मंगलवार, 17 जुलाई 2012

12,000 रु. के कहानी लेखन पुरस्कार आयोजन में भाग लें

image
रचनाकार.ऑर्ग द्वारा कहानी लेखन पुरस्कार का आयोजन किया जा रहा है.
कुल 12 हजार रुपयों के पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे.
यह आयोजन आप सभी के सहयोग से किया जा रहा है. कुछ सहृदय पाठक-लेखक मित्रों ने पुरस्कार राशि व किताबों हेतु सहर्ष प्रायोजन स्वीकार किया है. आप भी सहयोग दे सकते हैं. पुरस्कार राशि व पुरस्कार स्वरूप किताबों के लिए प्रायोजन/ दान भी आमंत्रित हैं. प्रायोजकों व दान दाताओं के नाम (यदि वे चाहें) उनके सहयोग राशि सहित रचनाकार.ऑर्ग में प्रकाशित किए जाएंगे.
आप भी इस आयोजन में भाग लें एवं अपने लेखक मित्रों तक यह संदेश पहुँचाएं. आयोजन का उद्देश्य है नव-सृजन.
अधिक जानकारी व नियमावली के लिए यहाँ देखें -
http://www.rachanakar.org/2012/07/blog-post_07.html
आपकी सक्रिय भागीदारी अपेक्षित है.

अद्यतन #1  
 पुस्‍तकों का जो पुरस्‍कार रखा गया है उसका आधा शिवना प्रकाशन (http://shivnaprakashan.blogspot.in/) की

ओर से दिया जायेगा । यथा प्रथम पुरस्‍कार को 1500 द्वितीय को 1000 तथा तृतीय को 
500 रुपये की पुस्‍तकें शिवना प्रकाशन की ओर से दी जाएंगी. 
शिवना प्रकाशन को रचनाकार.ऑर्ग की ओर से हार्दिक धन्यवाद.



अद्यतन #2 
डॉ. श्याम गुप्त ने सहर्ष अपने उपन्यास "इन्द्रधनुष" को तीनों विजेताओं को भेंट करने हेतु अपनी स्वीकृति प्रदान की है. श्याम जी को हार्दिक धन्यवाद.


अद्यतन # 3


नए अपडेट के लिए निम्न कड़ी पर जाएँ -


http://www.rachanakar.org/2012/07/blog-post_07.html 

5 blogger-facebook:

  1. प्रशंसनीय आयोजन -दानदाताओं के बारे में क्या जानकारी दी जा सकती है ?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. यदि दानदाता चाहेंगे तो उनके बारे में जानकारी यहाँ तथा नियमावली पृष्ठ यानी -
      http://www.rachanakar.org/2012/07/blog-post_07.html
      पर दी जा सकती है.

      हटाएं
  2. कहानी की शब्द सीमा और भेजने की आखरी तिथि बता दें कृपया.

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. कोई शब्द सीमा नहीं है. आखिरी तारीख के लिए इस कड़ी को देखें -

    http://www.rachanakar.org/2012/07/blog-post_07.html

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------