शनिवार, 2 जून 2012

नियाज़ अहमद वाहिदी का ख़त सीताराम गुप्ता के नाम

clip_image002

मोहतरम गुप्ता जी, तस्लीमात।
उम्मीद है आप मयमुतअल्लिक़ीन बख़ैरियत होंगे।
     मुझे ये जानकर बहुत ख़ुशी हुई कि आप मेरे वालिद जनाब ‘नुशूर’ वाहिदी की ग़ज़लों से दिलचस्पी रखते हैं। उनकी वफ़ात के बाद मैंने उनकी किताबों की इशाअत का सिलसिला जारी कर रखा हैं थोड़ा बहुत काम हुआ है और अभी बहुत कुछ करने को बाक़ी है। आप के लिए ‘नुशूर’ साहब की ग़ज़लों का एक इंतख़ाब ‘‘सिल्के-शबनम’’ भेज रहा हूँ जिसमें वो ग़ज़ल भी शामिल है जिसके लिए आप ने लिखा है।
     ख़त का जवाब दीजिएगा और अपने बारे में लिखिएगा ताकि हम लोग आपस में मुतआरिफ़ हो सकें क्योंकि नुशूरशनासों का मैं ख़ुद फैन हूँ। मेरी वालिदा साहिबा आपको दुआ लिखवाती हैं।
फ़क़त
मुख़्लिस
नियाज़ वाहिदी
30:11:94
ख़त में उल्लिखित ग़ज़ल का देवनागरी लिप्यंतरण निम्नलिखित है :

            ग़ज़ल

कभी सुनते हैं अक़्लो-होश की और कम भी पीते हैं,
कभी साक़ी की नज़रें  देखकर पैहम  भी  पीते  हैं।

ख़िज़ाँ  की फ़स्ल  हो  रोज़े के  अय्यामे-मुबारक हों,
तबीयत  लहर पर आई  तो  बेमौसम  भी  पीते  हैं।

तवाफ़े-काबा   बेकैफ़ियते-मय   हो  नहीं   सकता,
मिला लेते हैं  थोड़ी सी  अगर ज़मज़म भी  पीते हैं।

कहाँ  की  तौबा  कैसा  इत्तिका  अहदे-जवानी  में,
अगर समझो  तो आओ तुम भी चखो हम भी पीते हैं।

कहाँ  तुम  दोस्तों के  सामने  भी पी  नहीं  सकते,
कहाँ  हम  रूबरू-ए-नासेहो-बरहम  भी   पीते  हैं।

’नुशूर’ आलूदा-ए-इस्याँ सही  फिर  कौन  बाक़ी है,
ये बातें राज़ की हैं  क़िब्ला-ए-आलम  भी  पीते हैं।

                         - ‘नुशूर’ वाहिदी

--


संकलन, लिप्यंतरण एवं प्रस्तुति :    
सीताराम गुप्ता


ए.डी.-106-सी, पीतमपुरा,
दिल्ली-110034
फोन नं. 011-27313679/9555622323
Email: srgupta54@yahoo.co.in

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------