रविवार, 10 जून 2012

परितोष मालवीय का आलेख - विकलांग होता समाज



त्यमेव जयते के इस शो में आमिर खान ने विकलांगों के प्रति सरकार और समाज की उदासीनता का मुद्दा पूरी गंभीरता से उठाया। हर बार एक नए विषय को ताज़गी के साथ प्रस्तुत करना आमिर की खूबी है। सत्यमेव जयते के पहले शो के बाद जहां एक ओर आमिर की तारीफ के पुल बंधे वहीं दूसरी ओर एक ऐसा छद्म प्रगतिशील या बौद्धिक तबका ऐसा भी था जिसने इस प्रयास को भी अपने रंगीन चश्मे से देखना शुरू किया कि इसके पीछे भी बाज़ारवाद और पूंजीवादी ताकतों का षड़यंत्र पाया। आमिर पर व्यक्तिगत आरोप भी लगाए गए कि वे प्रत्येक शो के लिए तीन करोड़ रुपये मेहनताना लेते हैं। रिलायंस फाउंडेशन एक पूंजीपति की संपत्ति है और पूंजीपति कभी कोई भी अच्छा कार्य नहीं कर सकता। ऐसे लोग यह भूल जाते हैं कि पूर्व में टाटा और बिरला जैसे पूंजीपति घरानों ने अपने स्तर पर स्वेच्छा से कई अस्पताल और शिक्षा के उत्कृष्ट केन्द्र खोलें हैं। टाटा मेमोरियल जैसा अस्पताल इस देश की धरोहर है। अंबानी परिवार पर अब तक सिर्फ व्यापार तक सीमित रहने का आरोप था और वह सही भी था। परंतु रिलायंस फाउंडेशन के माध्यम से अंबानी परिवार परोपकारी कार्यों में योगदान करता दिख रहा है। इसका स्वागत ही होना चाहिए। भले ही इसके पीछे टैक्स बचत संबंधी अन्य कारण हों। सरकार धारा 80 (जी) के तहत परोपकारी कार्यों के लिए खर्च की गयी राशि को करमुक्त करती है। परंतु ऐसे कितने लोग और संस्थायें हैं जो 80(जी) के तहत दान करके कर बचाती है?

निस्संदेह यह बहुत खतरनाक प्रवृत्ति है कि समाज में घट रही प्रत्येक घटना को शक की निगाह से देखो। किसी पर भरोसा न करो, चाहे वह टीम अन्ना हो, बाबा रामदेव या आमिर खान। खुद तो कुछ करना नहीं है। इसके विपरीत जो लोग इस व्यवस्था के विरुद्ध अपने- अपने स्तर पर प्रयत्नशील हैं, उन्हें शक की निगाह से देखो और हो सके तो फेसबुक पर आलोचना कर खुद के बुद्धिजीवी होने का प्रमाण दो। सच मायने में यही पूंजीवाद का षड़यंत्र है कि व्यक्ति का व्यक्ति के ऊपर से विश्वास ही उठ जाये ताकि व्यवस्था परिवर्तन का कोई संगठित प्रयास हो ही न सके।


हमारे आसपास बहुत कुछ तेजी के साथ घटित हो रहा है। अगर पिछले एक साल की बात करें तो अन्ना आंदोलन का चढ़ाव तथा उतार, रामदेव की राजनैतिक सक्रियता, भ्रष्टाचार के कारण सत्ताधारी दल का निरंतर कमजोर होते जाना, बड़े-बड़े राजनीतिज्ञों और नौकरशाहों का हवालात के पीछे जाना, निर्मलबाबा, पॉल दीनाकरन और राधे माँ जैसे पाखंडियों का साम्राज्य फैलना और उनकी पोल खुलना, मीडिया विशेषकर इलैक्ट्रॉनिक मीडिया का दोगला चरित्र, फेसबुकिया संस्कृति का जाल फैलना, आई.पी.एल. जैसे तमाशे, प्राकृतिक साधनों का निरंतर कम होते जाना, तमाम व्यवस्थागत बाधाओं के बावजूद अग्नि 5 जैसी उपलब्धियां हासिल होना, मंदिरों/मठों और आश्रमों का निरंतर धनवान होते जाना तथा कालेधन का संग्रहण आदि कुछ ऐसी घटनायें हैं जिन्हें भारतीय नागरिक प्रायः रोज ही घटते देख रहा है और किंकर्तव्यविमूढ़ है। उसे समझ नहीं आ रहा है कि इस समाज में उसकी क्या भूमिका है? आमआदमी के पास इन तेजी से बदलते घटनाचक्र के मूक गवाह बनकर रहने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है। भारतीय जनमानस अपने खाली समय में या तो टी.वी. देखता है, या निरर्थक गप्प लगाता है। उसके सोचने-समझने की क्षमता निरंतर घटती जा रही है। और हमारा समाज धीरे-धीरे सही मायने में विकलांग होता जा रहा है।

2 blogger-facebook:

  1. पूरी तरह सह्मत हूँ । अच्छा लिखा ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पूरी तरह सह्मत हूँ । अच्छा लिखा ।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------