सन्‍तोष कुमार सिंह की बाल कविता - सूरज दादा

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

सूरज दादा

सूरज दादा कितनी गर्मी

तन में पलती है।

सभी दिशायें दहक रही हैं,

धरती जलती है॥

 

टप-टप, टप-टप टपक रहा है,

श्‍वेद सभी के तन।

शोले जैसे बरसाता है,

ये नीलाभ गगन॥

 

खुशियों के आँगन सूखे हैं,

तन भी झुलस रहे।

चिड़िया के बच्‍चे हैं गुमसुम,

कल तक हुलस रहे॥

 

भला-बुरा किसने कह डाला,

गुस्‍सा फूट पड़ा।

कूँए, पोखर सूखे तपता,

जल से भरा घड़ा॥

 

वसुन्‍धरा के हर प्राणी के,

मन भी कुन्‍द हुए।

छुट्‌टी में भी सारे बच्‍चे,

घर में बन्‍द हुए॥

 

गुस्‍सा थूको, जिद भी छोड़ो,

सूरज दादा जी।

धधक रही जो आग हृदय में,

कर दो अब आधी॥

--------------

सन्‍तोष कुमार सिंह

कवि एवं बाल साहित्‍यकार

मथुरा।

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "सन्‍तोष कुमार सिंह की बाल कविता - सूरज दादा"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.