सोमवार, 16 जुलाई 2012

हीरालाल प्रजापति की ग़ज़लें

image

ग़ज़ल 32
क़ुतुब मीनारें लाओ या एफिल टावर लाओ II
सब ठिगने सब  बौने  कोई  कद्दावर लाओ II


अब बन्दर मत स्वाद जानने अदरख का रखना ,
पत्थर  में   हीरा  तलाशने  दीदावर  लाओ II


गर्दन दुश्मन की उतारने  चक्कू छुरी नहीं ,
फरसे तलवारों को पैना करवाकर लाओ II


कुछ चीजें सोना-माटी जिस मोल मिलें ले लो ,
कुछ सामान भाव -ताव कर ठहराकर लाओ II


इतना शर्मीला है जो कि चड्डी पहन हगे ,
उसको बेहोशी में भी मत नन्गाकर  लाओ II


[ दीदावर=पारखी ,जोहरी  ]

_____________________________________  
ग़ज़ल 33  

गर्म  दोपहर  को  बर्फानी  माहताब   रहूँ II

सर्द  रातों  को  गर्मागर्म  आफताब  रहूँ II

 

अपनी तासीर है ऐसी कि प्यासे को पानी ,

सख्त मैकश को बियर व्हिस्की रम शराब रहूँ II

 

उनकी चोली नहीं कुरता न सही कम अज कम ,

उनकी चाहत में उनकी जूती या जुराब रहूँ II

 

जाने क्या है कि ज़माने को मैं जंचूं  लेकिन ,

उनकी नज़रों में सबसे बद -बुरा -ख़राब रहूँ II

 

खुद को भी मैं न मयस्सर हूँ एक पल के लिए ,

उनके हर हुक्म को हर वक्त दस्तयाब रहूँ II

[दस्तयाब=उपलब्ध ]

               [   ]

____________________________________

ग़ज़ल 34

नाखुश  मैं  अपने  आप  से रहता हूँ आजकल II

अच्छा हूँ खुद को पर बुरा कहता हूँ आजकल II

 

कल  तक  मैं  सख्त  बर्फ  की सफ़ेद झील था ,

नीली नदी  की  धार सा  बहता  हूँ आजकल II

 

तूफ़ान को पहले मैं  हिमालय   की  तरह था ,

अब  रेत  के  घरौंदों  सा  ढहता हूँ आजकल II

 

चिढ़ता था तहे दिल से खुशामद से अपनी  मैं ,

सब गालियाँ भी प्यार से सहता हूँ आजकल II

 

तासीर  मेरी  कैसे  यकायक  बदल  गयी  ?

हीरा हूँ  मगर कांच से कटता  हूँ आजकल  II

              [   ]

___________________________________

ग़ज़ल 35

पहले सी हम में तुम में मोहब्बत न अब रही II

इक दूसरे की दिल में वो इज्ज़त न अब रही II

 

गिन्नी में ओ दीनार में तुलते थे पहले हम ,

धेले की कौड़ी भर की भी इज्ज़त न अब रही II

 

इक दूसरे के बिन कभी रहना न था मुमकिन ,

इक दूसरे की कोई ज़रुरत न अब रही II

 

मुद्दत से सो रहे हैं सख्त पत्थरों पे हम ,

मखमल के बिस्तरों की वो आदत न अब रही II

 

इतना किया है हमने मुश्किलों का सामना ,

कोई भी मुसीबत हमें आफ़त न अब रही II

________________________________

 

ग़ज़ल 36

शायद  मेरे जैसा इस दुनिया  में  कोई और नहीं II

सबपे अपने अपने छत  हैं  मेरा   कोई ठौर नहीं II

 

डाकू चोर लुटेरों की इस दुनिया में न कोई कमी ,

लेकिन चित्त चुराने वाला कोई माखनचोर नहीं II

 

ज़र ज़मीन इंसान जानवर सच कहता हूँ फलक तलक ,

सब काबू में कर लोगे पर दिल पर कोई ज़ोर नहीं II

 

उसको छोटे छोटे कीट पतंगे साफ़ साफ़ दीखते ,

हम जैसों पर उसकी पैनी नज़रें करती गौर नहीं II

 

मनवाकर रहता है अपनी वो हर बात ज़माने से ,

एक हुक्मराँ  ही तो है वो चाहे सर पर मोर नहीं II

 

               [   ]

____________________________________  

ग़ज़ल 37

मुरझा चुका जो फूल दोबारा खिलेगा क्या ?

जो भस्म हो चुका वो कोयला जलेगा क्या ?

 

है जिसके पास खुद ही सख्त तंगी ओ कमी ,

इनकार के सिवाय मांगकर मिलेगा क्या ?

 

हाथी भी जहाँ छोड़ते हों अपने पसीने ,

चीटों  के ठेलने से वाँ पर्वत हिलेगा क्या ?

 

तलवार से भी जिसकी खाल उधड़ नहीं सकी ,

नाखून से उस आदमी का मुँह छिलेगा क्या ?

 

जिसने ज़मीन पर न कभी पाँव रखे हों ,

काँटों पे अंगारों पे वो पैदल चलेगा क्या ?

 

आते ही जिसके गुंचे लोग नोच के रख दें ,

बेशक वो पेड़ बाँझ नहीं पर फलेगा क्या ?

 

औलाद का जो पेट न भर पायें ठीक से ,

तोहफे में उनको कुत्ते का पिल्ला जमेगा क्या II

 

___________________________________

ग़ज़ल 38

मुँह बनाकर मत उन्हें कुछ मुस्कुराकर देखना II

अपने रूठों को किसी दिन यूं मनाकर देखना II

 

हमने माना कि तेरे हम्माम का सानी नहीं ,

फ़िर भी इक दिन खुल के बारिश में नहाकर देखना II

 

जो तुझे बेज़ायका लगता है उसको इक दफ़ा ,

सिर्फ तगड़ी भूख लगने पर तू खाकर देखना II

 

ग़ोश्त हड्डीदार तू हलुए सरीखा चाब ले ,

एक रूखी सूखी रोटी भी चबाकर देखना II

 

घंटों जिम में वेटलिफ्टिंग तू किया करता है रोज़ ,

एक दिन परिवार का ज़िम्मा उठाकर देखना II

 

टूट पड़ते फाकाकश को देख जूठन पे न हँस ,

एक दिन तू निर्जला चुपके बिताकर देखना II

 

____________________________________

ग़ज़ल 39

शाह   लगते   फ़कीर  होते  है II

कुछ ही दिल से अमीर होते हैं II

 

अपने साधे से निशाने न लगें ,

उनके तुक्के भी तीर होते हैं II

 

लाखों कवि हैं जहाँ में पर कितने ?

सूर , तुलसी , कबीर होते हैं II

 

जितने कहते हैं ग़ज़ल उनमें फ़क़त ,

चार ग़ालिब दो मीर  होते हैं II

 

अनगिनत लोग हैं बलशाली मगर ,

सच में गिनती के वीर होते हैं II

 

असली शतरंज में कहाँ प्यादे ,

दर हक़ीक़त वज़ीर होते हैं II

 

___________________________

ग़ज़ल 40

उड़ा दे  मुझको गोली से या चाकू  घोंप दे मुझको II

तू रख दे शर्त कोई पर तू खुद को सौंप दे मुझको II

 

भटकता फिर रहा हूँ बीहड़ों में ज़िन्दगानी के ,

न दे बेशक कोई मंज़िल दिखा दे रास्ते मुझको II

 

न करना याद रब दी सौं गिला कोई नहीं होगा ,

भुलाना भूलकर भी मत खुदा के वास्ते मुझको II

 

न ऐसे खिलखिला के मुझसे कर बातें तू लग लग के ,

तज़ुर्बे अब नहीं करना बिखरते ख़्वाब के मुझको II

 

मेरी गज़ भर ज़ुबां है मुझको ऐसा लोग कहते हैं ,

ग़ज़ल भी मैं कहूं तो आगे बढ़कर टोक दे मुझको II

 

___________________________________

ग़ज़ल 41

इक हथकड़ी सा कांच का कंगन लगा मुझे II

आज़ादियों  का  तोहफ़ा  बंधन लगा मुझे II

 

इस तरह साफ़ हो रहे हैं पेड़ शहर से ,

दो गमले जहाँ पर दिखे गुलशन लगा मुझे II

 

तन्हाई दूर होगी ये आया था सोचकर ,

मेले में और भी अकेलापन लगा मुझे II

 

जब तक गरीब था कमाई में लगा रहा ,

बनकर अमीर सबसे बुरा धन लगा मुझे II

 

बच्चों के ऐसे तौर तरीक़े हैं आजकल ,

बचपन में एक ख़ास बूढापन लगा मुझे II

 

माँ की अलोनी रोटियों में भी जो स्वाद था ,

होटल का चटपटा भी न भोजन लगा मुझे II

 

पत्थर भी पिसा देखता भूखे की नज़र से ,

आटा  कभी लगा कभी बेसन लगा मुझे II

[   ]

9 blogger-facebook:

  1. भाई हीरा लाल जी .....आपकी पहली ग़ज़ल ही पढ़ रहा था कि इस शे'र से आगे जाने का मन नहीं किया ..

    इतना शर्मीला है जो कि चड्डी पहन हगे ,
    उसको बेहोशी में भी मत नन्गाकर लाओ II

    भाई जान ....आज ग़ज़ल इस लिए मकबूल है कि वो पूरी सदियों की दास्तान सर दो मिसरों में बयान कर देती है ....किसी आत को सलीके से कहना ही शाइरी है ....

    इतना शर्मीला है जो कि चड्डी पहन हगे ,.....ये सब क्या है भाई .....

    ग़ज़ल बड़ी सिन्फे -नाज़ुक है ...सिर्फ़ रदीफ़ क़ाफ़िया लगा लेना ग़ज़ल कहना नहीं है भाई ...शे'र का अपना मिज़ाज होता है ..उस्ताद शाइर तो ग़ज़ल में कुत्ता लफ्ज़ भी इस्तेमाल करने को एब मानते है ...

    बड़ी माज़रत के साथ ...कह रहा हूँ भाई ...ग़ज़ल से उसकी नफासत मत छीने ....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ग़ज़ल बड़ी सिन्फे -नाज़ुक है ...सिर्फ़ रदीफ़ क़ाफ़िया लगा लेना ग़ज़ल कहना नहीं है भाई ...शे'र का अपना मिज़ाज होता है ..उस्ताद शाइर तो ग़ज़ल में कुत्ता लफ्ज़ भी इस्तेमाल करने को एब मानते है ...

      आगे पढ़ें: रचनाकार: हीरालाल प्रजापति की ग़ज़लें http://www.rachanakar.org/2012/07/blog-post_2106.html#ixzz20tj8Cs7Y

      हटाएं
    2. जनाब हीरालाल जी

      आपकी रचनाएँ आप ही का नहीं हम सब का दर बयां करती हैं
      और बेशक आप एक बड़े ही अच्छे रचयिता हैं ....
      सदैव सुभकामना आपके लिए ....
      आपकी रचनाओं से और मित्रों को अवगत कराऊंगा..

      अपना स्नेह बनाये रखियेगा और थोडा सा आशीर्वाद दीजियेगा
      अच्छा जी नमस्ते

      हटाएं
  2. बहुत सुंदर गजलें है ! लिखते रहें ! शुभकामनाऎं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रजापति जी 41 नंबर की ग़ज़ल बहुत अच्छी है । बाक़ी ग़ज़ल के शेर भी सुंदर हैं ।

    डॉ. मोहसिन खान
    अलीबाग (महाराष्ट्र)

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेनामी3:11 pm

    Hiralal jee Aapki gazalen sunder hain.

    उत्तर देंहटाएं
  5. shishirkumar srivastava4:33 pm

    Aata kbhilga kabhi besan lga kabhi besan lga mujhe. vah bhee khoob kahi ---dhanyabad.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------