शुक्रवार, 13 जुलाई 2012

गोवर्धन यादव की लघुकथा - आपरेशन

--
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                     आपरेशन

राजेश बेहद ही खुश था. उसके यहाँ कुछ ही दिनों में बच्चा पैदा होने वाला था. पत्नि के गर्भधारण की तिथि से वह उसे डाक्टर मेहरोत्राजी से नियमित रुप से चेक करवाता आ रहा है. डाक्टर ने डॆट भी घोषित कर दी थी. वह नियत दिन अपनी पत्नि के साथ वेटिंग रुम मे बैठकर ,अपनी बारी आने की प्रतीक्षा कर रहा था. नर्स ने जैसे ही उसका नाम पुकारा, अपनी पत्नि को साथ लेकर उसने डाक्टर के कमरे में प्रवेश किया. डाक्टर ने उसे बाहर बैठने को कहा और उसकी पत्नि का परीक्षण करना शुरु कर दिया. बाहर बैठे राजेश का . दिल जोरों से धडकने लगा था. वह सोच रहा था कि पता नहीं, मेडम डाक्टर क्या फ़रमान जारी करती हैं..

कुछ देर बाद नर्स ने आकर कहा कि मेडम ने आपको अंदर बुलाया है, आप जाकर उनसे मिल लें. धडकते दिल से उसने कमरे में प्रवेश किया और एक ओर खडा होकर डाक्टर के आदेश की प्रतीक्षा करने लगा. डाक्टर इस समय टेबल पर झुकी हुई कुछ लिख रही थीं. उन्होने उसे देखते ही कहा” मिस्टर राजेश केस थोडा क्रिटिकल हो गया है. बच्चा आंत में फ़ंस गया है. इसीलिए आपरेशन तत्काल ही किए जाने की आवश्यकता है. उन्होंने पर्चा थमाते हुए कहा”’ऊपर मेडिकल-स्टोर्स में जाकर ये सारी चीजे खरीदकर इस नर्स के हाथॊं भिजवा दें और कैश काउन्टर पर जाकर दस हजार रुपये जमा करवा दें. आधे-पौन घंटे के भीतर आपरेशन हो जाना चाहिए”. 

राजेश भौंचक था. अभी तक तो सब ठीक-ठाक था, अचानक यह सब कैसे हो गया?. थूक को हलक के नीचे उतारते हुए उसने कहा” मेडम,हम शुरु से ही मिसेस को आपसे चेक करवाते आ रहे हैं. आप ही ने कहा था कि सब ठीक चल रहा है और बिना आपारेशन के डिलिवरी हो जाएगी, अब क्या हुआ?”. “ मिस्टर राजेश,आपका कहना एकदम ठीक है. कल तक तो ऐसा नहीं था. यह सब अचानक ही होता है .क्या आपको ऐसा लगता है कि हमने बच्चे को आंत में फ़ंसा दिया. नही न!. परिस्थितियाँ बदलती रहती हैं, उसी के बुताबिक चलना होता है. देखिए,बातें करके समय खराब करने से कोई फ़ायदा नहीं है. यदि आप आपरेशन नही करवाना चाहते तो किसी और डाक्टर से परामर्श से सकते हैं.” अब सोचने-समझने को कुछ भी बाकी नहीं रह गया था. उसे हर हाल मे जच्चा-बच्चा दोनों को बचाना था. वह तेजी से सीढियाँ चढने लगा था और नर्स उसके पीछे हो ली थी.

--

103 कावेरी नगर ,छिन्दवाडा,म.प्र. ४८०००१
07162-

1 blogger-facebook:

  1. सूचनाः

    "साहित्य प्रेमी संघ" www.sahityapremisangh.com की आगामी पत्रिका हेतु आपकी इस साहित्यीक प्रविष्टि को चुना गया है।पत्रिका में आपके नाम और तस्वीर के साथ इस रचना को ससम्मान स्थान दिया जायेगा।आप चाहे तो अपना संक्षिप्त परिचय भी भेज दे।यह संदेश बस आपको सूचित करने हेतु है।हमारा कार्य है साहित्य की सुंदरतम रचनाओं को एक जगह संग्रहीत करना।यदि आपको कोई आपति हो तो हमे जरुर बताये।

    भवदीय,

    सम्पादकः
    सत्यम शिवम
    ईमेल:-contact@sahityapremisangh.com

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------