गुरुवार, 12 जुलाई 2012

दिल से : हिंदी कविता ब्लॉगरों के दिल के रहस्य

image

हिंदी कविता ब्लॉगिंग पर अंग्रेजी में एक बेहतरीन लेख शुभोरूप दासगुप्ता ने यहाँ पर लिखा है -

http://subhorup.blogspot.in/2012/07/hindi-poetry-blogs-blogging.html

इसमें उन्होंने रचनाकार.ऑर्ग के कवियों को तो शामिल किया ही है, और भी बहुत से ब्लॉगर कवियों के बारे में उल्लेख किया है जिनमें शामिल हैं -

अमित अग्रवाल का सफरनामा

शशि की कविताएँ

जसमीत कुकरेजा की कविताएँ

सारू सिंघल की कविताएँ

शुभोरूप के मुताबिक, हिंदी कविता ब्लॉगिंग में उन्हें हर किस्म की रचनाएं पढ़ने को मिलीं, जिनमें बहुत से तो प्रसून-जोशी-विशाल-ददलानी किस्म के हैं और कहीं बढ़िया हैं. आलेख में हिंदी कविता ब्लॉगिंग के इंटरनेट-कंप्यूटिंग-संबंधी-तकनीकी पक्ष के बारे में भी अच्छी समीक्षा की गई है.

आलेख में रचनाकार.ऑर्ग के विशेष उल्लेख के लिए शुभोरूप का आभार तथा रचनाकार.ऑर्ग के रचनाकारों को हार्दिक बधाईयाँ!

3 blogger-facebook:

  1. आप तो वैसे भी 'इतिहास पुरुष' हैं। जो कुछ आपने सूचित किया है, वह आपकी अब तक की उपलब्धियों का एक छोटा सा अंश मात्र है।

    ईश्‍वर आपको हमारी (कम से कम, मेरी तो)शेष आयु आपके खते में जमा कर दे।

    उत्तर देंहटाएं
  2. I cannot justly express my appreciation for your work in words; your encouraging words about this post are entirely too kind. I have only tried to portray what I have seen happening in the Hindi Poetry blogging world, and it was impossible to write about it without referring to your invaluable contribution. It is an honor that you have directed your readers to this post. Thanks a lot, and may you continue to touch and enrich lives with your pathbreaking work.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहत खूबसूरत और प्रभाकरी!
    मुझे बहुत प्रेरणा मिली है इस पोस्ट के माध्यम से.....
    अपनी अभ्व्यक्तियाँ यहाँ देना कठिन है ,लेकिन अपनी हिंदी कविताओं को में जरुर आगे तक देखना चाहती हूँ ......

    आभारी//जसमीत

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------