रचनाकार में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

कहानी लेखन पुरस्कार - 52 - रानू मुखर्जी की कहानी - पीले फूलों वाला घर

SHARE:

पीले फूलों वाला घर -डॉ. रानू मुखर्जी उसके चारों ओर झाग इकट्ठा हो गया था। गुनगुनाते हुए कपड़े को मसल - मसलकर धो रहा था। पानी की बहती पतली धार...

image

पीले फूलों वाला घर

-डॉ. रानू मुखर्जी

उसके चारों ओर झाग इकट्ठा हो गया था। गुनगुनाते हुए कपड़े को मसल - मसलकर धो रहा था। पानी की बहती पतली धार के कारण झाग भी ज़्यादा बन रहा था। पर वो अपने काम में मस्त कपड़े को रगड़ने में व्यस्त अपने चारों ओर से उसे कोई मतलब नहीं था।

इतने में -

‘ ननकू ओ ननकू आज नल पर ही दिन बिताएगा क्या ? ग्राहक के आने का समय हो गया है, चल अंदर आकर इधर का काम सँभाल। ‘

‘आया चच्चा। अभी आया। बस दो मिनिट। ‘

पंद्रह - सोलह वर्ष के ननकू को चाचा अपने साथ गाँव से लेकर आए थे। उनकी विधवा बुआ का एक मात्र बेटा। चच्चा कहता उनको। वैसे देखा जाए तो चाय की दुकान के लिए मदद के हाथों की संख्या जितनी भी हो ग्राहकी के वक्त पर कम ही लगती है पर वैसा कुछ सोचकर चाचा ननकू को नहीं लाए थे। माँ - बाप -भाई- बहनों की देखभाल करते- करते ही चाचा पूरे इलाक़े के चाचा बन गए थे। माँ - बाप ने भी अच्छी सेवा कराई सब अस्सी - पचास्सी के होकर दोनों हाथों से भर - भरकर आशीष उड़ेलते हुए बैकुठं गए थे।

पर एक मुँहबोली बहन, सबसे छोटी और चंट। उसको सँभालने का काम बड़ा भारी पड़ा था चाचा को। इधर देखो तो उधर से फुर्र और उधर देखो तो इधर से फुर्र। घर पर तो जैसे पाँव टिकता ही नहीं था बहन का। एक बार जो घुमने गई तो अजमेर से ख़बर आई कि ऐसी - ऐसी एक लड़की मिली है, हमको उसने ही आपका नंबर दिया है, अगर आपकी बहन हो तो आकर ले जाइए। दौड़े चाचा। जाकर देखा तो दरगाह के पास के एक मकान पर बहन अपनी एक दोस्त के साथ बैठी थी।

देखते ही रो- रोकर हलकान हो गई। ‘भैया , हमको माफ़ कर दो। हम बतलाकर आना भूल गए। बाबा से मरते वक्त वादा किया था कि एक बार हम यहाँ ज़रूर चादर चढ़ाने आएगें। इसने साथ दिया तो आ गए। ‘ एक ही कमी थी चाचा में बड़े कमज़ोर दिल के थे सो खींचकर बहन को सीने से लगा लिया। ‘नहीं मुन्नी ऐसे नहीं रोते। बस एक शिकायत है काहे इधर- उधर को दौड़ती हो एक बार को कह देती तो हम भी- - - । चलो ठीक है। जो किया सो ठीक किया। अब घर चलो। ‘ ऐसे और कितना दिन चलता सो एक सजीले नौजवान के साथ पाँच साल पहले ही मुन्नी की शादी कर दी। दूध, दही, पेड़ा, बर्फ़ी की दुकान लगवा दी अपने पास के ही शहर में। बस दहेज ही समझ लीजिए अउर का। जम कर अपनी गृहस्थी सँभाल रही है मुन्नी। दूध दही, पेड़ा, बर्फ़ी के साथ अब दो बच्चों को भी सँभालने लगी है। दुकान भी अब दुतल्ला हो गया है।

दो मुँहबोले छोटे भाइयों को भी शहर में पढ़ा लिखाकर अपने पैरों में खड़ा कर दिया चाचा ने। अब और नहीं अपनी गृहस्थी को अब वो ही बसाएँ। बस, हुआ नहीं कुछ तो चच्चा का। गाँव के घर को अब तक रख छोड़ा है एक विधवा बुआ के भरोसे। महीने छै महीने में जाकर धान –गेहूँ - दाल -तेल का हिसाब देख आते हैं मुनीम से बस।

दो साल पहले जो गाँव गए तो लौटते वक्त बुआ ने पाँव पकड़ लिया। ‘ननकू इधर गाँव में रहकर बिगड़ रहा है। आजकल उसके मुँह से बीड़ी की गंध आने लगी है। पर हम क़सम खाते हैं बबुआ ! वो ऐसा नहीं है, पढ़ने में बहुत नहीं तो थोड़ा बहुत मन है उसका। बस संगत का असर है।

तुम अपने साथ रखोगे तो उसके रोटी - पानी का जुगाड़ भी हो जाएगा और तुम्हारी सेवा टहल भी करता रहेगा। तुम्हारे हाथ में इसे सौंपकर मेरे बैकुंठ का रास्ता फिर एकदम साफ़ । ‘ ‘अरे बुआ, आप काहे पाँव पकड़कर पाप चढ़ाती हो। माय के बाद से तो आप से ही स्नेह मिलता रहा हमको। हमारी सेवा टहल का करेगा इ लड़का बस अपनी ज़िंदगी सँभाल ले तो बहुत २ बहुत हुआ। चल रे ननुआ अपना सामान उठा ले, चल चाचा के डेरे पर। दो रोटी मील बाँटकर खा लेगें। बुआ तुम इसकी चिंता मत करना। ‘ बस एक यही ख़ासियत थी चाचा में, चाहे कुछ भी हो जाए पेशानी पर शिकन तक नहीं आने थे।

बस वो दिन और आज का दिन ,न ननकू को चाचा से कोई शिकायत रही और न चाचा को ननकू से। हलचल तो उस दिन से शुरू हुई जिस दिन शाम को एक चमचमाती हुई झक्क सफ़ेद कार चाचा के दुकान के सामने आकर रुकी और - - - - दूर- दूर से लोग चाचा की दुकान पर चाय पीने आते थे। उनकी चाय की एक ख़ासियत यह होती कि दूध को चाय में डालने पहले उसे उबालकर ख़ूब गाढ़ा बनाया जाता और फिर उसे उबलते चाय की देगची में डाला जाता। स्पेश्यल चाय का मज़ा भी स्पेश्यल होता उसमें इलायची, गुलाब की पंखुड़ियाँ डाली जाती। दूर - दूर तक इसकी महक फैल जाती। और फिर कढ़कर जो चाय बनती उसका स्वाद खाने वाले की जीभ पर सारा दिन बैठा रहता।

मेन रोड के एक ओर चाचा के चाय की दुकान थी और दूसरी ओर बड़े- बड़े नीम, शीशम, गुलमोहर, रबर के पेड़ों की लंबी कतार थी। उसके बाद का इलाक़ा एक मैदान की तरह काफ़ी लंबा और फैला हुआ है। सुनने में आता है कि वहाँ पर पार्क बनने वाला है पर न जाने ये प्रोजेक्ट कब पूरा होगा। उस ख़ाली मैदान के एक ओर पुरानी छोटी - छोटी दुकानों की कतारें थी। जहाँ रोटी - सब्ज़ी, पाँव - भाजी, ब्रेड - आमलेट, छोले - भटूरे, पानी - पूरी, आलू - चाट, आइसक्रीम, कुलफ़ी, रबड़ी- दूध मलाईवाली से लेकर और न जाने क्या क्या बिकता था उन दुकानों में। उन दुकानों के ठीक पीछे की ओर काफ़ी फ़ासला रखते हुए एक पॉश कोलोनी है। उन कोलोनीवालों को अपने सामने की ये कतारोंवाली दुकान से बहुत नफ़रत थी। हॉलाकि उनके सुबह शाम का नाश्ता, गेस्ट आने पर उनके लिए चटकारे वाले खाना और बीमार पड़ने पर दो वक्त की रोटी सब्ज़ी सब कुछ वहीं से आता था। फिर भी ये झोपडपट्टी इलाक़े के पीछे वाला पॉश कोलोनी कहलाना उनको पसंद नहीं आता था।

सो वहीं के रहने वाले बिल्डर मिस्टर भल्ला ने दुकानवालों के सामने ये प्रोपोजल रक्खा कि इन दुकानों को तोड़कर एक बड़ा सा मॉल बनाएगें जिसमें यहाँ पर रहनेवालों को एक - एक दुकान दी जाएगी और बाक़ी के सभी दुकानें म्युनिसीप्लटी की प्रोपरटी होगी क्योंकि ज़मीन उनकी है उनका जो मन चाहे वो करें। म्युनिसीपाल्टी को बात जच गई। लोगों में ख़ुशियों की लहर फैल गई दुकानदार अपनी पक्की दुकानों को लेकर ख़ुश, आस - पास के लोग मॉल के बनने पर सोसायटी की मर्यादा में बढ़ौती होने पर ख़ुश , बाहर से खाना लाने पर घरवाले बड़े रेस्टुरेन्ट से खाना लाने के मान से ख़ुश और न जाने ख़ुशियाँ कैसे - कैसे फैलने लगी थी उस मॉल के बनने भर से। और केवल रेस्टुरेन्ट ही नहीं और भी दुकानें बनी फूलों की, कपड़ों की, दर्ज़ी की, इधर-उधर से आकर बैंक वालों ने अपनी शाखाएँ खोल ली और शहर की बेहतरीन ब्यूटी पार्लरवालों ने भी अपनी शाखाएँ खोल ली। भल्ला साब तो लोक सेवा कर रहे थे सो अपना फायदा तो उन्होने सोचा ही नहीं बस बेटे के नाम से एक और पत्नी के नाम पर दो दुकान ले ली। बाकी तो राम ही राखे - - - -

चाचा की दुकान भी इन सबके साथ धमधमाकर चलने लगी। वहाँ से खाना खाकर लोग चाचा की दुकान पर चाय पीने आते। चाचा ने सोचा पंद्रह साल के ननकू को दुकान पर काम कराना देखने में अच्छा नहीं लगता है सो उन्होने उसे अपनी गद्दी के पास बैठाकर रखा। बस केवल देखरेख ३ ननकू दुकान में रखे सामान का हिसाब रखता था। स्कूल में भी वो हिसाब किताब में काफ़ी होशियार रहा। एक तरह से उसे दुकान का क्वालिटी मैनेजर कहा जा सकता है। इस चाय को लोगों ने ज़्यादा पसंद किया। उस दिन की चाय के अधिक बिक्री का कारण क्या था ? चाय के प्यालों को बदल डालो। टेबल को और चकाचक होना माँगता। सुबह की चाय से शाम की चाय की खपत ज़्यादा है। चच्चा आपको उस ग्राहक ने पैसे नहीं दिए। छुट्टे के बहाने आपने उसे पैसे ज़्यादा वापस कर दिए। ऐसे काम आजकल चच्चा को समझ में कम आता था। इसलिए ननकू भी ऐसे काम में आजकल ज़्यादा होशियार हो गया था। इससे आजकल चाचा के दुकान की चाय की धाक दूर - दूर तक जम गई थी। और चाचा ने भी आजकल ननकू को इन मामलों में पूरी की छूट दे रखी थी।

एक दिन तो ग़ज़ब ही हो गया। अचानक कुछ लोग धड़ाधड़ दुकान पर घुस आए। कहने लगे हमें ननकूजी ने भेजा है , दुकान का माप लेकर नए टेबल बनवाने हैं।

सोलह साल का ननकू चाचा के घर का अच्छा खाकर अट्ठारह- बीस का लगने लगा था। चाचा का दुकान भी जो पहले अच्छा चलता था आजकल बहुत अच्छा चलने लगा था। ननकू भी आजकल ननकूजी बन गए थे। उसकी तरक्की से चाचा बहुत ख़ुश थे। अब उन्हें दुकान की चिंता उतनी नहीं सताती थी।

कभी - कभी चाचा को लगता कि ननकू अपनी दुकान को उस मॉल को रेस्टुरंट की तरह बनाने की सोच रहा है। सो जब उनके दुकान के सामने चमचमाती झक्क सफ़ेद लक्जरी कार आकर रुकी तो वो ज़्यादा चकित नहीं हुए। उनको लगा कोई दुकान के मामले में बात करने आया होगा। गाड़ी से भल्ला साहब को उतरते देख चाचा चकराए। ये यहाँ पर क्या लेने आया है ? मार्केट में भल्ला का रेपुटेशन बहुत ख़राब था। लोग उनके बारे में तरह-तरह की बातें करते थे। अक्सर अन्डरवर्लड के साथ भी उनके नाम को जोड़ा जाता। सो लोग उनसे बचने की कोशिश करते हैं।

‘नटराज यहीं पर रहता है ? ‘ चारों ओर नज़र दौड़ाते हुए भल्ला साहब ने पूछा।

‘जी, आइए न, अंदर आइए। ननकूजी बजार से दुकान के लिए माल लाने गए है। अभी आते होंगे। चाय पिलाऊँ क्या ?एकदम स्पेश्यल। ‘ चेयर टेबल साफ़ करते हुए एक लड़के ने जवाब दिया।

‘नहीं, ठीक है। कब तक आएगा ? चाचा कहाँ है ? ‘

‘बस , हम सब उनका ही इंतज़ार कर रहें हैं। सेठ जी सुबह की आरती कर रहें हैं। आप बैठिए न। ‘ लड़का टेबल पर बीसलरी के एक ठंडे बोतल को रखते हुए बोला।

‘ जय सिया राम ! अरे भल्लाजी ! आप कब आए? अरे भोला साब को चाय पिला और मेरी भी बनाना। बोलिए भल्लाजी इधर कैसे आना हुआ ?‘

‘ इस इलाक़े में तो आप की दुकान काफ़ी जम गई है। नटराजन आजकल काफ़ी मेहनत कर रहा है। बना बनया बेटा मिल गया आपको। पढ़ाई लिखाई कहाँ तक है लड़के की। ‘

‘बुआ का बेटा है भल्लाजी। गाँव में बिगड़ रहा था। सो साथ लेकर आ गया। वैसे पढ़ाई `लिखाई का मौक़ा इस लड़के को नहीं मिला। मन बहुत था साब लड़के का, कोशिश भी बहुत की इसने यहाँ आकर पर वही, होशियार होने पर भी लाईन में सबसे पीछे खड़ा करते,अच्छा लिखने पर भी नंबर कम मिलता। गंदा लड़का- - -गंदा लड़का सुन सुनकर तो लड़के को कपड़े धोने का रोग लग गया है साब। मैंने बहुत समझाया कि गंदगी कपड़े में नहीं है, वो तो लोगों के मन में है जिसे तू निकालने से रहा। पर वो माने तब न। सो यहाँ पर आकर भी उसने पढने से मना कर दिया। ‘

‘ आज के पढ़े लिखे लड़के इन बातों को कहाँ मानते हैं चाचा। सब बदलने लगे हैं। ‘

‘पर भल्ला साब लोग इसे भूलने भी तो नहीं देते। एक विभाजन रेखा खींच ही देते हैं। ‘

‘अब बताइए खेत में किसान काम नहीं करेगा तो खाएगा क्या ?पर ये शहर के लड़कों के लिए तो जैसे ये एक छूत का रोग है। गवाँर - गवाँर कह कर जीना मुश्किल कर दिया था। ‘

‘ ख़ैर छोड़िए इन बातों को चाचा मैं कह रहा था आपके बेटे की बात आजकल लोगों की जुबान पर चढ़ी हुई है। उसने आपके दुकान को सँभालने में जो होशियारी दिखाई है उसकी जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है। दिमाग़ बड़ा तेज है लड़के का सो मैं कह रहा था कि अगर वो मेरे साथ जुड़ जाए तो इस शहर में बहुत बड़ा मैदान हम मार सकते हैं। ‘

‘जुड़ने का मतलब साब ?‘ ‘अरे चाचा ! मेरे साथ मिलकर काम करेगा और क्या ?‘

‘दिमाग़ तेज हो सकता है पर देखा जाए तो अभी छोटा है ननकू। फिर भी बुआ से पूछे बग़ैर तो कुछ कह नहीं सकता मैं। उसे क्या जवाब दूँगा मैं। मेरे साथ तो बेटे की तरह रहता है। मेरी दुकान उसकी दुकान दोनों बात बराबर। फिर भी आप कह रहें हैं तो पूछ देखूँगा उसे। लीजिए चाय आ गई साब। ‘

‘ अरे चाचा पूछना उछना छोड़िए कल भेज दीजिएगा मेरे ऑफ़िस में बात करने के लिए आपके वो ननकू को। ‘ चाय तो पड़ी की पड़ी रही और भल्ला साब उठकर चले गए। चाचा भी चाय पीना भूल गए।

लगा जैसे भल्ला साब धमकाकर गए हो। चाचा को तो ननकू की जान ख़तरे में लगने लगी। इतने में ननकू बाईक पर धमधमाते हुए दुकान के सामने आकर रुका। चाचा को सर पर हाथ रखे सोचते देख सोच में पढ़ गया। सुनकर चाचा को दिलासा देकर ननकू ने कहा खेतों को बैल बनकर जोता है चाचा मेरे लिए परेशान मत होना। मन और शरीर दोनों से मैं मज़बूत हूँ। एक बार देखूँ तो जरा जाकर मामला क्या है सेठजी का। जो भी हो चच्चा आप निश्चिंत रहो मैं आप को छोड़कर कहीं नहीं जाने वाला।

बस साफ़ सुथरा होकर जाने के लिए ही ननकू कपड़े धोने बैठा था। फिर सूखने पर उसे कलफ़ लगाकर इस्तरी करते वक्त तक उसका दिमाग़ सेठजी में उलझा रहा। शहर के इतने बड़े शेठ के साथ अगर जम जाय तो माँ को भी यहाँ लाकर रख सकता है। उनका घर - घर जाकर काम करना उसे एकदम नहीं सुहाता है। एक - दो बार चच्चा से माँ को यहाँ लाने के बारे में कहा था पर हर बार चच्चा ने यह कह कर टाल दिया कि वो दोनों का ख़र्चा नहीं उठा सकगें। सोचते ही उसके नाक तक पानी बह आया उसने उसे सुड़क लिया। बाहर बहने नहीं दिया।

शहर के इतने बड़े सेठ के मकान को ढूँढ़ना कोई मुश्किल नहीं था। पूछने पर हर कोई बता रहा था कि वो पीले फूलों वाला घर ही सेठजी का है। सच में घर की रौनक पीले फूलों के दो बड़े - बड़े पेड़ों से ही थी। एक झलक में लगा जैसे सूरज की रोशनी से पूरा घर नहा रहा है। गुच्छे - गुच्छे पीले फूलों से पेड़ भरा हुआ था। नीचे भी फूलों की पंखुड़ियाँ बिखरी पड़ी थी। हवा में हिल - दूल रहे थे गुच्छे। ननकू को लगा जैसे इशारे से बुला रहें हैं उसे। ननकू फूलों में इतना खो गया था कि गेट पर खड़ा दरवान उसे दिखा ही नहीं।

‘अबे ओ लड़के ! क्या चाहिए ? किससे मिलना है ? कोउनो काम है का ? ‘

‘जी सेठजी से मिलना है। उन्हेने ही बुलाया है। ननकू नाम है मेरा । ‘

‘ चलो इस कोने में बैठ जाओ। मैं अंदर से पूछ कर आता हूँ। ‘ एक नज़र में दरवान को ननकू ऐसा ही लगा। हाथ से धोए कपड़े पर इस्तरी फेरकर पहनने पर भी निचोड़ने के निशान कपड़ों से स्पष्ट झलक रहे थे। भले ही कपड़ा साफ़ हो। पर ऐसे कपड़े अपनी पहली छाप कुछ अच्छा नहीं छोडतें हैं। सो ननकू के साथ भी ऐसा ही हुआ। पीले फूलों तले के अँधेरे से अनजान ननकू कोने पर बैठा रहा, दरवान के स्टूल पर, सेठजी के बुलाने के इंतज़ार में।

भल्ला साब ने एकदम से कोई बात नहीं की। श्रीमती भल्ला का कहना था कि पहले लड़के को परखलो फिर ज़िम्मेदारी सौंपने वाली बात सोचना। एकदम से बस्ती के छोकरे को- - - । जरा ठोक बजा तो लो,एकदम से उसे साथ में लगा लेना ठीक नहीं। भूखे नंगों पर देख भालकर भरोसा करना चाहिए।

और फिर ननकू को भल्लाजी ने अपने ऑफिस के काम में मदद के लिए आने को कहा।

ननकू को ऐसा लगा जैसे उसे एकदम से अनमोल खजाना मिला गया हो। उसे पता था कि एक बार अगर उसे भल्लाजी परख लेंगे तो फिर उसकी बुद्धि का लोहा मानने लगेगें। तब उसके बिना उनका काम करना मुश्किल हो जाएगा। उसमें स्कुली बिद्या नहीं थी पर काम - काजी बुद्धि भगवान ने उसमें कूट- कूटकर भर दी थी। अपनी काबिलीयत के बल पर वो किसी भी क्षेत्र में सुई की तरह घुस जाता और फिर फाल बनकर निकल आता। गाँव की उबड - खाबड जमीन पर हल चलाकर फसल उगाई है उसने फिर तो ये शहर - - - -।

दरअसल भल्लाजी ननकू के लोगों से कनटेक्टस का फायदा उठाना चाहते थे। पर जब तक व्यवसाय के क्षेत्र में ननकू का फूल इनवोल्भमेंन्ट न हो इस मामले में उसकी कोई मदद नहीं मिल सकती थी। सच में देखा जाए तो भल्लाजी अपनी पत्नी की बातों से डर भी गए थे। उनकी पत्नी एक बहुत बडे व्यवसायिक परिवार से थी। शादी से पहले डायरेक्ट नहीं तो इनडायरेक्ट रूप से वो परिवार के व्यवसाय से जुडी रहती थी। आज भी कोई भी डील के फाईनल होने से पहले उसके पिता अपनी बड़ी बेटी से सलाह लेते हुए नहीं चूकते हैं। बहुत तेज दिमाग है उनका। पर है बुद्धू।

ननकू भी ऑफिस में होनेवाली हर मीटिंग का ध्यान रखता और भरसक भल्लाजी को मदद करने की कोशिश करता। वैसे अगर कपडे ननकू सही - सही पहन ले तो बडे बडों की छट्टी कर सकता है। खिलता हुआ रंग,चौडा माथा , लम्बी कद - काठी का होने के कारण एक नजर में उसे देखनेवाले भल्लाजी के परिवार का ही समझतें हैं। और आजकल तो बोल - बोलकर अंग्रेजी भी चुस्त बोलने लगा है।

आजकल भल्लाजी अपने केबीन के बगल में ही एक और केबिन बनवा रहें हैं। एकदम से मॉर्डन। लोगों में फुसफुसाहट है कि इसमें भल्लाजी बैठेगें और अपना पुराना वाला ननकू को सौंप देगें। चाचा के कान में बात गई तो चाचा सोच में पड गए। मदद की बात कही थी सेठ ने, और अब तो लग रहा है हाथ से छोकरा गया। ए. सी. वाले कमरे को छोडकर कहाँ यहाँ आकर रहने वाला है। और बुआ को फिर क्या मुँह दिखाएगें, बोलेगी बुढापे के सहारे को छीन लिया। नहीं ऐसा नहीं चलेगा ननकू से सीधे - सीधे बात करना पडेगा।

उधर तो ननकू भल्लाजी के कमरे का और अधिक ध्यान रखने लगा। कम्प्यूटर का क्लास करके उसमे भी बडी सफाई से काम करने लगा था। सेठ जी ने आजकल अपना सभी काम ननकू ६ पर छोड़ रखा था। श्रीमती भल्ला की शंका तो कच्ची मिट्टी के ढेले की तरह ढह गई थी। बल्कि भल्लाजी से छुप - छुपाकर करनेवाले श्रीमती भल्ला के बहुत से काम वो बड़ी सफ़ाई के साथ कर देता था। और भल्लाजी को उसकी भनक तक नहीं लगने देता ननकू। जैसे बड़ी बेटी का मैके में पैर रखना मना है क्योंकि जवाँई कोई काम धाम नहीं करता है और उसकी बाज़ नज़र भल्लाजी की गद्दी पर है। बेटी को समय - समय पर भल्लाजी से छुपाकर पैसे भेजने का काम आजकल श्रीमती भल्ला ननकू से करवाती हैं। रक़म कभी- कभी लाख तक को टाप जाती है तब तो ननकू भी डर जाता है। सेठजी की नाक के नीचे से इतनी बड़ी रक़म को निकालकर बेटी तक पाचार करना - --।

आजकल भल्लाजी विदेश भी जल्दी - जल्दी जाने लगें हैं। वहाँ पर भी एक बड़ी डील पर बात चल रही है। सो इधर का सारा काम ननकू के कंधों पर। ननकू आज कल में भल्लाजी से बात करना चाहता था कि उसे रहने के लिए एक कमरा अगर मिल जाता तो अच्छा होता। क्योंकि वो माँ को यहाँ पर लाकर रखना चाहता है। पर इस बार भल्लाजी दौरे पर ज़्यादा ही देर लगा रहें थे। चाचा का डर उनकी आँखों से छलक रहा था। डर ननकू को खोने का। ननकू को चाचा का परेशान होना भी खल रहा था। सो उसने कुछ दिन के लिए चाचा के साथ रहने की सोची। पर वही भल्लाजी का न होना, श्रीमती भल्ला का उसको बार - बार अपने काम के लिए बुला भेजना और ऑफ़िस के रोज़ के काम में ननकू इस तरह से लिपट गया था कि उसे और कुछ सोचने का समय भी नहीं मिल रहा था।

आधी रात को अमेरिका से भल्लाजी का फ़ोन आया कि डील फ़ाइनल हो गया है सो जश्न मनाओ। बस मैं आया। और ननकू अब तेरा काम सही तौर पर शुरू होगा। बात क्या थी सर पर बम फूटने जैसा था।

‘क्यों चाचा से बात क्यों नहीं कर पाएगा ? ‘

‘ जान माँगों तो चाचा दे देगें पर वो दुकान - - -। ‘

‘ अरे तू तो गधा के गधा ही रहेगा। किसने माँगी है दुकान ? जानता भी है कितना पैसा मिलेगा चाचा को उस ज़मीन का ? पूरे तीन करोड़। तेरे चाचा ने सोचा भी है कभी उस टूटी - फूटी झोपडी की मैं कितनी क़ीमत दे सकता हूँ ? ‘

‘ नहीं भल्लासाब ये काम मेरे बस का नहीं है। ‘ ‘ पहले ये तो पता कर कि उस जगह का मालिक कौन है। जैसे - तैसे चाचा से निपटे फिर पता चला चार और इसके हिस्सेदार हैं। फिर ? बस अब तू अपना दिमाग़ और मत चला मैं जो कहता हूँ सुन पता कर कि चाचा के बाद - - - कौन- - -? ‘

‘ नहीं - -- नहीं मेरे पूछने पर ही चच्चा गुस्साएगा । फिर ये सब बातें चच्चा मुझसे क्यों करने लगे ? कुछ गड़बड़ लगने पर देश भेज देगें। माँ के पास। वहीं गाँव में। ‘

‘अबे डरपोक कहीं का। चल तुझे मैं सिखाता हूँ कैसे चाचा से बात करेगा। ‘

रात को पत्नी बिगड़ने लगी क्यों लड़के को परेशान कर रहे हो। सीधा - साधा लड़का है उससे ये सब नहीं होगा। श्रीमती भल्ला को ननकू के भाग जाने का डर था। फिर उनका काम कौन करेगा ? ननकू एकदम से सेट हो गया था। बडी इमानदारी और सफाई से उनका काम करता था।

‘अरी मोटी बुद्धीवाली , उसको लाया ही मैं इसी काम के लिए कि उस जगह को हथियाने में मेरी मदद करेगा। म्युनिसीपील्टी की ज़मीन से तो जितना कमाया वो तो सब बाँटने - बुँटने में ही चला गया। मेरे हत्थे, इतना मगज खपाने के बाद भी कुछ नहीं आया। मैंने शांति कर ली । और तभी से इस टोह में लगा हूँ कि उसके बाद अगर कोई बड़ी ज़मीन इस इलाक़े में है तो ये लाले के चाचा की है जो मेरे काम की है। मुरख है। कोई दिमाग़ है नहीं उस चाचे का। बस बात करो कि आँखों में पानी। कच्चा - कच्चा सा मन है उसका। औरतों की तरह। लगाता हूँ लड़के को और निकालवाता हूँ कि लाइन में और कौन-कौन हैं उसके बाद। पता तो चले रास्ता और कितना साफ़ करना पड़ेगा। बच्चे नहीं न उसके। चाचे ने शादी नहीं बनाई। बस एक ननकू है। बड़ा दिल लग गया है तेरा भी उस ननकू के साथ। इसमें कोई शक नहीं कि लड़का अच्छा है। अच्छा हुआ। ऐसे ही लगा कर रखना। काम निबटाने में आसानी रहेगी। ‘

श्रीमती भल्ला को काटो तो ख़ून नहीं। भौंचक्की रह गई। उसे लगा अब तो गया ननकू हाथ से। अगर काम नहीं निकला तो खतम। भल्लाजी के पास कुछ अंट - संट लोगों का भी आना- जाना लगा रहता हैं। लुक छुपकर बहुत सुन - समझने की कोशिश की थी श्रीमती भल्ला ने पर हर बार मामला उनकी समझ से बाहर की निकलती । इतने बड़े परिवार से आई थी पर यहाँ पर उनकी कोई क़ीमत नहीं आँकी गई। सास ने भी जम कर राज किया और आदमी तो आख़िर आदमी ही निकला। अपनी बेटी के साथ वो ऐसा होता नहीं देखना चाहती थी। इसलिए लता ने जब सुभाष से शादी करने की बात की तो उसकी पूरी मदद की श्रीमती भल्ला ने। कम से कम पति का भरपूर प्यार तो मिले बेटी को। ऐसे तो सुभाष अच्छा लगा था उनको। पर राजनीति में उसकी इतनी रुची उनको एकदम पसंद नहीं आई। इसके चलते उसने नौकरी भी छोड़ दी। दिन - दरवेशों के बारे में ज़्यादा चिंता रहती है उसे। चलो ठीक है। कभी मंत्री-वंत्री कुछ बन जाए तो फिर तो मज़े ही मज़े हैं। लता कहती है अगर मंत्री बन गए न सुभाष तब तो पापा भी उनकी जी हजूरी करेंगे। और है भी कौन भल्लाजी के जायदाद को खाने वाला। जवाँई को बेटा नहीं मान सके और अब जेठ के बेटे को गोद ले लिया है। बेटी को मदद करने को कहो तो धमकी देते हैं उसे एक पैसा भी देने की बात मत करना अगर किया तो सारी जायदद बेटे के नाम कर दूँगा। चलो ठीक है उन्होने भी रास्ता निकाल लिया है।

जिसका हक़ है उसे कुछ तो मिले। चोरी छिपे ही सही। एक - एक करके धीरे -धीरे चारों गड्डियाँ निकाल कर चाचा के सामने रख दी ननकू ने। हज़ार - हज़ार की चार गड्डियों को देखते ही चाचा की आँखें फैल गई। लगा जैसे बत्ती चली गई हो और तेज रोशनी सामने आ गई हो। चाचा की आँखें गीद्द की आँखें बन गई। हड़बड़ाहट में चाचा की जुबान तालु से चिपक गई थी। ‘इतने पैसे किसके - -- ? कहाँ से लाया तू ? किसने दिए - -? इन पैसों से क्या करेगा - -- - ? अरे ननकू कुछ तो बोल - - पहले तो हटा ले इन पैसों को मेरे सामने से। कुछ ग़लत - सलत तो नहीं कर रहा है न तू - - -? ‘ जीतनी देर तक ननकू भल्लाजी की बातों कों रिपीट टेलीकास्ट की तरह सुनाता रहा उतनी देर तक चाचा की आँखें चारों धार बहती रही।

ननकू रुका और चाचा ने गहरी साँस ली। चाचा को समझ में आ गया था अब कि इस दुकान को भल्लासाब के हाथों से बचाना कठिन है।

उनकी आँखों के सामने हरे - भरे खेत लहलहाने लगे। खेत में काम करते हुए हट्टे- कट्टे किसान। औरत मर्द दोनों। औरतों की पीठ पर कपड़ों में पोटली की तरह बँधे लटकते हुए बच्चे। खेतों के चारों ओर बड़े- बड़े पेड़। आम, जामुन, गुल्लर, सहतूत के पेड़ मौसमानुसार फलों से लदे - फदे रहते। एक बड़े से जामुन के पेड़ के नीचे को गोबर से लीप पोतकर बैठने लायक बना दिया गया था। जिसके चारों ओर चार मज़बूत लकड़ी का खूँटा गड़ा था। चारों खूंटे पर छत की तरह सफ़ेद चादर तान दी गई थी। घर का पुराना चादर कहीं - कहीं से फटा हुआ भी था। दादा के मिमियाने पर दादी ने गरजकर कहा था,रहने दो कटा -फटा इससे लोगों की बुरी नज़र नहीं लगती और उस साल राखी पूनम के दिन तीन बड़े पत्थर पर सूखी लकड़ियों को आग लगाकर दादी ने पहली बार एक बड़ी सी टेढ़ी मेढ़ी देगची पर पानी चढ़ाया था। पानी गरम होने पर दादा ने उबाल कर गाढ़ा किया हुआ दूध उसमें डाल दिया। फिर दादा से चिपके खड़े बाबा ने उसमें चाय की पत्ती डाल दी और फिर माँ ने पाव भर चीनी उसमें उड़ेल दी। सभी ने बारी-बारी से चूल्हे में सूखी लकड़ियों को डाला और तब तक डालते रहे जब तक चाय उबल-उबलकर मस्त न बन गई।

फिर तो चाय की दुकान पर लोगों का ताँता लग गया। और कुछ ही दिन में दादा की चाय की दुकान बड़े ज़ोर शोर से चल पड़ी। पुरखों के घर को छोड़कर शहर में आकर बसना सफल हुआ। फिर तो एक- एक करके चाचा के आँखों के सामने ही अनेक बदलाव आए। चाचा को लगातार अपने साथ ही लगाए रखते। चाचा, दादा के हर पैंतरेबाज़ी के साक्षी रहे। वारिस जो थे। दादा ने धीरे - धीरे खूँटों को आगे -आगे खिसकाना शुरू कर दिया। पैसा भी आता रहा। इतना पैसा बनाया कि ज़रूरत पड़ने पर दादा किसानों को उधार भी देने लगे थे। समय पर उधार न चुका पाने पर किसानों की गिरवी रखी ज़मीन पर दादा कब्जा कर लेते। भोले भाले किसानों की बहुत बददुआ बटोरी दादा ने। दादा के पाँच बेटे थे। गाँववालों का कहना है कि असमय जवान बेटों के मौत का कारण असहाय लोगों की बददुआ रही। दादी पागल हो गई। अंतिम एक जवान बेटे को हर समय सीने से चिपकाए रहती और जब तक दादी ज़िंदा रही दादा को गाँव के पुरखों के घर में घुसने नहीं दिया। इससे चाय की दुकान के पास रहने के लिए दादा ने घर बनाया। घर के आस पास और-और ज़मीन जुड़ती गई। बददुआओं की कोई चिंता नहीं थी दादा को। सबकुछ बढ़ रहा था।

आज ननकू की बातों को सुन कर चाचा को ऐसा लग रहा था जैसे इस ज़मीन पर लगी गाँव वालों की बददुआ आज भी उनका पीछा नहीं छोड़ रही है। बाबा का जीवन भी रोते कलपते बीता। निपट अकेले। दूर- दूर तक अपना कहने वाला कोई नहीं। एक मुँहबोली बहन,जो राखी बाँधती थी। उनसे जुड़ने के बाद विधवा हो गई। माँ के अंतिम दिनों में गाँव में उन्होने माँ की बहुत सेवा की। सो तभी से वहीं रह रहीं हैं। दुकान की ज़िम्मेदारी को सँभाल लेने पर चाचा ने बाबा को भी गाँव भेज दिया था। बहुत दौड़ धूप होती थी।

इधर दुकान , उधर गाँव में बीमार माँ - बाबा। चाचा की खोई -खोई नज़र और तेज चलती साँसों को देख कर ननकू भी सोच में पड़ गया। उसे लगा भल्लासाब से चाचा डर गए हैं। पर इस लंबे सफ़र से चाचा थक से गए थे। बस अब और नहीं। भल्लासाब के बढ़ते हाथों को अब अपने गरदन पर महसूसने लगे थे। आँखों को बंद करते ही सामने बड़े - बड़े ऊँचे -ऊँचे मॉल नज़र आने लगे थे। जो लगातार सिमटकर क़रीब आ रहे थे। इतने क़रीब की ननकू और चाचा के अस्तित्व को ही उसने निगल लिया ।

--

डॉ. रानू मुखर्जी,

बडौदा - ३९००२३.

COMMENTS

BLOGGER

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=complex$count=6$page=1$va=0$au=0

|विविधा_$type=blogging$au=0$va=0$count=6$page=1$src=random-posts

 आलेख कविता कहानी व्यंग्य 14 सितम्बर 14 september 15 अगस्त 2 अक्टूबर अक्तूबर अंजनी श्रीवास्तव अंजली काजल अंजली देशपांडे अंबिकादत्त व्यास अखिलेश कुमार भारती अखिलेश सोनी अग्रसेन अजय अरूण अजय वर्मा अजित वडनेरकर अजीत प्रियदर्शी अजीत भारती अनंत वडघणे अनन्त आलोक अनमोल विचार अनामिका अनामी शरण बबल अनिमेष कुमार गुप्ता अनिल कुमार पारा अनिल जनविजय अनुज कुमार आचार्य अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ अनुज खरे अनुपम मिश्र अनूप शुक्ल अपर्णा शर्मा अभिमन्यु अभिषेक ओझा अभिषेक कुमार अम्बर अभिषेक मिश्र अमरपाल सिंह आयुष्कर अमरलाल हिंगोराणी अमित शर्मा अमित शुक्ल अमिय बिन्दु अमृता प्रीतम अरविन्द कुमार खेड़े अरूण देव अरूण माहेश्वरी अर्चना चतुर्वेदी अर्चना वर्मा अर्जुन सिंह नेगी अविनाश त्रिपाठी अशोक गौतम अशोक जैन पोरवाल अशोक शुक्ल अश्विनी कुमार आलोक आई बी अरोड़ा आकांक्षा यादव आचार्य बलवन्त आचार्य शिवपूजन सहाय आजादी आदित्य प्रचंडिया आनंद टहलरामाणी आनन्द किरण आर. के. नारायण आरकॉम आरती आरिफा एविस आलेख आलोक कुमार आलोक कुमार सातपुते आशीष कुमार त्रिवेदी आशीष श्रीवास्तव आशुतोष आशुतोष शुक्ल इंदु संचेतना इन्दिरा वासवाणी इन्द्रमणि उपाध्याय इन्द्रेश कुमार इलाहाबाद ई-बुक ईबुक ईश्वरचन्द्र उपन्यास उपासना उपासना बेहार उमाशंकर सिंह परमार उमेश चन्द्र सिरसवारी उमेशचन्द्र सिरसवारी उषा छाबड़ा उषा रानी ऋतुराज सिंह कौल ऋषभचरण जैन एम. एम. चन्द्रा एस. एम. चन्द्रा कथासरित्सागर कर्ण कला जगत कलावंती सिंह कल्पना कुलश्रेष्ठ कवि कविता कहानी कहानी संग्रह काजल कुमार कान्हा कामिनी कामायनी कार्टून काशीनाथ सिंह किताबी कोना किरन सिंह किशोरी लाल गोस्वामी कुंवर प्रेमिल कुबेर कुमार करन मस्ताना कुसुमलता सिंह कृश्न चन्दर कृष्ण कृष्ण कुमार यादव कृष्ण खटवाणी कृष्ण जन्माष्टमी के. पी. सक्सेना केदारनाथ सिंह कैलाश मंडलोई कैलाश वानखेड़े कैशलेस कैस जौनपुरी क़ैस जौनपुरी कौशल किशोर श्रीवास्तव खिमन मूलाणी गंगा प्रसाद श्रीवास्तव गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर ग़ज़लें गजानंद प्रसाद देवांगन गजेन्द्र नामदेव गणि राजेन्द्र विजय गणेश चतुर्थी गणेश सिंह गांधी जयंती गिरधारी राम गीत गीता दुबे गीता सिंह गुंजन शर्मा गुडविन मसीह गुनो सामताणी गुरदयाल सिंह गोरख प्रभाकर काकडे गोवर्धन यादव गोविन्द वल्लभ पंत गोविन्द सेन चंद्रकला त्रिपाठी चंद्रलेखा चतुष्पदी चन्द्रकिशोर जायसवाल चन्द्रकुमार जैन चाँद पत्रिका चिकित्सा शिविर चुटकुला ज़कीया ज़ुबैरी जगदीप सिंह दाँगी जयचन्द प्रजापति कक्कूजी जयश्री जाजू जयश्री राय जया जादवानी जवाहरलाल कौल जसबीर चावला जावेद अनीस जीवंत प्रसारण जीवनी जीशान हैदर जैदी जुगलबंदी जुनैद अंसारी जैक लंडन ज्ञान चतुर्वेदी ज्योति अग्रवाल टेकचंद ठाकुर प्रसाद सिंह तकनीक तक्षक तनूजा चौधरी तरुण भटनागर तरूण कु सोनी तन्वीर ताराशंकर बंद्योपाध्याय तीर्थ चांदवाणी तुलसीराम तेजेन्द्र शर्मा तेवर तेवरी त्रिलोचन दामोदर दत्त दीक्षित दिनेश बैस दिलबाग सिंह विर्क दिलीप भाटिया दिविक रमेश दीपक आचार्य दुर्गाष्टमी देवी नागरानी देवेन्द्र कुमार मिश्रा देवेन्द्र पाठक महरूम दोहे धर्मेन्द्र निर्मल धर्मेन्द्र राजमंगल नइमत गुलची नजीर नज़ीर अकबराबादी नन्दलाल भारती नरेंद्र शुक्ल नरेन्द्र कुमार आर्य नरेन्द्र कोहली नरेन्‍द्रकुमार मेहता नलिनी मिश्र नवदुर्गा नवरात्रि नागार्जुन नाटक नामवर सिंह निबंध नियम निर्मल गुप्ता नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’ नीरज खरे नीलम महेंद्र नीला प्रसाद पंकज प्रखर पंकज मित्र पंकज शुक्ला पंकज सुबीर परसाई परसाईं परिहास पल्लव पल्लवी त्रिवेदी पवन तिवारी पाक कला पाठकीय पालगुम्मि पद्मराजू पुनर्वसु जोशी पूजा उपाध्याय पोपटी हीरानंदाणी पौराणिक प्रज्ञा प्रताप सहगल प्रतिभा प्रतिभा सक्सेना प्रदीप कुमार प्रदीप कुमार दाश दीपक प्रदीप कुमार साह प्रदोष मिश्र प्रभात दुबे प्रभु चौधरी प्रमिला भारती प्रमोद कुमार तिवारी प्रमोद भार्गव प्रमोद यादव प्रवीण कुमार झा प्रांजल धर प्राची प्रियंवद प्रियदर्शन प्रेम कहानी प्रेम दिवस प्रेम मंगल फिक्र तौंसवी फ्लेनरी ऑक्नर बंग महिला बंसी खूबचंदाणी बकर पुराण बजरंग बिहारी तिवारी बरसाने लाल चतुर्वेदी बलबीर दत्त बलराज सिंह सिद्धू बलूची बसंत त्रिपाठी बातचीत बाल कथा बाल कलम बाल दिवस बालकथा बालकृष्ण भट्ट बालगीत बृज मोहन बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष बेढब बनारसी बैचलर्स किचन बॉब डिलेन भरत त्रिवेदी भागवत रावत भारत कालरा भारत भूषण अग्रवाल भारत यायावर भावना राय भावना शुक्ल भीष्म साहनी भूतनाथ भूपेन्द्र कुमार दवे मंजरी शुक्ला मंजीत ठाकुर मंजूर एहतेशाम मंतव्य मथुरा प्रसाद नवीन मदन सोनी मधु त्रिवेदी मधु संधु मधुर नज्मी मधुरा प्रसाद नवीन मधुरिमा प्रसाद मधुरेश मनीष कुमार सिंह मनोज कुमार मनोज कुमार झा मनोज कुमार पांडेय मनोज कुमार श्रीवास्तव मनोज दास ममता सिंह मयंक चतुर्वेदी महापर्व छठ महाभारत महावीर प्रसाद द्विवेदी महाशिवरात्रि महेंद्र भटनागर महेन्द्र देवांगन माटी महेश कटारे महेश कुमार गोंड हीवेट महेश सिंह महेश हीवेट मानसून मार्कण्डेय मिलन चौरसिया मिलन मिलान कुन्देरा मिशेल फूको मिश्रीमल जैन तरंगित मीनू पामर मुकेश वर्मा मुक्तिबोध मुर्दहिया मृदुला गर्ग मेराज फैज़ाबादी मैक्सिम गोर्की मैथिली शरण गुप्त मोतीलाल जोतवाणी मोहन कल्पना मोहन वर्मा यशवंत कोठारी यशोधरा विरोदय यात्रा संस्मरण योग योग दिवस योगासन योगेन्द्र प्रताप मौर्य योगेश अग्रवाल रक्षा बंधन रच रचना समय रजनीश कांत रत्ना राय रमेश उपाध्याय रमेश राज रमेशराज रवि रतलामी रवींद्र नाथ ठाकुर रवीन्द्र अग्निहोत्री रवीन्द्र नाथ त्यागी रवीन्द्र संगीत रवीन्द्र सहाय वर्मा रसोई रांगेय राघव राकेश अचल राकेश दुबे राकेश बिहारी राकेश भ्रमर राकेश मिश्र राजकुमार कुम्भज राजन कुमार राजशेखर चौबे राजीव रंजन उपाध्याय राजेन्द्र कुमार राजेन्द्र विजय राजेश कुमार राजेश गोसाईं राजेश जोशी राधा कृष्ण राधाकृष्ण राधेश्याम द्विवेदी राम कृष्ण खुराना राम शिव मूर्ति यादव रामचंद्र शुक्ल रामचन्द्र शुक्ल रामचरन गुप्त रामवृक्ष सिंह रावण राहुल कुमार राहुल सिंह रिंकी मिश्रा रिचर्ड फाइनमेन रिलायंस इन्फोकाम रीटा शहाणी रेंसमवेयर रेणु कुमारी रेवती रमण शर्मा रोहित रुसिया लक्ष्मी यादव लक्ष्मीकांत मुकुल लक्ष्मीकांत वैष्णव लखमी खिलाणी लघु कथा लघुकथा लतीफ घोंघी ललित ग ललित गर्ग ललित निबंध ललित साहू जख्मी ललिता भाटिया लाल पुष्प लावण्या दीपक शाह लीलाधर मंडलोई लू सुन लूट लोक लोककथा लोकतंत्र का दर्द लोकमित्र लोकेन्द्र सिंह विकास कुमार विजय केसरी विजय शिंदे विज्ञान कथा विद्यानंद कुमार विनय भारत विनीत कुमार विनीता शुक्ला विनोद कुमार दवे विनोद तिवारी विनोद मल्ल विभा खरे विमल चन्द्राकर विमल सिंह विरल पटेल विविध विविधा विवेक प्रियदर्शी विवेक रंजन श्रीवास्तव विवेक सक्सेना विवेकानंद विवेकानन्द विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक विश्वनाथ प्रसाद तिवारी विष्णु नागर विष्णु प्रभाकर वीणा भाटिया वीरेन्द्र सरल वेणीशंकर पटेल ब्रज वेलेंटाइन वेलेंटाइन डे वैभव सिंह व्यंग्य व्यंग्य के बहाने व्यंग्य जुगलबंदी व्यथित हृदय शंकर पाटील शगुन अग्रवाल शबनम शर्मा शब्द संधान शम्भूनाथ शरद कोकास शशांक मिश्र भारती शशिकांत सिंह शहीद भगतसिंह शामिख़ फ़राज़ शारदा नरेन्द्र मेहता शालिनी तिवारी शालिनी मुखरैया शिक्षक दिवस शिवकुमार कश्यप शिवप्रसाद कमल शिवरात्रि शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी शीला नरेन्द्र त्रिवेदी शुभम श्री शुभ्रता मिश्रा शेखर मलिक शेषनाथ प्रसाद शैलेन्द्र सरस्वती शैलेश त्रिपाठी शौचालय श्याम गुप्त श्याम सखा श्याम श्याम सुशील श्रीनाथ सिंह श्रीमती तारा सिंह श्रीमद्भगवद्गीता श्रृंगी श्वेता अरोड़ा संजय दुबे संजय सक्सेना संजीव संजीव ठाकुर संद मदर टेरेसा संदीप तोमर संपादकीय संस्मरण संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018 सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन सतीश कुमार त्रिपाठी सपना महेश सपना मांगलिक समीक्षा सरिता पन्थी सविता मिश्रा साइबर अपराध साइबर क्राइम साक्षात्कार सागर यादव जख्मी सार्थक देवांगन सालिम मियाँ साहित्य समाचार साहित्यिक गतिविधियाँ साहित्यिक बगिया सिंहासन बत्तीसी सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध सीताराम गुप्ता सीताराम साहू सीमा असीम सक्सेना सीमा शाहजी सुगन आहूजा सुचिंता कुमारी सुधा गुप्ता अमृता सुधा गोयल नवीन सुधेंदु पटेल सुनीता काम्बोज सुनील जाधव सुभाष चंदर सुभाष चन्द्र कुशवाहा सुभाष नीरव सुभाष लखोटिया सुमन सुमन गौड़ सुरभि बेहेरा सुरेन्द्र चौधरी सुरेन्द्र वर्मा सुरेश चन्द्र सुरेश चन्द्र दास सुविचार सुशांत सुप्रिय सुशील कुमार शर्मा सुशील यादव सुशील शर्मा सुषमा गुप्ता सुषमा श्रीवास्तव सूरज प्रकाश सूर्य बाला सूर्यकांत मिश्रा सूर्यकुमार पांडेय सेल्फी सौमित्र सौरभ मालवीय स्नेहमयी चौधरी स्वच्छ भारत स्वतंत्रता दिवस स्वराज सेनानी हबीब तनवीर हरि भटनागर हरि हिमथाणी हरिकांत जेठवाणी हरिवंश राय बच्चन हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन हरिशंकर परसाई हरीश कुमार हरीश गोयल हरीश नवल हरीश भादानी हरीश सम्यक हरे प्रकाश उपाध्याय हाइकु हाइगा हास-परिहास हास्य हास्य-व्यंग्य हिंदी दिवस विशेष हुस्न तबस्सुम 'निहाँ' biography dohe hindi divas hindi sahitya indian art kavita review satire shatak tevari undefined
नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3793,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,326,ईबुक,182,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2744,कहानी,2070,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,484,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,129,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,87,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,309,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,326,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,48,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,226,लघुकथा,808,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,306,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,57,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1882,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,637,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,676,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,52,साहित्यिक गतिविधियाँ,181,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,51,हास्य-व्यंग्य,52,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: कहानी लेखन पुरस्कार - 52 - रानू मुखर्जी की कहानी - पीले फूलों वाला घर
कहानी लेखन पुरस्कार - 52 - रानू मुखर्जी की कहानी - पीले फूलों वाला घर
http://lh5.ggpht.com/-zkTv7Q0ogCk/UDHUBIJfGHI/AAAAAAAANjY/RbKp7u2VwjQ/image%25255B4%25255D.png?imgmax=800
http://lh5.ggpht.com/-zkTv7Q0ogCk/UDHUBIJfGHI/AAAAAAAANjY/RbKp7u2VwjQ/s72-c/image%25255B4%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2012/08/52.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2012/08/52.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ