रचनाकार में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

शैलेश मटियानी की कहानी - छिद्दा पहलवान वाली गली

SHARE:

पिछले कई वर्षों से, लगभग प्रत्येक मंगलवार को, वह हनुमान मन्दिर आता रहा है। अपनी सम्पूर्णता में सिन्दूर-तेल से सनी हुई हनुमानजी को विशाल मू...

image

पिछले कई वर्षों से, लगभग प्रत्येक मंगलवार को, वह हनुमान मन्दिर आता रहा है। अपनी सम्पूर्णता में सिन्दूर-तेल से सनी हुई हनुमानजी को विशाल मूर्ति उसे सदैव एक अवतार-पुरुष की-सी दिव्यता से अभिभूत करतो रही है। मगर जब से छिद्दा पहलवान उसकी गाभन भैंस हाँक ले गया, वह हर समय अपने कच्चे घर की दीवारों पर सूखते हुए उपलों-जेसे फुस- फुसे अवसाद से घिरा रहा हूँ। वह जानता नहीं, सिर्फ अनुभव करता है। भाषाविहीनता में वह अपनी भैंस से मिलता-जुलता है। वह नहीं जानता कि उसकी तरह का आतंकग्रस्त व्यक्ति निरुपाय नहीं, सिर्फ असहायता महसूस करता है, क्योंकि भय और दहशत को सहने की तैयारी अपने-आप में एक उपाय के अलावा और कुछ नहीं है।

वह यह भी नहीं जानता कि हनुमानजी की मूर्ति भी सिर्फ एक उपाय है, जिसके सहारे वह अपनी असहायता और भयग्रस्तता को बर्दाश्त करने का संघर्ष तो अब तक लगातार करता रहा, मगर छिद्दा पहलवान के आतंक से मुक्त नहीं हो सका। यह कितनी विचित्र विडम्बना है कि आदमी अपनी चरम असहायता में अपने भीतर राख के भीतर बचे रह गये अंगारे-जैसी किसी चीज को या कि अपनी कायरता की बर्दाश्त कर सकने की ताकत को और ज्यादा तेजी से खोदने लगता है। न जाने कितने दिनों की बेचैनी और दयनीय मरभुसपने के बाद कब्र में दफना दिये जाने के बावजूद जिन्दा रह गये इन्सान की तरह, अपने ऊपर की मिट्टी हटाता हुआ बाहर निकल आया है। वह, यानी रामभरोसे कल रात-भर अपने-आपको चूहे की तरह खोदता रहा है। सबेरे उठते ही उसने बोतल में बाकी छुटी हुई देशी को गले में अर्ध्य की तरह उतारा है। इसके बाद उसे मंगलवार के होने की याद

आयी है। सिन्दूर की पुड़िया और तेल की कुप्पी को उसने अपनी मुट्टियों में भींचा हूं। भैंस के खाली खूंटे के पास बैठी हुई उदास और दुखी पत्नी उसे विधवाओं की-सी मुद्रा में लटकी हुई दिखायी दी है। औरतों की जैसी मुद्रायें मर्द की हिम्मत पर लानत बिखेरती हुई-सी उसके आस-पास मंडराने लगती हैं। उसने गौर से, आँखें गड़ाकर अपनी घरवाली को देखने की कोशिश की, तो वह उठकर खड़ी हो गई और बगलवाली गली में जाकर बैठ गई। घरवाली के वापस लौट आने पर अब यह उसे बेसाख्ता याद आया कि उसकी छिद्दा पहलवान द्वारा हाँक ली गई गाभन भैंस चारों तरफ मंडराती हुई पानी किया करती थी। एक बार और अपनी घरवाली को धूरने के बाद, वह बाहर निकल आया। जान-पहचान के लोगों में से कोई उसे देख तो नहीं रहा होगा, इस सावधानी में उसने चारों तरफ आँखें घुमाने की कोशिश की तो पाया कि वह हनुमानजी की विशाल मूर्ति के सामने खड़ा हो चुका है और-चाहे यह देशी का खुमार हो या भक्ति की अभिभूतता और या अपने अन्दर की असहायता की जकड़न-सिर्फ हनुमानजी की विशाल मूर्ति को एकटक घूरते रह जाने के अलावा, अब इस वक्त कुछ भी और करने में वह असमर्थ हो चुका है।

इधर उसकी पत्नी तक कह चुकी हूँ कि वह गूँगा हो गया है। अब आज, इस वक्त, उसे पहली. बार महसूस हो रहा है कि अपने अन्दर-ही अन्दर बोलते चले जाने के एहसास से घिरे हुए आदमी में दूसरे लोगों से बातें करने की इच्छा सूखने लगती है। डरा वह पहले भी हूँ। लोगों से। अपनी परिस्थितियों से। अपनी पत्नी के मायकेवालों से और अपनी आदतों से। मगर कायरता की ऐसी विचित्र ग्लानि से लथेड देने वाला डर उसने जिन्दगी में पहली बार महसूस किया है। छिद्दा पहलवान द्वारा हाँक ली गयी गाभन भैंस को वापस हाँक लाने की अदम्य इच्छा ने उसकी असमर्थता को और उघाड़ दिया है। अपनी गाभन भैंस की याद आते ही वह बुरी तरह विचलित हो जाता है। सिन्दूर-तेल को हनुमानजी के चरणों में चढा देने की जगह उसने अपनी हथेलियों में रपट-रपटकर सान लिया। अचानक तीव्रता से यह इच्छा उसमें जागी कि अपने ही मुँह पर मल ले। और इस इच्छा को अनुभव करते ही उसे एक क्षण को लगा, जैसे वह हनुमानजी की दिव्यता या विकरालता के काफी करीब पहुँच गया है। वि क रा ल ता. ..बस सिर्फ यही चीज है, जो उसे मुक्ति दे सकती है।

जिस तेजी से वह हनुमानजी के चरणों की ओर लपका, अपने अन्दर बादल और बिजलियों की प्रचक्त गड़गड़ाहट को सुनने की-सी अनुभूति उसे हुई। इतने दिनों की लगातार-लगातार विचलितता और बेचैनियों के बाद, अपने अन्दर प्रचंड शोर और बिजलियों की-सी कौंध की अनुभूति करते हुए उसे लगा, जैसे वह वाणी उसे अब मिल गयी है, जिसके द्वारा वह ऐन छिद्दा पहलवान के मुँह पर कह सकता है-'तेरी माँ की....' उसकी, लगभग बिजली की कौंध की ही तरह फिर अपनी गाभन भैंस की याद आयी और उसने अपनी आँखों को मूँद लिया। इस वक्त वह घुटनों के बल बैठा हुआ था। घुटनों पर काफी जोर पड़ रहा था। एक अजीब-सी सनसनी उन पर कौंध रही थी। जब भी, जितनी देर भी वह छिद्दा पहलवान और अपनी गाभंन भैंस के बारे में सोचता है, अपने अन्दर उसे ठीक ऐसी ही सनसनी महसूस होती है। बिजली की-सी कौंध की तरह सोचती और बोलती हुई सनसनी। कभी-कभी अपने अन्दर की भाषा को आदमी अपने समूचे शरीर में अनुभव करने लगता है। पत्थर की मूर्तियों में जो भाषा उसे दिखायी देती है, यही भाषा है। रामभरोसे को यह भाषा इस वक्त अपने धुटनों पर महसूस हो रही है।

'तेरी मां की....' वह जिस जोश-खरोश के साथ उठा, उसे 'तूफान की-सी तेजी के साथ'-जैसे लम्बे मुहावरे में फैला देने की जगह, सिर्फ एक शब्द कह देना ज्यादा सटीक हो सकता है-वि क रा ल ता। असहायता की चरम यंत्रणा और कारुणिकता में से आदमी किस तरह अपने-आपको एक जमीन में गड़ी हुई अजनबी मूर्ति की तरह खोद निकालता है! उसे लगा, उसके सामने जो हनुमानजी की विकराल मूर्ति ढै, उसे अभी--भी खोदकर खड़ा किया गया है। उसने बड़े गौर से हनुमानजी के विशाल भुजदण्डों और उन पर टिके हुए द्रोण पर्वत को देखा। और यह धारणा बनाते हुए उसे एक आत्मतुष्टि का एहसास हुआ कि हनुमानजी की मूर्ति की कल्पना किसी डरे हुए आदमी ने ही को होगी। रामभरोसे को अब, एक मुद्दत के बाद, एकाएक याद आया कि बचपन में जब वह अंटी खेलता था, तो एक बार अपने छोटे भाई को सिर्फ इतनी बात पर न-जाने कितनी बार जमीन पर पटका था कि अंटी उसने बित्ता आगे बढाकर मारी थी।

वैसे यह किसी हद तक निराशाजनक स्थिति भी हो सकती है कि अपनी आज तक की जिन्दगी में लड़ी हुई लड़ाइयों में से स्मरणीयता के स्तर की लड़ाई सिर्फ एक वही रह गई! छोटे भाई को अंटी के लिए पटकने के अलावा स्मृति में कुछ बचा ही नहीं। मगर, इस वक्त, उसे डर और पीड़ा से त्रस्त पिल्ले की तरह कूँकते हुए अपने छोटे भाई की स्मृति बहुत ज्यादा छोटी चीज नहीं लगी और वह उसके खून तथा धूल से सने उस चेहरे को याद करने की कोशिश करने लगा, जो बाद में चेचक की बीमारी में गुम हो गया था। उसका चेचक के फोड़ों से भरा हुआ चेहरा भी बहुत विकराल लगता था। अगर वह जिन्दा होता, तो अट्ठाईस के करीब होता। छिद्दा पहलवान से लड़ने के इरादे में उसका भी शामिल होना एक सहारा देता। भाई आखिर भाई होता है। 'लेकिन अब अकेला ही काफी हूँ !' सोचते हुए उसे फिर अपनी सम्पूर्ण विकरालता में दहाड़ने की जैसी अनुभूति हुई और वह काफी दूर-

दूर तक लगभग उछलता हुआ-सा चला गया। हालांकि यह एक विचित्र- सी स्थिति है कि अपनी स्मृतियों को अपने चारों ओर फैलाने पर लगातार यही लगता रहता है कि कहीं कोई ऐसी चीज जरूर है, जो याद करने, अपनी स्मरण-शक्ति पर जोर डालने के लिए न-जाने कब से रामभरोसे को बेचैन किए हुए है, मगर फिर डूब-सी जाती है। रास्ते से गुजरते हुए, सबसे पहली मुलाकात उसकी फूलवाले पंडित से ही हुई, जो उसे लगभग हिदायत देने की-सी मुद्रा में समझा गये थे कि- 'बेटे, छिद्दा पहलवान के मुंह लगना ठीक नहीं !'

कल यों ही उसने कह दिया था कि अगर सीधे से नहीं लौटायी गयी, तो जबरदस्ती अपनी भैंस खोल लायेगा। उसे हैरत हुई थी कि डरे हुओं की और डराने वालों की भाषा में इतनी एकरूपता कैसे हो सकती है? ठीक यही वाक्य उसकी जरूरत से ज्यादा ही डरी हुई घरवाली ने भी कहा था कि-'छिद्दा पहलवान के मुँह न लगना !' ओफ्फोह, अब इस वक्त उसे याद आ रहा है कि जिस समय उसकी घरवाली ने यह वाक्य कहा था, उसे लगा था, अगर शादी के समय दो में से एक को चुनने का सवाल होता, तो उसकी पत्नी निश्चित रूप से छिद्दा पहलवान की बगल में जा खड़ी होती! भय की लगातारता और धृणा को अंत.हीनता को कोई आदमी अगर अपने अंदर से उलीचना भी चाहे, तो उसकी सार्थकता आईने में थूकने से ज्यादा हो नहीं सकती। लगातार सोचते-सोचते रामभरोसे को लग रहा था, जैसे वह थूकने के लिए जगह ढूंढता फिर रहा है। 'थू... ' थूकने के लिए उसने ऐसे मुंह खोला, जैसे अद्धे के मुंह पर से कार्क उखाड़ रहा हो। उसे इस बात के एहसास से अत्यन्त संतोष हुआ कि फूलवाले पंडित की ओर उछले हुए उसके थूक के साथ-साथ, उसका छिद्दा पहलवान वाली गली में चुगने का निर्णय भी फूलवाले पंडित के गुल- दार चेहरे पर चिपक गया होगा। अपनी इस गलती को सुधारने की उसने कोई जरूरत नहीं समझी कि कुल गुलदार का नहीं, गुलदावर का होता है ।

आदमी जब अपने भाषा को सुधारने की आवश्यकता अनुभव नहीं करता, तब उसका डरा हुआ चरित्र एक ऐसी बिल्ली की शक्ल में उसके सामने होता है जिसे गर्दन के ऊपर की खाल पकड़कर उठा लीजिये तो एक लिजलिजी-सी निष्क्रियता अपने अंदर की सारी बौखलाहट को सुन्न कर देती है । रामभरोसे सिर्फ महसूस करता है, जानता नहीं । वड़ी दैर तक घुटनों के बल बैठे-बैठे उसे लगा, वह अपने सम्पूर्ण चरित्र पर वैठा हुआ है । साधु-सन्यासी, पंडित-पुजारी या सजायाफ्ता अपराधियों से आँखें मिलाते हुए, उसे अपने चरित्र को टटोलने की-सी हड़बड़ाहट होती है । मगर फूलवाले पंडित के माथे पर पुते हुए चंदन की जगह, इस वक्त, क्रोध और दुस्साहस की विकरालता से पसीजते हुए अपने माथे का पसीना उसे ज्यादा दिव्य लगा । उसने तड़ाक से पसीना पोंछा और फूलवाले पंडित की तरफ उछाल दिया ।

जिसका आतंक अपने-आपको दबोचे हुए हो, उससे द्वंद्व-युद्ध करना या आतंकित करने वाले को शक्ति का ढिंढोरा पीटने वाले से लड़ना-दोनों ही स्थितियाँ समान रूप से उत्तेजित और अहंकार को तृप्त करने वाली होती हैं । रामभरोसे को फूलवाले पंडित पर उफनते हुए छिद्दा पहलवान से ही लड़ने की-सी उत्तेजना हुई थी । वह, शायद अपनी कल्पना में फूलवाले एंडित को जमीन पर पटक चुका होता कि सहसा सुनायी दे गये इस वाक्य नै उसे स्थिर कर दिया- 'क्यों, बेटे रामभरोसे! किधर जा रहा है ?' अब वह अपनी सम्पूर्ण कुटिलता के साथ मुसकरा उठा । उसे लगा, इस वक्त फूलवाले पंडित को जमीन पर पटकना या सिर्फ यह वाक्य कह देना कि-'पालागी पंडित! जरा छिद्दा पहलवान वाली गली में जा रहा हूँ !'

-दोनों बराबर सार्थक होंगे । छिद्दा पहलवान वाली गली !-अपने अदम्य आक्रोश की भयंकरता

में जिस रास्ते पर वह चला आ रहा था, उसको लगा, उसके लिए 'छिद्दा पहलवान वाली गली' से ज्यादा सटीक नाम कुछ और नहीं हो सकता । इस ससुरे फूलवाले पंडित की आँखों में यह गलीज मुहावरा कोयले से लिखा हुआ-सा दिखाई देता है-'जिसकी लाठी, उसकी भैंस !' इसको जमीन पर पटकने से ज्यादा सार्थक मुहावरे से पटकना होगा । उसने इरादा किया कि तड़ाक से उठे, जिससे घुटनों की नसें चटक जाएँ और पंडित को लगे कि अपनी गाभन भैंस के लिए वह छिद्दा पहलवान से भी भिड़ जायेगा । कल-बल्कि आज सुबह तक वह कहने और राय देने वालों की बातों को चुपचाप सुन ले रहा था । बोलकर अपने-आपको सही या शक्तिशाली सिद्ध कर सकने का सामर्थ्य उसके अन्दर से जैसे बालु के कच्चे घड़े में भरे .हुए जल की तरह छीज चुका था । मगर अब-इस वक्त-उसकी वाणी को पत्ते-जैसे कूट रहे हैं । छिद्दा पहलवान वाली गली!

अपनी असहायता, आत्मग्लानि, भयग्रस्तता और कायरता के आत्म- दंश से लिथड़ी हुई धृणा-छिद्दा पहलवान के आतंक के जहर को पचा सकने मै असमर्थ होकर, वह जितनी भी मानसिकताओं से गुजरा है-वे .सब छिद्दा पहलवान वाली गलियाँ हैं । मगर हो सकता है, आज के बाद, लोगों को कई नये मुहावरे मिल जाएँ । जैसे 'छिद्दा पहलवान वाली गली में घुसना' या कि 'यह तो छिद्दा पहलवान वाली गली से गुजरा हुआ है' और या कि 'हनुमान को रावण की लंका क्या' के वजन पर 'रामभरोसे को छिद्दा पहलवान वाली गली क्या'.... उसके ये मुहावरे, हो सकता है, लोगों की स्मृति में से 'लाठी और भैंस' वाले मुहावरे को हमेशा-हमेशा के लिए मिटा दें! उसने अपने हाथों को पर्वत उठाने की-सी मुद्रा में ऊपर उठाया और फूलवाले पंडित पर अपना मुहावरा फेंक दिया-'पालागी, पडत जी! जरा छिद्दा पहलवान

वाली गली में जा रहा हूँ !' एक प्रचण्ड आत्मदर्प से वह पिघलने-पिघलने को हो आया। हालांकि. धूप अभी काफी तेज नहीं चढी है। हलकी-हलकी हवा भी चल रही है। मोहल्ले के लोग शायद अभी दातौन-शौच आदि नित्य-कर्मों से खाली नहीं हुए हैं। ढोर-डंगरों की गोबर उठाई जा रही है। यानी रोज की तरह सिलसिलेवार काम निबट रहे हैं। मगर सिर्फ एक अगले क्षण में, जब वह छिद्दा पहलवान वलिा गली में घुस चुका होगा, पूरे मोहल्ले का खाका एकाएक बदल जायेगा। ओह! यह याद करना कितना-कितना वजनदार और रोमांचक है कि जिस समय रामभरोसे को लाठी की मार से छिद्दा पहलवान खून से लथपथ गली में नीचे गिरा पड़ा होगा और उसकी बीवी विधवाओं की तरह चीख-चीखकर विलाप कर रही होगी.... तो क्या, सबेरे उठते-उठते ही जो उसे अपनी पत्नी भैंस के खाली खूँटे के पास विधवाओं की-सी असहनीय मुद्रा में लटकी हुई दिखायी दी, सिर्फ इसी दहशत के कारण तो नहीं कि अगर छिद्दा पहलवान ने उसे जान से मार डाला, तो करमदेई रांड हो जायेगी?

'तेरी माँ....' अजीब बात है कि छिद्दा पहलवान को माँ की गालियाँ देते समय रामभरोसे को अपनी गाभन भैंस की याद और ज्यादा तेजी से आती है। 'ज्जै बजरंग बली की !' अपनी सम्पूर्ण शक्ति के साथ वह आगे को उछल पड़ा। इस वक्त, निश्चित रूप से, अपनी शक्ति की सम्पूर्णता उसकी अपनी मुट्टियों में बन्द थी। वह जानता था कि छिद्दा पहलवान से अपनी भैंस को लड़कर छीन लाने के निर्णय ने उसे अन्तहीन साहस से मंडित कर दिया है। 'हट ज्ज्ज्जावव! साले हरामज्जादे !' रामभरोसे ने कल्पना करने की कोशिश की कि जितनी भयंकर आवाज में वह चिल्लाया है छोटे-छोटे बच्चे त्रस्त होकर, अपनी-अपनी माँ से चिपक गये होंगे! हो सकता है, ज्यादा महीनों वाली गर्भवतियों को भी कुछ नुकसान पहुँचे....।

अब फिर एकाएक उसे याद आया कि कल रात वह लगातार इस चिंता से ग्रस्त रहा था कि अगर कहीं छिद्दा पहलवान ने गुस्से में उसकी गाभन भैंस के पेट को लाठी से कोच दिया, तो भैंस मर भी सकती हे।.... रामभरोसे को, अब इस समय, यह भी याद आया कि जिस गाभन भैंस को छिद्दा पहलवान हाँक ले गया, उसका पहली बार का कटडा, दूध न पिलाने से जल्दी ही मर गया था मगर उसकी खाल में भुस भरकर तब तक रखे रहना पड़ा, जब तक भैंस ने दूध देना बन्द नहीं कर दिया। भैंस खरीदने के लिए पठानी सूद पर लिया हुआ कर्ज अगर आज तक नहीं चुकाया जा सका है, तो उसकी वजह सिर्फ एक ही भैंस के भरोसे गृहस्थी टँगी रहने के साथ-साथ, उसकी शराब पीने की आदत भी है। अपनी इस कमजोरी को वह निष्क्रिय बिल्ली की तरह अपने अन्दर टाँगे हुए फिरता रहा है। जितनी शराब वह पी गया, उतना दूध पीता होता, तो आज शरीर ज्यादा शक्तिशाली होता और शायद छिद्दा पहलवान से लड़ने का निर्णय लेते हुए इतना डर नहीं महसूस होता।

नहीं, इस तरह से सोचना गलत होगा। डरा हुआ आदमी अपनी नैतिकता को बार-बार सिर्फ इसलिए टटोलता है कि अपनी कायरता का औचित्य सिद्ध कर सके। रामभरोसे को अच्छी तरह याद है कि जहाँ वह आधी ही बोतल में थक जाता है, छिद्दा पहलवान पूरी बोतल गरारे करता हुआ-सा डकार जाता है। जिस वक्त छिद्दा पहलवान भैंस हाँक से गया, उस वक्त भ।' वह नशे में चूर मालूम पड़ता था।....मगर रामभरोस को तो यही लगा था, जैसे उसका नशा छोड़, खुन भी उतरता जा रहा है और उसे अपने सम्पूर्ण शरीर में सक बदबू-सी फैलती महसूस होती रही थी-लेकिन इस तरह की बातें उसे नहीं सोचनी चाहिये। अपनी कायरता और असहायता को लगातार-लगातार जुगाली करते

जानवरों की तरह स्मरण करते रहना, सिर्फ धृणा उत्पन्न करता है, शक्ति या साहस नहीं। रामभरोसे अपने-आपको बटोरता हुआ-सा फिर आगे बढ़ गया और इस बार काफी तेजी से। जैसा कि उसने अनुमान लगाया था, छिद्दा पहलवान इस वक्त चबूतरे पर बैठा दातौन ही कर रहा था। रामभरोसे को देखते ही, छिद्दा पहलवान ठीक उतने ही रोब और अहंकार के साथ खड़ा हो गया, जितने की उसने कल्पना की थी। जिस शत्रु को पराजित कर सकने का आत्मविश्वास अपने अंदर हो, उसको अहंकार और क्रोध में बौखलाते हुए देखना कितनी तृप्ति दे सकता है।

शत्रु का सारा अहंकार, सारी बौखलाहट सिर्फ दयनीयता और करुणा उत्पन्न करने लगती है, यदि यह पता हो कि 'साले को मिट्टी में मिला देना है !' उसने छिद्दा पहलवान के क्रुद्ध चेहरे को उपेक्षित करते हुए, उसके घर के अंदर झाँककर देखने की कोशिश की कि आखिर उसकी घरवाली कहाँ है? छिद्दा पहलवान को मार-मारकर, पटक-पटककर खून से लथपथ कर देने की अपनी शक्ति पर वह इस समय राई-भर भी संशय अनुभव नहीं कर रहा था। हालाँकि शारीरिक वृष्टि से वह छिद्दा पहलवान से काफी कमजोर ही नहीं, बल्कि रोगी भी हूँ। उसने लाठी को कसकर पकड़ लिया। उसे लगा, बहुत ज्यादा देर तक छिद्दा पहलवान की तुलना में अपनी शारीरिक दुर्बलता को ढाँका नहीं जा सकेगा। उसने एक क्षण में यह तय कर लिया कि अब छिद्दा पहलवान से अपनी लड़ाई को ज्यादा देर तक .स्थगित नहीं रखना चाहिए। हो सकता हूँ, बाद में हिम्मत पस्त हो जाए! उसने, बिना चारों ओर देखे ही, यह अनुभव कर लिया कि सारे मोहल्ले की भीड़ वहाँ एकत्र हो चुकी है। सभी की आँखों में अपार दया- सी झाँक रही है कि 'बेचारा रामभरोसे छिद्दा पहलवान के हाथों बुरी तरह

पीटा जायेगा....शायद खून उगलता-उगलता मर ही जाए.... !' नहीं, मोहल्ले वाले सुसरों की इस तरह की दया धृणा से भी ज्यादा खतरनाक होती है। छिद्दा पहलवान की ओर से पहल किये जाने की प्रतीक्षा में खड़ा रहना अब उसे बिलकुल-बिलकुल व्यर्थ लगा और गुलदार फी-सी तेजी से उछल- कर उसने छिद्दा पहलवान की गर्दन दबोच ली! आश्चर्य से विमूढ़ छिद्दा पहलवान जब तक सँभले, रामभरोसे ने दाएं हाथ का घूंसा वज्रप्रहार की तरह उसके जबड़े पर जड़ दिया।

रामभरोसे के एक ही घूंसे में छिद्दा पहलवान के कई दाँत जबड़ा फाड़कर ऊपर निकल आये और खून का फव्वारा-सा फूट पड़ा। अपनी विकरालता में भी आदमी कितना दयनीय और कारुणिक लग सकता है, यह इस वक्त खून से लथपथ छिद्दा पहलवान को देखकर ही जाना जा सकता है। जब तक छिद्दा पहलवान जबड़े पर पड़े भयंकर आघात को संभाले, रामभरोसे ने बिजली की-मी तेजी से अपनी लाठी धुमाई और ऐन छिद्दा पहलवान के माथे पर....

हनुमानजी की विशाल मूर्ति के आगे घुटनों के बल झुके रहने और देर तक अपनी सम्पूर्ण कल्पनाशक्ति का उपयोग करने पर भी, उसने कहीं अत्यन्त गहरे से यह अनुभव कर लिया, कि अब और आगे सोचना निरर्थक है। इस तरह को कल्पनाएँ ज्यादा देर तक करते रहना बाद में बड़ी देर तक थकान और व्यर्थता के एहसास से पस्त किये रहता है। हनुमानजी की मूर्ति के सामने से उठते हुए उसे अपने दोनों घुटने थकान से काँपते हुए-से लगे। ठीक से खड़ा हो सकने को कोशिश करते हुए उसे लगा, किसी मुर्दे को खड़ा कर रहा हं। उसे लगा, अपनी कायरता के एहसास को वह अब पहली बार सम्पूर्ण आत्मस्वीकृति दे पा रहा हूं कि नहीं, छिद्दा पहलवान से अपनी गाभन भैंस वापस ला सकने को ताकत उसमें नहीं है।

इतने दिनों के अन्तर्द्वन्द्व और अनिश्चितता के बाद, अब इस समय पहली बार इस दोटूक निर्णय पर पहुँचा कि छिद्दा.पहलवान वाली गली में जाने के लिए तो सिर्फ एक ही रास्ता रह गया है-जैसे भी हो, रुपयों का बंदोबस्त करे और ब्याज समेत चुकाकर, भैंस वापस ले आए!

…..

 

(साभार - कहानी संग्रह - छिद्दा पहलवान वाली गली - शारदा प्रकाशन इलाहाबाद)

COMMENTS

BLOGGER: 1
Loading...

-----****-----

|13000+ रचनाएँ_$type=complex$count=6$page=1$va=0$au=0

|विविधा_$type=blogging$au=0$va=0$count=6$page=1$src=random-posts

 आलेख कविता कहानी व्यंग्य 14 सितम्बर 14 september 15 अगस्त 2 अक्टूबर अक्तूबर अंजनी श्रीवास्तव अंजली काजल अंजली देशपांडे अंबिकादत्त व्यास अखिलेश कुमार भारती अखिलेश सोनी अग्रसेन अजय अरूण अजय वर्मा अजित वडनेरकर अजीत प्रियदर्शी अजीत भारती अनंत वडघणे अनन्त आलोक अनमोल विचार अनामिका अनामी शरण बबल अनिमेष कुमार गुप्ता अनिल कुमार पारा अनिल जनविजय अनुज कुमार आचार्य अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ अनुज खरे अनुपम मिश्र अनूप शुक्ल अपर्णा शर्मा अभिमन्यु अभिषेक ओझा अभिषेक कुमार अम्बर अभिषेक मिश्र अमरपाल सिंह आयुष्कर अमरलाल हिंगोराणी अमित शर्मा अमित शुक्ल अमिय बिन्दु अमृता प्रीतम अरविन्द कुमार खेड़े अरूण देव अरूण माहेश्वरी अर्चना चतुर्वेदी अर्चना वर्मा अर्जुन सिंह नेगी अविनाश त्रिपाठी अशोक गौतम अशोक जैन पोरवाल अशोक शुक्ल अश्विनी कुमार आलोक आई बी अरोड़ा आकांक्षा यादव आचार्य बलवन्त आचार्य शिवपूजन सहाय आजादी आदित्य प्रचंडिया आनंद टहलरामाणी आनन्द किरण आर. के. नारायण आरकॉम आरती आरिफा एविस आलेख आलोक कुमार आलोक कुमार सातपुते आशीष कुमार त्रिवेदी आशीष श्रीवास्तव आशुतोष आशुतोष शुक्ल इंदु संचेतना इन्दिरा वासवाणी इन्द्रमणि उपाध्याय इन्द्रेश कुमार इलाहाबाद ई-बुक ईबुक ईश्वरचन्द्र उपन्यास उपासना उपासना बेहार उमाशंकर सिंह परमार उमेश चन्द्र सिरसवारी उमेशचन्द्र सिरसवारी उषा छाबड़ा उषा रानी ऋतुराज सिंह कौल ऋषभचरण जैन एम. एम. चन्द्रा एस. एम. चन्द्रा कथासरित्सागर कर्ण कला जगत कलावंती सिंह कल्पना कुलश्रेष्ठ कवि कविता कहानी कहानी संग्रह काजल कुमार कान्हा कामिनी कामायनी कार्टून काशीनाथ सिंह किताबी कोना किरन सिंह किशोरी लाल गोस्वामी कुंवर प्रेमिल कुबेर कुमार करन मस्ताना कुसुमलता सिंह कृश्न चन्दर कृष्ण कृष्ण कुमार यादव कृष्ण खटवाणी कृष्ण जन्माष्टमी के. पी. सक्सेना केदारनाथ सिंह कैलाश मंडलोई कैलाश वानखेड़े कैशलेस कैस जौनपुरी क़ैस जौनपुरी कौशल किशोर श्रीवास्तव खिमन मूलाणी गंगा प्रसाद श्रीवास्तव गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर ग़ज़लें गजानंद प्रसाद देवांगन गजेन्द्र नामदेव गणि राजेन्द्र विजय गणेश चतुर्थी गणेश सिंह गांधी जयंती गिरधारी राम गीत गीता दुबे गीता सिंह गुंजन शर्मा गुडविन मसीह गुनो सामताणी गुरदयाल सिंह गोरख प्रभाकर काकडे गोवर्धन यादव गोविन्द वल्लभ पंत गोविन्द सेन चंद्रकला त्रिपाठी चंद्रलेखा चतुष्पदी चन्द्रकिशोर जायसवाल चन्द्रकुमार जैन चाँद पत्रिका चिकित्सा शिविर चुटकुला ज़कीया ज़ुबैरी जगदीप सिंह दाँगी जयचन्द प्रजापति कक्कूजी जयश्री जाजू जयश्री राय जया जादवानी जवाहरलाल कौल जसबीर चावला जावेद अनीस जीवंत प्रसारण जीवनी जीशान हैदर जैदी जुगलबंदी जुनैद अंसारी जैक लंडन ज्ञान चतुर्वेदी ज्योति अग्रवाल टेकचंद ठाकुर प्रसाद सिंह तकनीक तक्षक तनूजा चौधरी तरुण भटनागर तरूण कु सोनी तन्वीर ताराशंकर बंद्योपाध्याय तीर्थ चांदवाणी तुलसीराम तेजेन्द्र शर्मा तेवर तेवरी त्रिलोचन दामोदर दत्त दीक्षित दिनेश बैस दिलबाग सिंह विर्क दिलीप भाटिया दिविक रमेश दीपक आचार्य दुर्गाष्टमी देवी नागरानी देवेन्द्र कुमार मिश्रा देवेन्द्र पाठक महरूम दोहे धर्मेन्द्र निर्मल धर्मेन्द्र राजमंगल नइमत गुलची नजीर नज़ीर अकबराबादी नन्दलाल भारती नरेंद्र शुक्ल नरेन्द्र कुमार आर्य नरेन्द्र कोहली नरेन्‍द्रकुमार मेहता नलिनी मिश्र नवदुर्गा नवरात्रि नागार्जुन नाटक नामवर सिंह निबंध नियम निर्मल गुप्ता नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’ नीरज खरे नीलम महेंद्र नीला प्रसाद पंकज प्रखर पंकज मित्र पंकज शुक्ला पंकज सुबीर परसाई परसाईं परिहास पल्लव पल्लवी त्रिवेदी पवन तिवारी पाक कला पाठकीय पालगुम्मि पद्मराजू पुनर्वसु जोशी पूजा उपाध्याय पोपटी हीरानंदाणी पौराणिक प्रज्ञा प्रताप सहगल प्रतिभा प्रतिभा सक्सेना प्रदीप कुमार प्रदीप कुमार दाश दीपक प्रदीप कुमार साह प्रदोष मिश्र प्रभात दुबे प्रभु चौधरी प्रमिला भारती प्रमोद कुमार तिवारी प्रमोद भार्गव प्रमोद यादव प्रवीण कुमार झा प्रांजल धर प्राची प्रियंवद प्रियदर्शन प्रेम कहानी प्रेम दिवस प्रेम मंगल फिक्र तौंसवी फ्लेनरी ऑक्नर बंग महिला बंसी खूबचंदाणी बकर पुराण बजरंग बिहारी तिवारी बरसाने लाल चतुर्वेदी बलबीर दत्त बलराज सिंह सिद्धू बलूची बसंत त्रिपाठी बातचीत बाल कथा बाल कलम बाल दिवस बालकथा बालकृष्ण भट्ट बालगीत बृज मोहन बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष बेढब बनारसी बैचलर्स किचन बॉब डिलेन भरत त्रिवेदी भागवत रावत भारत कालरा भारत भूषण अग्रवाल भारत यायावर भावना राय भावना शुक्ल भीष्म साहनी भूतनाथ भूपेन्द्र कुमार दवे मंजरी शुक्ला मंजीत ठाकुर मंजूर एहतेशाम मंतव्य मथुरा प्रसाद नवीन मदन सोनी मधु त्रिवेदी मधु संधु मधुर नज्मी मधुरा प्रसाद नवीन मधुरिमा प्रसाद मधुरेश मनीष कुमार सिंह मनोज कुमार मनोज कुमार झा मनोज कुमार पांडेय मनोज कुमार श्रीवास्तव मनोज दास ममता सिंह मयंक चतुर्वेदी महापर्व छठ महाभारत महावीर प्रसाद द्विवेदी महाशिवरात्रि महेंद्र भटनागर महेन्द्र देवांगन माटी महेश कटारे महेश कुमार गोंड हीवेट महेश सिंह महेश हीवेट मानसून मार्कण्डेय मिलन चौरसिया मिलन मिलान कुन्देरा मिशेल फूको मिश्रीमल जैन तरंगित मीनू पामर मुकेश वर्मा मुक्तिबोध मुर्दहिया मृदुला गर्ग मेराज फैज़ाबादी मैक्सिम गोर्की मैथिली शरण गुप्त मोतीलाल जोतवाणी मोहन कल्पना मोहन वर्मा यशवंत कोठारी यशोधरा विरोदय यात्रा संस्मरण योग योग दिवस योगासन योगेन्द्र प्रताप मौर्य योगेश अग्रवाल रक्षा बंधन रच रचना समय रजनीश कांत रत्ना राय रमेश उपाध्याय रमेश राज रमेशराज रवि रतलामी रवींद्र नाथ ठाकुर रवीन्द्र अग्निहोत्री रवीन्द्र नाथ त्यागी रवीन्द्र संगीत रवीन्द्र सहाय वर्मा रसोई रांगेय राघव राकेश अचल राकेश दुबे राकेश बिहारी राकेश भ्रमर राकेश मिश्र राजकुमार कुम्भज राजन कुमार राजशेखर चौबे राजीव रंजन उपाध्याय राजेन्द्र कुमार राजेन्द्र विजय राजेश कुमार राजेश गोसाईं राजेश जोशी राधा कृष्ण राधाकृष्ण राधेश्याम द्विवेदी राम कृष्ण खुराना राम शिव मूर्ति यादव रामचंद्र शुक्ल रामचन्द्र शुक्ल रामचरन गुप्त रामवृक्ष सिंह रावण राहुल कुमार राहुल सिंह रिंकी मिश्रा रिचर्ड फाइनमेन रिलायंस इन्फोकाम रीटा शहाणी रेंसमवेयर रेणु कुमारी रेवती रमण शर्मा रोहित रुसिया लक्ष्मी यादव लक्ष्मीकांत मुकुल लक्ष्मीकांत वैष्णव लखमी खिलाणी लघु कथा लघुकथा लतीफ घोंघी ललित ग ललित गर्ग ललित निबंध ललित साहू जख्मी ललिता भाटिया लाल पुष्प लावण्या दीपक शाह लीलाधर मंडलोई लू सुन लूट लोक लोककथा लोकतंत्र का दर्द लोकमित्र लोकेन्द्र सिंह विकास कुमार विजय केसरी विजय शिंदे विज्ञान कथा विद्यानंद कुमार विनय भारत विनीत कुमार विनीता शुक्ला विनोद कुमार दवे विनोद तिवारी विनोद मल्ल विभा खरे विमल चन्द्राकर विमल सिंह विरल पटेल विविध विविधा विवेक प्रियदर्शी विवेक रंजन श्रीवास्तव विवेक सक्सेना विवेकानंद विवेकानन्द विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक विश्वनाथ प्रसाद तिवारी विष्णु नागर विष्णु प्रभाकर वीणा भाटिया वीरेन्द्र सरल वेणीशंकर पटेल ब्रज वेलेंटाइन वेलेंटाइन डे वैभव सिंह व्यंग्य व्यंग्य के बहाने व्यंग्य जुगलबंदी व्यथित हृदय शंकर पाटील शगुन अग्रवाल शबनम शर्मा शब्द संधान शम्भूनाथ शरद कोकास शशांक मिश्र भारती शशिकांत सिंह शहीद भगतसिंह शामिख़ फ़राज़ शारदा नरेन्द्र मेहता शालिनी तिवारी शालिनी मुखरैया शिक्षक दिवस शिवकुमार कश्यप शिवप्रसाद कमल शिवरात्रि शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी शीला नरेन्द्र त्रिवेदी शुभम श्री शुभ्रता मिश्रा शेखर मलिक शेषनाथ प्रसाद शैलेन्द्र सरस्वती शैलेश त्रिपाठी शौचालय श्याम गुप्त श्याम सखा श्याम श्याम सुशील श्रीनाथ सिंह श्रीमती तारा सिंह श्रीमद्भगवद्गीता श्रृंगी श्वेता अरोड़ा संजय दुबे संजय सक्सेना संजीव संजीव ठाकुर संद मदर टेरेसा संदीप तोमर संपादकीय संस्मरण संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018 सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन सतीश कुमार त्रिपाठी सपना महेश सपना मांगलिक समीक्षा सरिता पन्थी सविता मिश्रा साइबर अपराध साइबर क्राइम साक्षात्कार सागर यादव जख्मी सार्थक देवांगन सालिम मियाँ साहित्य समाचार साहित्यिक गतिविधियाँ साहित्यिक बगिया सिंहासन बत्तीसी सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध सीताराम गुप्ता सीताराम साहू सीमा असीम सक्सेना सीमा शाहजी सुगन आहूजा सुचिंता कुमारी सुधा गुप्ता अमृता सुधा गोयल नवीन सुधेंदु पटेल सुनीता काम्बोज सुनील जाधव सुभाष चंदर सुभाष चन्द्र कुशवाहा सुभाष नीरव सुभाष लखोटिया सुमन सुमन गौड़ सुरभि बेहेरा सुरेन्द्र चौधरी सुरेन्द्र वर्मा सुरेश चन्द्र सुरेश चन्द्र दास सुविचार सुशांत सुप्रिय सुशील कुमार शर्मा सुशील यादव सुशील शर्मा सुषमा गुप्ता सुषमा श्रीवास्तव सूरज प्रकाश सूर्य बाला सूर्यकांत मिश्रा सूर्यकुमार पांडेय सेल्फी सौमित्र सौरभ मालवीय स्नेहमयी चौधरी स्वच्छ भारत स्वतंत्रता दिवस स्वराज सेनानी हबीब तनवीर हरि भटनागर हरि हिमथाणी हरिकांत जेठवाणी हरिवंश राय बच्चन हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन हरिशंकर परसाई हरीश कुमार हरीश गोयल हरीश नवल हरीश भादानी हरीश सम्यक हरे प्रकाश उपाध्याय हाइकु हाइगा हास-परिहास हास्य हास्य-व्यंग्य हिंदी दिवस विशेष हुस्न तबस्सुम 'निहाँ' biography dohe hindi divas hindi sahitya indian art kavita review satire shatak tevari undefined
नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3794,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,326,ईबुक,182,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2745,कहानी,2070,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,484,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,129,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,88,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,309,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,326,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,48,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,226,लघुकथा,808,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,306,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,57,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1882,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,637,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,676,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,52,साहित्यिक गतिविधियाँ,181,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,51,हास्य-व्यंग्य,52,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: शैलेश मटियानी की कहानी - छिद्दा पहलवान वाली गली
शैलेश मटियानी की कहानी - छिद्दा पहलवान वाली गली
http://lh4.ggpht.com/-K7le7kdheiQ/T_aM1S0YtFI/AAAAAAAAMyE/Jlt0o070rzU/image%25255B2%25255D.png?imgmax=800
http://lh4.ggpht.com/-K7le7kdheiQ/T_aM1S0YtFI/AAAAAAAAMyE/Jlt0o070rzU/s72-c/image%25255B2%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2012/07/blog-post_06.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2012/07/blog-post_06.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ