गुरुवार, 30 अगस्त 2012

कहानी लेखन पुरस्कार आयोजन -68- प्रभुदयाल श्रीवास्तव की कहानी तांगेवाला

कहानी

तांगेवाला

प्रभुदयाल श्रीवास्तव

मन बड़ा चंचल और चलायमान होता है इस पर‌ बड़े बड़े देवता, ऋषि मुनि और‌ साधु संत तक‌ नियंत्रण नहीं कर सके तो इंसान बेचारा तो हाड़ मांस का पुतला ही है किसी अज्ञात की डोरी से बंधा उसी के इशारे पर जिंदगी भर नाचता रहता है। फिर भी कभी कभी ऐसी घटनायें हो जातीं हैं जो मन मस्तिष्क पर अमिट और गुदगुदाने वाली छाप छोड़ जातीं हैं। बात कोई पच्चीस साल पहले की है। दिन के बारह बज चुके थे। मैं अपनी पत्नी सविता और बड़ी दीदी के साथ तांगे में बैठा स्टेशन की ओर बढ़ा जा रहा था। तांगे का वह मरियल सा घोड़ा अपने मालिक की तरह सुस्त सा सड़क पर टक टक करता चला जा रहा था। मेरे मुहल्ले धरमपुरा से हमारे शहर दमोह का रेलवे स्टेशन कोई तीन किलोमीटर के लगभग था। तांगेवाला हमारे लिये अपरचित था। धरमपुरा में हमारा पुस्तेनी घर है। शहर से जुड़ा हमारा यह गाँव अब शहर की गोद में समाकर उसका एक मोहल्ला बन गया है। पहले यह एक मालगुजार के अधीनस्थ चालीस पचास गाँव की मालकियत का केन्द्र था। हमारा यह गाँवनुमा मोहल्ला राजसी मर्यादाओं और परिपाटियों में बाधित था। हिन्दू मुसलमान और सभी छोटी बड़ी जाति के लोग एक मर्यादित परिवार की तरह रहते थे। कितनी भी छोटी जाति के लोग हों किन्तु हम बुजुर्गों को कक्का काकी,चच्चा चाची और भैया इत्यादि कहकर ही सम्बोधित करते थे ।

गांव में जैसा कि प्रतिष्ठित घरों के लिये चलन होता था,नाई धोबी अहीर कुम्हार ढीमर और कुछ नियमित कर्मचारियों जैसे होते थे। धोबी नियमित तौर पर कपड़े ले जाता था। सप्ताह में तीन दिन उसे आना ही था,कपड़े मिले तो ठीक नहीं मिले तो ठीक। नाई भी सप्ताह में एक बार अपनी पेटी लेकर आ जाता था। दाड़ी कटिंग मालिश चंपी ,सबको उसका इंतजार रहता। हमारा खानदानी नाई जग्गू खबास पेटी लेकर आया नहीं कि हम सब बच्चे चिल्लाते खबास कक्का आ गये ओ ओ। जिन बच्चों को कटिंग कराने में डर लगता वे भीतर कमरों मे जाकर छुप जाते, किंतु आखिर कब तक, घर के बुज़ुर्ग उन्हें पकड़ लाते और जग्गू के हवाले कर देते। जग्गू बड़ी बेरहमी से अपने दोनों घुट्नों के बीच सिर दबाकर उनकी कटिंग कर देता। गोली बरौआ को जिन्हें हम गोली कक्का कहते थे कभी नहीं भूल सकते। अपने बरौआ कर्म के अतिरिक्त वे एक अनुभवी और कुशल वैद्य भी थे। हमारा बचपन उन्हीं के चूर्ण और भस्में खाकर स्वास्थ्य की पायदानें चढ़कर युवावस्था में प्रविष्ट हुआ।

--

रु. 15,000 के 'रचनाकार कहानी लेखन पुरस्कार आयोजन' में आप भी भाग ले सकते हैं. अपनी अप्रकाशित कहानी भेज सकते हैं अथवा पुरस्कार व प्रायोजन स्वरूप आप अपनी किताबें पुरस्कृतों को भेंट दे सकते हैं. कहानी भेजने की अंतिम तिथि 30 सितम्बर 2012 है.

अधिक व अद्यतन जानकारी के लिए यह कड़ी देखें - http://www.rachanakar.org/2012/07/blog-post_07.html

image

----

 

हमारा तांगेवाला भी खनदानी था, दौआ तांगेवाला। हमारे परिवार को कहीं जाना होता तो को सूचना मिलते ही वह तुरंत हाजिर हो जाता। कभी भी कहीं भी जाना होता वह इनकार नहीं करता था और भाड़ा तांगे से उतरने के बाद जो भी दे दो सब कबूल कर लेता था। आठ आने दो तो ठीक एक रुपये दो तो ठीक, कहता 'मेरे बच्चे सो आपके बच्चे आपको ही पालना है। 'भला ऐसे में दौआ को मेहनताना कम मिले कैसे संभव था' डोल ग्यारस के दिन बनेटी खेलते [आग के पलीते] अखाड़े में हलकी पतली तलवारों के करतब दिखाते हमारे मित्रों की न्योछावर उतारते, अट्ठन्नियाँ चवन्नियाँ लुटाते लोग कितनी मस्ती में झूमते गाते चलते थे, आंखों के सामने चित्र सा खिंच जाता है। डोल ग्यारस का रथ पीछे पीछे चलता,बाजे बजते और रथ में बिराजमान भगवान विष्णु चंदन तलैया तक ले जाये जाते,लक्ष्मी सहित वे जल बिहार करते बुर्जों से तलैया में कूदते, इत्तन इत्तन पानी, घोर घोर रानी का खेल खेलते, एक दूसरे पर पानी उछालने वाली, हमारी मित्र मंडली के लोग न मालूम अब कहाँ कहाँ हैं। उस दिन हमें बाहर जाना था। दौआ के यहाँ सूचित किया कि स्टेशन जाना है, साढ़े बारह की ट्रेन पकड़ना है, किंतु मालूम पड़ा कि दौआ बीमार है। मजबूरन हमें दूसरे मोहल्ले से ताँगा मंगाना पड़ा। ताबड़ तोड़ ताँगे में सामान रखा, पेटी बिस्तर नाश्ते की डलियां, और उस मरियल से घोड़े वाले ताँगे में हम बैठ गये। सविता और दीदी पीछे की तरफ और मैं ताँगेवाले के पास आगे बैठ गया।

  'काकी सीताराम, चच्चा राम राम,

"भैया कहाँ चले। "

"बस सागर तक थोड़ा फुआ के यहाँ तक शादी में जा रहे हैं। "बातों का आदान प्रदान करते हम अपने मोहल्ले की सरहद पार कर चुके थे। ताँगा धीरे धीरे चल रहा था, शायद घोड़ा बीमार था या ताँगे के अस्थि पँजर ढीले थे।

हमें जल्दी थी। ट्रेन न छूट जाये इसलिये मैंने तांगेवाले से कहा "थोड़ा जल्दी चलो। "मेरी बात सुनकर तांगेवाले ने चाबुक फटकारा और तांगा चर्र चूं की आवाज करता हुआ थोड़ा तेजी से आगे बढ़्ने लगा। अचानक ऐसे लगा जैसे भूचाल आ गया हो, तांगा एक तरफ झुकता चरमराकर गिर पड़ा। उसका चक्का टूट गया थ घोड़े को रोकते रोकते तांगे वाला तांगे में लुढ़क गया। मैं तांगे के पटिये से लटक गया। सविता और दीदी सम्हलते सम्हलते भी तांगे से बाहर गिर पड़ी। मैं क्रोध से पागल सा हो गया। दीदी को उठाया, सविता को उठाया और मुश्किल से खुद को सम्हाला। दीदी के हाथ में खरोंचें और खून की लकीरें देखकर मैं आपा खो बैठा। तांगेवाले को तांगे से बाहर खींचकर तीन चार चाँटे मार दिये। वह चुपचाप अपराधी निगाहों से देखता हुआ पिटता रहा जैसे चक्का उसी ने तोड़ा हो।

"जब तांगा सड़ियल है तो क्यों चलाते हो, नालायक कहीं के, थोड़ा भी तमीज नहीं है, सड़ा घोड़ा लिये हैं और चल्रे हैं तांगा चलाने" मेरा क्रोध सातवें आसमान पर पहुंच गया था। टेंप्रेचर इतना बढ़ा की पारा थर्मामीटर फोड़्कर बाहर आ गया।

तांगेवाला कोई साठ पैंसठ साल का कमजोर सा आदमी था। मेरा हाथ फिर उठने को हुआ कि दीदी ने पकड़ लिया' अरे यह क्या कर रहे हो चक्का टूट गया तो वह बेचारा क्या करे' वह जोर से चिल्लाईं।

ट्रेन आने का समय हो चुका था। पास से गुजरते हुये एक रिक्शे को मैंने रोका ,जल्दी से उसमें सामान रखा और स्टेशन पहुंच गये। गाड़ी आ चुकी थी। सामान प्लेट फार्म पर पहुंचाने के लिये मैंने एक कुली बुला लिया। टिकिट की खिड़की पर लम्बी लाइन लगी थी। पुरुषों की लाइन लम्बी हो तो नारियों की सहायता लेना ही बुद्धिमानी होती है, ऐसा सोचकर मैंने सविता को टिकिट लेने को कहा "तुम टिकिट ले लो मैं सामान गाड़ी में रखवाता हूँ" मेरे कहने पर वह लाइन में लग गई। लाइन में चार पांच महिलायें ही थीं। मैंने दीदी को साथ लिया और सामान लेकर प्लेटफार्म पर आ गया। बहुत भीड़ थी। ट्रेन करीब आधा घंटे रुकती थी। अभी भी पन्द्रह मिनिट बाकी थे चलने में। एक डिब्बे में कुली की मदद से सामान रखवाया और सीट तलाशने लगा। कुछ परिचितों के मिल जाने से कोई परेशानी नहीं हुई। दीदी को सीट पर बिठाकर मैं लगभग दौड़ता सा बाहर आया। टिकिट विंडो की तरफ बढ़ा तो देखा कि सविता परेशान सी एक तरफ खड़ी है।

मैंने पूछा "टिकिट ले ली"

"नहीं"

"क्यों क्या हुआ"

"पर्स नहीं है"

मैं भौंचक्का रह गया "कहाँ गया तुम्हारे पास ही तो था ?"

"शायद ताँगे में रह गया, रिक्शे में सामान रखते समय भूल गये। "

मैं परेशान हो गया। पेंट में इतने पैसे तो थे कि टिकिट ले लें,पर अन्य कार्यों के लिये शादी वाले घर में किससे माँगेंगे। फिर पर्स में एक हज़ार रुपये के लगभग थे। मैं किंकर्तव्य विमूढ़ हो गया। सविता को दो चांटे मारने की इच्छा हो आई। दीदी ट्रैन में बैठी थीं ,सामान ट्रैन में था और हम बाहर टिकिट घर के पास। तांगे वाले की निरीह आँखें मेरी आँखों में झूलने लगीं। शायद उसी की बददुआओं का असर हो। गाड़ी छूटने में पाँच सात मिनिट ही बचे होंगे। इतना समय भी नहीं था कि कहीं से पैसों की व्यवस्था की जा सके।

सविता पर क्रोध उतारने लगा "भगवान ने बुद्धि तो दी ही नहीं पर्स हाथ में रखना चाहिये था, क्यों ताँगे में रखा, फिर सामान उठाते समय कैसे भूल गईं, होश ही नहीं रहता। वह चुपचाप मेरा भाषण सुन रही थी, पतिव्रता नारियों की तरह गुमसुम।

"चलो केंसिल करो, सामान उठा लाओ दीदी को बुला लेते हैं बाद में चलेंगे" वह बोली।

"क्या खाक.." मेरे मुँह से ये शब्द निकलते इससे पहले ही मैंने देखा कि सामने से वह बूढ़ा तांगेवाला पसीने से लथपथ हाँफता हुआ सायकिल से चला आ रहा है। पलक झपकते ही वह सायकिल से उतरकर सीढ़ियाँ चढ़कर मेरे पास आ गया "बाबूजी आपका पर्स तांगे में छूट गया था" हाँफने के कारण वह मुँह से ठीक से बोल भी नहीं पा रहा था। पर्स मेरे हाथ में देकर जैसे उसकी आत्मा को शांति मिल गयी हो।

मुझे ऐसा लगा जैसे वह मानवता की मंजिल की कई सीढ़ियाँ एक साथ चढ़ गया हो।

सविता के चेहरे पर फिर से प्रसन्न्ता झलकने लगी, जैसे कोई अपराध करते करते बच गई हो।

उसने दस रुपये निकालकर तांगेवाले को देना चाहे। "नहीं बेटा इसका मैं क्या करूँगा, मैं बहुत शर्मिंदा हूँ, तुम लोगों को स्टेशन नहीं पहुंचा सका। चक्का कमजोर था, तंगी के कारण नहीं बनवा सका। आप लोगों को कहीं चोट तो नहीं आई" यह कहकर वह हमारी तरफ निरीह आँखों से देखने लगा।

"तुम्हारी अमानत तुम तक पहुंचा दी मन को तसल्ली हो गई। मेरी गलती को माफ कर देना, मुझको भी अपना दौआ समझ लेना। "

शायद उसे पता था कि दौआ हमारा खानदानी तांगे वाला था।

मेरा दिमाग झनझना गया। हम ट्रेन में बैठ चुके थे। ट्रेन चल चुकी थी "मुझे भी अपना दौआ समझ लेना" तांगेवाले के यह शब्द मेरे कलेजे को चीरकर बार बार भीतर घुस रहे थे। मैं इतना निर्दयी कैसे हो गया। एक कमजोर निरीह आदमी पर कैसे में हाथ उठा सका। गाँवं में कक्का काकी दद्दा चाचा अम्माजी जैसे संबोधन देने वाला मेरा कंठ गालियाँ कैसे दे गया। डिब्बे के सब बूढ़े जैसे मुझे तिरस्कार की नजरों से देख रहे थे। पत्नी व्यंग्य से जैसे ताना मार रही थी कि मेरी बहादुरी के किस्से अपनी सहेलियों को अवश्य सुनायेगी। दीदी जैसे बचपने से निकलने की सीख दे रहीं थीं। मैं सोच रहा था कि यह वीर रस मेरे शरीर में कहाँ से प्रवाहित हो गया ।

--

6 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------