सोमवार, 23 जुलाई 2012

शेर सिंह की लघुकथा - पुण्य लाभ

लघुकथा

पुण्‍य लाभ

  • शेर सिंह

तीर्थ स्‍थली पुरी में भगवान जगन्‍नाथ के उस बहुत बड़े मंदिर में जा कर उसने जहां -कहीं भी मूर्तियां, तस्‍वीरें, फल- फूल चढ़ाए हुए स्‍थान देखे, वह श्रद्धा और आदर से उन के आगे नत मस्‍तक हो कर अपना शीश झुकाता रहा। दरअसल, वह अपने एक प्रिय जन की अकाल मृत्‍यु के पश्‍चात मंदिर में दिवंगत आत्‍मा की शांति और अपने मन को संतोष, पुण्‍य कमाने के इरादे से आया था।

बहुत देर तक भगवान की मूर्तियों पर श्रद्धा सुमन अर्पित करने के पश्‍चात एवं मंदिर की प्रदक्षिणा कर बाहर निकला तो मंदिर के आस- पास, बैठे- खड़े कुछ भिखमंगों को अपने प्रिय बन्‍धु को स्‍मरण करते हुए पच्‍चीस -पचास पैसों के सिक्‍के फैंकते हुए आगे बढ़ता रहा। जेब में पड़ी थोड़ी सी रेजगारी जब खत्‍म हो गई, तो उसने भिखारियों को और आगे बढ़ने से रोक दिया। लेकिन एक भिखारी जिसे शायद कुछ नहीं मिला था, उस के पीछे ही पड़ गया। " मोते भी दियो बाबू … मोते भी दिया बाबू " की रट लगा कर। भिखमंगा जब उस के साथ ही हाथ फैलाए चलने लगा तो वह असहज होने लगा। और, फिर उस को गुस्‍सा आ गया। उस ने एक नजर इधर - उधर डाली और एक झन्‍नाटेदार चांटा भिखमंगे के गाल पर जड़ दिया। भिखमंगा गाल पकड़े अविश्‍वास से खड़ा रह गया। परन्‍तु पल भर में भिखमंगे की आंखें घृणा से भर उठी थी। और, वह संतोष से आगे बढ़ गया जैसे कुछ हुआ ही न हो।

--------------------------------------------------------------------------------------------------------------

शेर सिंह

के. के.- 100

कविनगर, गाजियाबाद -201 001

E-Mail: shersingh52@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------