शनिवार, 30 जून 2012

सूरजपुरी की कविताएँ और गीत

 

image
 याद के बादल.

(गीत)

हृदय-आकाश पर मेरे,

छितरकर छा गए बादल,

तुम्हारी याद के बादल. !

 

लरज के,साथ गरजन के,

बदरिया छा गई उर पे,

कि जैसे याद के पाहुन,

भटककर आ गए घर पे,

कि भूलों की सगाई,

याद से करवा गए बादल,

तुम्हारी याद के बादल !

 

घहरकर छा रही बदरी,

मिलन को कर रही इंगित,

तडपकर टूटती बिजुरी,

धडक कर मिल गए दो दिल,

कि बिजली की तडप से

दिल जुडाते आ गए बादल,

तुम्हारी याद के बादल !

 

घटा ने थाम ली ढपली,

कि बूंदे गा रही कजली,

“बिदेसिया पी नहीं आए”-

कोयलिया दर्द से बोली

तुम्हारे दर्द से रिश्ता,

बंधाते आ गए बादल,

तुम्हारी याद के बादल !

तुम्हारी याद, बीते पल

सजाकर इस तरह बैठी,

कि जैसे कोई बिरहन रात में

दियना जला बैठी,

तुम्हारी याद को बांधे,

उतारे जा रहे बादल,

तुम्हारी याद के बादल !

 

 

प्रीत के छन्द

अधर पर खिले

प्रीत के छन्द

मुस्कान बनकर

सजन अब कौन सी

व्यथा मन की

बेचैन हो रह गई मौन

पलकों की सेज पर

महक उठे सपने

एक याद बनकर

सजन अब कौन

टीस रह गई

गलहार बनकर

घटायें सावन की

पलकॊं मे सिमट रह गई

मूक बनकर

सजन अब कौन सी

व्यथा रह गई

प्यास बनकर

अलकॊं मे बांधकर

मलयज हौले से

शुन्य अब संसार हुआ

सजन अब कौन हार

हार कर रह गई

कण्ठहार बनकर

 

१७ कपसीले बादल

कांधो पर विवशताओं का बोझ

हथेली से चिपकी-

बेहिसाब बदनाम डिग्रियां

दिल पर आशंकाओं-कुशंकाओं के-

रेंगते जहरीले नाग

निस्तेज निगाहें

पीले पके आम की तरह लटकी सूरतें

और सूखी हड्डियों के ढाचों के-

गमलों मे बोई गईं

आशाओं की नयी-नयी कलमें

और पाँच हाथ के

कच्चे धागे मे लटके-झूलते -

कपसीले बादल

जो आश्वासनों की बौझार कर

तालियों की गडगडाहट के बाद

फिर एक लंबे अरसे के लिये

गायब हो जाते हैं

और कल्पनाओं का कल्पतरु

फ़लने-फ़ूलने के पहले ही

ठूंठ होकर रह जाता है

--

गीतकार-सूरजपुरी मु.मुलताई(बैतुल)म.प्र

प्रस्तुति : गोवर्धन यादव

103 कावेरी नगर ,छिन्दवाडा,म.प्र. ४८०००१
07162-246651,9424356400

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------