्रह साल की लड़कियों जैसा लगने लगा था। एक दिन उसकी माँ बीमार पड़ गई और उसने अकेले ही कजरी को काम पर भेज दिया। पहले दो घरों का काम निबटाने के बाद जब वो तीसरे घर में पहुँची तो घर के मालिक रामकिशोर पांडेय अपनी दैनिक पूजा में व्यस्त थे। उसने घर में जाकर देखा सारा घर सूना पड़ा हुआ है।

कजरी ने उनके पास जाकर पूछा, “पंडित जी प्रणाम, पंडिताइन और घर के बाकी लोग कहाँ चले गए।”

“सब मंदिर गए हैं आ रहे होंगें। जाओ अपना काम करो और मुझे पूजा करने दो।”

उसने पोंछा उठाया और बगल वाले कमरे की तरफ चली गई। थोड़ी देर बाद पांडेय जी अपनी पूजा समाप्त करके आए और देखा कि कजरी उनके ही कमरे में पोंछा लगा रही थी।

अचानक उन्होंने कहा, “अरे मैंने यहीं सौ का नोट रखा था कहाँ गया”।

कजरी ने कहा, “मुझे क्या मालूम, मैंने तो यहाँ कोई नोट नहीं देखा”।

“अच्छा बड़ी ईमानदार बनती है, रुक जा अभी तेरी तलाशी लेता हूँ”।

“तलाशी लेनी है तो ले लीजिए लेकिन बेवजह इल्ज़ाम मत लगाइए”। कहकर कजरी ने पंडित जी के चेहरे की तरफ देखा।

अचानक कजरी को पंडित जी की आँखों में एक साँप दिखाई पड़ा, वैसा ही साँप जैसा कुछ दिन पहले उसने अपनी झोपड़ी के पीछे खेतों में देखा था। जिसको देख कर वो इतना डर गई थी कि कुछ पलों तक एकदम जड़ होकर रह गई। लेकिन वो साँप तो कजरी की आहट पाते ही भागने लग गया था। तभी कजरी ने देखा कि साँप पंडित जी की आँखों से बाहर निकल आया और उसने पंडित जी को डस लिया। पल भर में पंडित जी कजरी के सामने मरे पड़े थे और वो साँप अब धीरे धीरे कजरी के करीब आ रहा था। कजरी डर के मारे हिल भी नहीं पा रही थी। जैसे ही साँप का मुँह उसके पाँवों की अँगुलियों से छुआ उसको लगा बर्फ़ का एक टुकड़ा उसकी अँगुलियों के बीच रख दिया गया हो। उसका पैर काँप उठा साँप धीरे धीरे उसके पैरों को अपनी कुंडली में लपेटता हुआ ऊपर की ओर बढ़ने लगा और वो अपने पैरों को काँपने से रोकने की भरपूर कोशिश करने लगी। उसकी माँ ने कहा था कि साँप के सामने लाश की तरह साँस रोककर बिना हिले डुले खड़ी हो जाओ तो साँप काटता नहीं। आज माँ की बात की सच्चाई परखने का समय आ गया था। साँप ने जब उसके फ़्राक के भीतर मुँह घुसेड़ा तो साँस रोकने के बावजूद उसके मुँह से हल्की सी चीख निकल गई। उसने अपनी आँखें कस कर बंद कर लीं। साँप ने एक पल के लिए उसके फ़्राक से बाहर मुँह निकाला और उसकी आँखें बंद देखकर फिर उसके पैरों से लिपटता हुआ ऊपर चढ़ने लगा। कजरी का पैर साँप के ठंढे शरीर की वजह से धीरे धीर सुन्न पड़ता जा रहा था। जब साँप का मुँह उसकी जाँघों से ऊपर की ओर बढ़ा तो उसके मुँह से एक जोर की चीख निकली और न जाने कैसे उसने अपने पैर को जोर से झटक दिया। साँप की कुंडली खुल गई और वो दीवाल से टकराकर नीचे गिरा। कजरी ने देखा कि अचानक पंडित जी जिंदा हो उठे और साँप जल्दी से उनकी आँखों में घुसकर गायब हो गया।

उसने घर पहुँचकर सारी कहानी अपनी माँ को सुनाई तो उसकी माँ को विश्वास ही नहीं हुआ। उसकी माँ बोली, “ऐसा तो पुराने किस्से कहानियों में होता था लेकिन सचमुच में ऐसा कहीं होता है? साँप तो आदमी को देखते ही भाग जाता है और वो तो पंडित जी हैं भूतों पिशाचों को भी अपने मंतर से वश में कर लेते हैं तो एक साँप की क्या मजाल। तू ये बता फिर पंडित जी ने रूपयों के बारे में क्या कहा।”

कजरी बोली, “दुबारा जिंदा होने के बाद पंडित जी ने कहा कि हो सकता है पंडिताइन ने नोट उठा लिया हो या मैंने ही कहीं और रखा हो”।

“चलो अच्छा है वरना बेवजह चोरी का इल्ज़ाम लगता और गाँव के बाकी घरों में भी काम मिलना मुश्किल हो जाता।”

लेकिन कजरी को यकीन था कि जो कुछ उसने देखा वो सब सच था। उसके दिमाग में तरह तरह के विचार आने लगे। वो सोचने लगी क्या हर आदमी की आँख में साँप रहता है? क्या ऐसा भी होता है कि कुछ आदमी साँप के विष से मरने के बाद दुबारा जिंदा ही न हो सकें? क्या सारे साँप आदमियों की आँखों में ही छिपकर रहते हैं? सोचते सोचते उसके मन में साँपों के प्रति एक अजीब सा डर पैदा हो गया। उसने अपनी माँ से कह दिया कि अब से वो अकेले पंडित जी के घर नहीं जाएगी उसे साँपों से बहुत डर लगता है। उसके बाद जब भी वो अपनी माँ के साथ पंडित जी के घर में पोंछा कर रही होती उसे वही साँप अक्सर पंडित जी की आँखों से बाहर निकलने को बेताब दिखाई पड़ता। वो अपनी माँ के कान में जाकर बताती मगर जब तक उसकी माँ देखती साँप गायब हो जाता। धीरे धीरे उसे वही साँप एक दो और घरों के आदमियों की आँखों में दिखाई पड़ने लगा। अक्सर वो भोर में सपना देखती कि एक साँप ने उसको अपनी कुंडली में जकड़ रखा है। वो छूटने की कोशिश कर रही है मगर सारी ताकत लगाकर भी वो हिल तक नहीं पाती। आखिरकार वो थककर चूर हो जाती और छटपटाने की कोशिश भी बंद कर देती तब साँप उसके होंठों पर डस लेता और वो चीखते हुए उठ जाती। उसकी माँ ओझा के पास से ताबीज ले आई, मौलवी से कलमा पढ़वाकर नमक खिलाया, पंडित से मंतर मरवाकर प्रसाद खिलाया मगर कोई फायदा नहीं हुआ।

कुछ दिन बाद शहर से कजरी का मामा आया। वो शहर में रिक्शा चलाता था और कजरी की मामी लोगों के घरों में झाड़ू पोंछा करती थी। उनकी शादी को पंद्रह साल हो गए थे लेकिन कोई बच्चा नहीं हुआ था। कजरी की माँ ने उनको सपने के बारे में बताया। उसके मामा ने कहा, “जरूर किसी ने भूत परेत कर दिया है। गाँव में लोगों को कोई काम धाम तो है नहीं बस भूत परेत करते रहते हैं। शहर में ये सब नहीं होता। वहाँ किसको इतनी फुर्सत है कि दूसरों के घरों मे झाँके। सब अपने अपने में मस्त। हमें तो कोई औलाद दी नहीं भगवान ने। कजरी को हमारे साथ भेज दो। अब तो तुम्हारी दूसरी बेटी भी काम करने लायक हो गई है, उसे काम पर ले जाया करो। कजरी शहर में रहेगी तो कुछ शऊर सीख जाएगी, यहाँ रहेगी गँवार की गँवार बनी रहेगी और ऊपर से ये भूत-परेत। इसको हम गोद ले लेते हैं।”

कजरी की माँ को अपने भाई की बात सही लगी और कजरी आ गई गाँव से शहर। अगले दिन उसकी मामी उसे लेकर राहुल शर्मा के घर गई। राहुल शर्मा एक प्राइवेट कंपनी में मार्केटिंग मैनेजर थे। उनकी पत्नी ललिता शर्मा बच्चों के स्कूल में पढ़ाती थीं। पति पत्नी की जोड़ी किसी रोमांटिक फ़िल्म के नायक नायिका जैसी थी। अभी चार महीने पहले उनको पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई थी। राहुल की माँ ललिता और बच्चे की देखभाल के लिए आई हुई थीं मगर एक हफ़्ते बाद वो वापस उसके पिता और छोटे भाई के पास जाने वाली थीं। कस्बे में राहुल के पिता की परचून की दूकान थी और राहुल का भाई भी उनके साथ दूकान में हाथ बँटाता था। राहुल और उनकी पत्नी दोनों नौकरी करते थे इसलिए बच्चा सँभालने के लिए स्थायी रूप से किसी को रखना चाहते थे जो सुबह से शाम तक बच्चे की देखभाल कर सके। कजरी का मामा कजरी को इसीलिए गाँव से ले आया था।

राहुल शर्मा उसे देखते ही बोले, “अरे ये तो अभी बच्ची है इससे काम करवाना तो कानूनन जुर्म है। अगर आपसे कोई पूछे तो किसी से कहिएगा नहीं कि ये हमारे यहाँ काम करती है। कह दीजिएगा यहाँ पढ़ने आती है।”

“जैसा आप कहें।” कहकर उसकी मामी उसे शाम तक वहीं रहकर बच्चा सँभालने की हिदायत देकर चली गईं।

कजरी की निगाह राहुल की आँखों पर गई। वहाँ उसे कोई साँप नहीं दिखाई पड़ा। उसे राहत मिली। ललिता ने उसको समझाया दी कि बच्चा जब रोए तो कैसे बच्चे का दूध गर्म करना है फिर बॉटल और निपल उबालना है। उसके कपड़े और डायपर कैसे बदलने हैं। सारी हिदायत देकर दोनों पति पत्नी अपने काम पर चले गए। कजरी के दिन आराम से कटने लगे। अब उसे लोगों की आँखों में साँप दिखाई देना काफी कम हो गया था। उसे अपने मामा और राहुल की आँखों में वो साँप अब तक कभी नहीं दिखा इसलिए धीरे धीरे वो पूरी तरह निश्चिंत हो गई।

दो साल और बीत गए। कजरी थी तो चौदह साल की लेकिन शरीर भारी होने के कारण अठारह की लगने लगी थी। एक दिन वो पोंछा मार रही थी और ललिता स्नान कर रही थी। अचानक कजरी की निगाह ऊपर उठी तो उसने देखा राहुल उसे ही देख रहे हैं और उनकी आँखों में भी एक साँप लहरा रहा है। पर कजरी से निगाह मिलते ही वो साँप डर कर भाग गया। कजरी को लगा कि ये वही खेत वाला साँप है जो इंसानों से डरकर भाग जाता है। कजरी को आज थोड़ी खुशी हुई कि उसके पास साँप को डराकर भगाने की भी ताकत है। अब कजरी जानबूझकर तभी पोंछा लगाती जब ललिता स्नान करने के लिए जाती ताकि वो राहुल की आँखों के साँप पर अपनी ताकत आजमा सके। उसने कई बार राहुल की आँखों में साँप को आते और डरकर भागते देखा। अब ललिता को ये एक तरह का खेल लगने लगा और इसे खेलने में उसे मजा आने लगा। धीरे धीरे ललिता में आत्मविश्वास जागने लगा कि वो जब चाहे राहुल की आँखों में साँप को बुला सकती है और फिर उसे पलक झपकते ही भगा सकती है।

एक दिन रात में अचानक कोई आवाज सुनकर ललिता की नींद टूट गई। उसने अँधेरे में इधर उधर देखा पर उसे कुछ भी नहीं दिखा। कुछ क्षण बाद वही आवाज़ दुबारा आई तो उसे पता लगा कि आवाज़ उस कमरे से आ रही है जिसमें उसके मामा मामी सोते हैं। उसने दरवाज़े की झिरी से अंदर झाँका तो दंग रह गई। कमरे की लाइट जली हुई थी और उसकी मामी बिना कपड़ों के लेटी हुई थीं। एक मरियल से साँप ने उनको अपनी कुंडली में जकड़ रखा था। साँप बार बार उसकी मामी के होंठों पर डस रहा था। एक नागिन उसकी मामी के एक तरफ़ मरी पड़ी थी और दूसरी तरफ़ उसके मामा मरे पड़े थे। थोड़ी देर तक यही क्रम जारी रहा फिर अचानक उसके मामा जिंदा हो गए और वो साँप उनकी आँखों में समा गया। उसके मामा के सोने के बाद वो नागिन भी जिंदा हो गई और उसकी मामी की आँख में जाकर गायब हो गई। उसे आश्चर्य हुआ कि ये दोनों भी जानते हैं आँखों में रहने वाले साँप के बारे में तो उसकी कहानी पर विश्वास क्यों नहीं करते। अचानक उसे लगा कि उसकी आँखों में कुछ चुभ रहा है। उसने धीरे से अपने कमरे का बल्ब जलाया और आइना उठाकर अपना चेहरा देखा। उसकी मुँह से चीख निकलते निकलते रह गई। एक नागिन उसकी आँखों से धीरे धीरे बाहर आ रही थी। अचानक नागिन तेजी से बाहर निकली और उसने कजरी को डस लिया। उसके बाद उसकी नींद तब खुली जब उसकी मामी दरवाजा खटखटा रही थी। वो जल्दी से उठी और अपने काम में जुट गई। आज उसे अपना बदन फूलों जैसा हल्का फुल्का लग रहा था। उसे आज एक नई बात पता चली कि औरतों की आँखों में नागिन रहती है।

एक दिन कजरी जब राजेश के घर गई तो राजेश को हल्का बुखार था। उसने आफ़िस से छुट्टी ले ली थी और एक क्रोसिन खाकर बिस्तर पर पड़ा हुआ था। ललिता ने उसे बच्चे के साथ साथ राजेश का ख्याल रखने की भी हिदायत दी और स्कूल चली गई। डेढ़ घंटे बाद राजेश की तबीयत कुछ सुधरी तो उसने ललिता से पानी माँगा। वह पानी लेकर राजेश के पास गई तो उसे वही साँप फिर राजेश की आँखों में दिखाई पड़ा। उसने उसे डराकर भगाने की कोशिश की मगर वह न तो डर कर भाग रहा था न ही बाहर निकल रहा था। कजरी को न जाने क्यूँ अब इस साँप से डर नहीं लगता था। राजेश ने कजरी को खाना लगाने के लिए कहा। खाना लगाने के बाद कजरी वहीं राजेश के सामने ही डाइनिंग टेबल पर बैठ गई। साँप लगातार राजेश की आँखों में दिखाई पड़ रहा था। थोड़ी देर बाद कजरी को अपनी आँखों में चुभन महसूस हुई। वो उठकर बाथरूम में गई तो उसे वही नागिन दिखाई पड़ी जिसने उस रात उसे डसा था। वह वापस आकर फिर कुर्सी पर बैठ गई। अचानक दोनों की आँखें मिलीं। कजरी ने सोचा क्या राजेश को पता है कि उसकी आँखों में नागिन रहती है? क्या मेम साहब की आँखों में भी नागिन रहती है? पर उसने तो कभी मेम साहब की आँखों में नागिन नहीं देखी। अचानक साँप राजेश की आँखों से बाहर निकला और उसने राजेश को डस लिया। कजरी के सामने राजेश मरा पड़ा था और साँप धीरे धीरे उसकी तरफ बढ़ रहा था। उसे लगा कि साँप अब भी उससे डर रहा है। अचानक कजरी की आँखों से नागिन बाहर निकली और उसने कजरी को डस लिया।

उसके बाद जब कजरी की आँखें खुलीं तो उसने अपने आप को राजेश के साथ बिना कपड़ों के बेड पर लेटा पाया। राजेश गहरी नींद सो रहा था और साँप शायद वापस उसकी आँख में घुसकर गायब हो गया था। उसने घड़ी देखी मेमसाब के आने का समय हो गया था। उसने फटाफट राजेश को जगाया। अब राजेश की आँखों में उसे वह साँप नहीं दिखाई दे रहा था। दोनों ने जल्दी से अपने कपड़े पहन लिए। कजरी की कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि अगर सब की आँखों में साँप रहता है तो लोग उसकी बात का विश्वास क्यों नहीं करते। उसने राजेश से पूछा क्या आपको मेरी आँखों में नागिन दिखी थी। राजेश ने हाँ में सिर हिला दिया। फिर उसने अपनी कहानी राजेश को सुनाई और ये भी बताया कि लोग उसकी बात का विश्वास ही नहीं करते। राजेश ने कहा कि उसे कजरी पर पूरा विश्वास है। ये सुनकर कजरी खुश हो गई। उस रात कजरी ने सपना देखा कि राजेश के बेडरूम में वो दोनों मरे पड़े हैं और राजेश की आँखों का साँप और उसकी आँखों की नागिन एक दूसरे के इर्द गिर्द लिपटकर झूम रहे हैं। लेकिन उसे इस सपने से बिल्कुल भी डर नहीं लगा।

इसके बाद महीने में तीन चार बार राजेश घर में अकेले रहने का कोई न कोई बहाना ढूँढ ही लेता। कभी दफ़्तर से जल्दी आ जाता, कभी सर दर्द का बहाना करके घर में ही पड़ा रहता। एक दिन वो दफ़्तर से जल्दी घर आया तो देखा कजरी बिस्तर पर पड़ी हुई है।

उसने कजरी से पूछा, “क्या हुआ तबियत ठीक नहीं है क्या?”

वो बोली, “नहीं सारे बदन में अजीब सा दर्द है। सर भारी भारी लग रहा है।”

राजेश ने उसका माथा छुआ। कजरी को तेज बुखार था। वो उसे लेकर अपने मित्र अनुज के पास गया। राजेश और अनुज इंटर तक एक ही स्कूल में पढ़े थे। उसके बाद राजेश ने इंजीनियरिंग करके एमबीए कर लिया था और अनुज एमबीबीएस और फिर मेडिसिन में एमडी करके राजेश के घर से थोड़ी दूर स्थित एक बड़े प्राइवेट हास्पिटल में नौकरी कर रहा था। राजेश ने अनुज को कजरी के बारे में बताया। अनुज ने कजरी की आँखें देखीं। आँखें लाल हो रही थीं। कजरी ने अनुज की आँखें देखीं उसमें उसे साँप नहीं दिखाई पड़ा।

अनुज ने राजेश से कहा, “लगता है इसे मलेरिया हो गया है। इसके खून की जाँच करनी पड़ेगी।”

खून की जाँच रिपोर्ट देखकर अनुज को झटका लगा।

उसने राजेश से कहा, “अरे ये लड़की तो प्रेगनेंट है। ये तो पुलिस केस है। नाबालिग के साथ रेप का मामला है।”

उसके बाद राजेश ने अनुज को एक कोने में ले जाकर सारी बात समझाई कि इसमें उसका कोई कसूर नहीं है वो चाहे तो कजरी से पूछ ले। जो कुछ किया है आँखों में रहने वाले साँप ने किया है। वरना वो तो एक सीधा सादा इज्जतदार आदमी है और कानून की बहुत इज़्जत करता है। अनुज ने कजरी से पूछा तो कजरी ने उसे भी साँप वाली कहानी सुनाई। कजरी ने देखा कि वो कहानी सुनने के बाद अनुज की आँखों में भी वैसा ही साँप दिखाई पड़ने लगा है। अनुज ने किसी तरह कजरी का गर्भपात कराया और आगे से राजेश को साँप से सावधान रहने की हिदायत दी। लेकिन अगले दिन शाम को ललिता के आने से बहुत पहले अनुज और राजेश दोनों घर आ गए। कजरी ने देखा दोनों की आँखों में साँप लहरा रहे हैं। आज उसे राजेश की आँखों के साँप से भी डर लगा। फिर अचानक कजरी ने देखा कि दोनों की आँखों से साँप बाहर निकले और दोनों को डस लिया। पल भर में कजरी के सामने दोनों मरे पड़े थे। दोनों साँप तेजी से कजरी की ओर बढ़े। कजरी की आँखों से आज कोई नागिन नहीं निकली। आज वो साँपों को देखकर डर से काँप रही थी। फिर दोनों साँपों ने उसे एक साथ अपनी कुंडली में जकड़ लिया। अचानक न जाने कहाँ से कजरी में इतनी ताकत आ गई कि उसने जोर से झटका दिया और दोनों साँप जाकर दीवार से टकराए। उसने जल्दी से दरवाजा खोला और बाहर निकलते निकलते उसने देखा कि राजेश और अनुज जिंदा हो गए हैं और दोनों साँप उनकी आँखों में समा रहे हैं।

अगले दिन कजरी काम पर नहीं आई और उसका मामा राजेश के घर आया।

ललिता ने पूछा, “आज कजरी क्यों नहीं आई। आज बच्चा कौन सँभालेगा।“

कजरी के मामा ने कहा, “आज कजरी बीमार है और बच्चा वो खुद सँभालेगा”।

ललिता के जाने के बाद राजेश आफ़िस जाने की तैयारी कर रहा था कि कजरी के मामा ने उससे कहा, “कल कजरी ने मुझे घर आने के बाद सारी बात बता दी। आपने ठीक नहीं किया मालिक। बच्ची है वो।”

राजेश को जैसे लकवा मार गया। वो तो सोचे बैठा था कि जैसे अब तक कजरी ने घर पर कुछ नहीं कहा था कल भी कुछ नहीं कहेगी। मगर ये क्या हो गया। राजेश का मुँह लटक गया।

कजरी के मामा ने मौका देखकर कहा, “मालिक अब जो हो गया सो हो गया। बात बढ़ाकर मैं आपके सुखी परिवार में आग नहीं लगाना चाहता। लेकिन मैं चाहता हूँ कि अब कजरी की शादी हो जाय और बात खत्म हो। पर मेरे पास इतने पैसे नहीं हैं कि मैं उसकी शादी कर सकूँ। समझ रहे हैं न मालिक।”

राजेश पल भर में सबकुछ समझ गया। उसके बाद कजरी के मामा ने रिक्शा बेचकर आटो खरीद लिया और उसकी मामी ने घरों में झाड़ू पोंछा लगाना बंद कर दिया। कुछ दिन के बाद कजरी की शादी चालीस साल के एक विधुर से कर दी गई जिसके दो छोटे बच्चे थे और पत्नी की मौत के बाद उसे बच्चा सँभालने वाली चाहिए थी। शादी के बाद पहली रात जब कजरी का पति उसके पास आया तो कजरी ने उसकी आँखों में वैसा ही साँप लहराता हुआ देखा। तभी कजरी ने देखा कि उसकी आँखों से नागिन चुपचाप निकली और उसने फर्श पर अपना सर पटक पटक कर दम तोड़ दिया। अचानक उसके पति की आँखों के साँप ने बाहर निकलकर उसके पति को डस लिया। अब उसका पति उसकी बगल में मरा पड़ा था और साँप उसे कुंडली में लपेटकर उसके होंठों पर डसने जा रहा था। उसके मुँह से घुटी घुटी चीख निकली और साँप बार बार उसके होंठों पर डसने लगा। कुछ देर बाद साँप ने उसे छोड़ा तो उसका पति जिंदा हो गया और साँप उसके पति की आँखों में समा गया। फर्श पर मरी हुई नागिन भी जिंदा हो गई और उसके सीने पर चढ़ कर झूमने लगी। आज उसे इस नागिन से डर लग रहा था। वो न तो उसे डस रही थी न ही उसकी आँखों में समा रही थी। बस उसके सीने पर चढ़कर झूमे जा रही थी। फिर नागिन उसके सीने से उतरी और फर्श पर कुंडली मारकर झूमने लगी। कजरी का भी मन हो रहा था कि वो भी नागिन के साथ झूमे। थोड़ी देर बाद वो भी फर्श पर बैठकर नागिन के साथ झूमने लगी। उसके बाल खुलकर बिखर गये। काफी देर तक यही चलता रहा फिर अचानक नागिन ने उसे डस लिया। सुबह जब वो उठी तो उसका पति गहरी नींद में था। वो घर के कामों में लग गई।

कई महीनों तक यही चलता रहा। एक दिन रात में उसके पति की नींद टूट गई और उसने कजरी को फर्श पर बैठकर झूमते हुए देखा। उसे नागिन नहीं दिखाई पड़ी। डर के मारे उसकी हालत खराब हो गई। उसकी समझ में कुछ नहीं आया। उसने कजरी के कंधों पर हाथ रखा तो वो चीखमार बेहोश हो गई। उसके पति ने सुबह उसके मामा से बात की तो उसके मामा ने गाँव में भूत परेत किए जाने की बात स्वीकार की। कजरी का पति उसे लेकर तुरंत एक बाबा के पास गया। कजरी को बाबा की आँखों में भी वही साँप दिखाई पड़ा। कजरी के पति ने सारी कहानी बाबा को सुनाई। कजरी ने देखा कि कहानी सुनने के बाद वो साँप बाबा की आँखों से बाहर निकलने के लिए जोर जोर से फुँफकार रहा था। बाबा ने कजरी के पति से कजरी को एक सप्ताह के लिए उनके आश्रम में छोड़ कर जाने के लिए कहा। कजरी का पति उसे छोड़कर चला गया। बाबा ने अपने चेलों से उसकी कुटिया में एक हवनकुंड बनाने के लिए कहा।

रात को जब बाहर झिल्ली जोर जोर से झनझना रही थी कुटिया के अंदर हवनकुंड में आग की लपटें उठ रही थीं। हवन कुंड के एक तरफ बाबा बैठा था। दूसरी तरफ कजरी बैठी थी और बाकी दोनों तरफ बाबा के दो चेले बैठे थे। कजरी की निगाहें बार बार बाबा की आँखों की तरफ जा रही थी जहाँ साँप जोर जोर से लहरा रहा था। बाबा ने कजरी से कहा कि अब तक जो कुछ भी उसके साथ हुआ है वो सबकुछ उसे बता दे। कजरी ने सारी बातें बाबा को बता दीं। बाबा ने कजरी को समझाया कि आँखों में रहने वाला साँप अगर कच्ची उम्र में किसी लड़की को छू ले तो वो लड़की अभिशप्त हो जाती है। उसे वही साँप जीवन भर सारे मर्दों की आँखों में दिखलाई पड़ता है। इस शाप से छुटकारा पाना बहुत मुश्किल है। अगर वो किसी को भी यहाँ हुए अनुष्ठान के बारे में बताएगी तो उसे इस शाप से छुटकारा कभी नहीं मिलेगा। ऐसा कहकर बाबा ने चेलों को बाहर जाने का इशारा किया। चेलों के बाहर जाने के बाद कजरी को फिर वही जाना पहचाना दृश्य दिखाई पड़ा। साँप बाबा की आँखों से बाहर निकला और बाबा को डँसने के बाद उसकी ओर बढ़ा। कजरी की आँखों से नागिन निकली और उसने फर्श पर फन पटक पटककर दम तोड़ दिया। धीरे धीरे साँप ने उसे अपनी कुंडली में भर लिया। जैसे ही साँप ने कजरी के होंठों पर डँसा वो जोर से चीख पड़ी। साँप बार बार उसके होंठों पर डँसने लगा और वो बार बार चीखने लगी। आश्रम में इस तरह के अनुष्ठान और चीखें आम रही होंगी इसलिए कजरी को बचाने कोई नहीं आया। कुछ देर बाद कजरी ने देखा कि नागिन जीवित हो उठी। वो तेजी से आकर उस नाग से लिपट गई। साँप ने कजरी को छोड़ दिया और नागिन से लिपटने लगा। अब कजरी के सामने साँप और नागिन एक दूसरे से लिपट लिपटकर खेल रहे थे। थोड़ी देर बाद दोनों थककर चूर हो गए और साँप और नागिन जहाँ से निकले थे वहीं जाकर गायब हो गए। कजरी को रात भर नींद नहीं आई। आज नागिन बीच में ही कैसे जिंदा क्यों हो गई और जिंदा होने के बाद उसने कजरी को डसा क्यों नहीं? ऐसे प्रश्न बार बार उसके दिमाग में घूम रहे थे मगर उसे लगता था कि उसे इन प्रश्नों का उत्तर कभी नहीं मिलेगा।

एक सप्ताह बीतने पर उसका पति वापस आया और उसे अपने साथ ले गया। कजरी की आँखों से एक महीने तक नागिन बाहर नहीं निकली। एक महीने बाद उसे पता चला कि वो गर्भवती हो गई है। रात में उसने स्वप्न देखा कि वो अस्पताल में है और नर्स उसे उसका बच्चा दिखा रही है। उसकी निगाह अपने बच्चे पर गई तो उसकी चीख निकल गई। उसे बच्चे की जगह नर्स के हाथ में कुंडली मारे बैठा साँप दिखाई पड़ा। वो चीखकर जग गई। उसने अपने पति को जगाकर सपने के बारे में बताया। उसके पति ने समझा कि भूत परेत फिर से उसके सिर पर सवार हो गए हैं। वो उसे ले जाकर फिर बाबा के आश्रम में छोड़ आया। लेकिन इस बार वहाँ हफ़्ते भर रहने के बाद उसकी हालत और खराब हो गई। आश्रम से वापस आकर एक दिन उसने अपने पेट में पल रहे साँप को मुक्के मारकर खत्म कर देने की कोशिश की। उसका पति उसे डाक्टर के पास ले गया। कजरी ने डाक्टर को बताया कि उसके पेट में साँप है और वो उसे मार डालना चाहती है। डाक्टर ने अल्ट्रासाउंड किया तो उसे कजरी के पेट में बच्चा दिखाई पड़ा। डाक्टर ने घोषित कर दिया कि कजरी की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है और बच्चा पैदा होने तक उसे अस्पताल में ही रखा जाय। उसके आठ महीने बाद कजरी को बच्चा पैदा हुआ। कजरी उसे देखकर जोर से चीखी और बेहोश हो गई। कजरी को पागलखाने में डाल दिया गया।

पागलखाने में कजरी को कभी वार्ड ब्वाय की आँखों में कभी डाक्टर की आँखों में वही साँप दिखाई पड़ता। कभी उसे लगता कि साँप उसके भीतर है और उसका पेट फाड़कर बाहर आ रहा है। वक्त बीतता गया और वक्त के साथ कजरी का पागलपन बढ़ता गया। एक बार उसने डाक्टर की आँखों में उँगलियाँ घुसेड़ने की कोशिश की। उसके बाद उसे खतरनाक पागलों के वार्ड में भेज दिया गया।

--

धर्मेन्द्र कुमार सिंह
उप प्रबंधक (जनपद निर्माण विभाग - मुख्य बाँध)
बरमाना, बिलासपुर
हिमाचल प्रदेश
भारत

--

(चित्र - नीरज की कलाकृति)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------