विजय वर्मा की बेहद महंगी ग़ज़लें

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

ग़ज़लों पर महंगाई का असर

कुछ चुनिन्दा शे'र और अगर वे आज के ज़माने में लिखे जाते तो कैसे होते --इसे पेश

कर रहा हूँ,मीर साहब,कतील शिफई साहब ,शहरयार साहब,फैज़ साहब और खुमार साहब की आत्माओं से माफ़ी माँगते हुए,अगर माफ़ कर सके तो.

-----------------------------------------------------.-----------------------------------

सिरहाने 'मीर' के आहिस्ता बोलो

टुक रोते-रोते सो गया है.

.........................................................................................................

पेटी अनार  के आहिस्ता खोलो 

भाव पहुँच के बाहर हो गया है.

..................................................................................................

.एक धूप सी जमी है निगाहों के आस-पास

ये आप है तो आप पर कुरबान जाइए .       [ कतील शिफई ]

............................................................................................................

एक हूक सी उठी है कलेजे के आस-पास

हल्दी २०० Rs /kg है,दाल बिना हल्दी के खाइए.

.....................................................................................................

.माना कि दोस्तों को नहीं दोस्ती का पास

लेकिन ये क्या कि ग़ैर का एहसान लीजिये.  [शहरयार.]

................................................................................................................

माना कि शासकों को नहीं शासितों का ख्याल

लेकिन ये क्या कि हँसते-हँसते जान लीजिये.

..........................................................................................................

दोनों जहान तेरी मुहब्बत में हार के

वो जा रहा है कौन शबे-ग़म गुजार के.      [फैज़]

..................................................................................................................

बेज़ार है वो दाम बढ़ने से ,बार-बार के

कोई  जा रहा है बाज़ार झक मार के.

........................................................................................................

कैसे-कैसे गिले याद आये 'खुमार'

उनके आने से कब्ल, उनके जाने के बाद.

........................................................................................................

कैसे-कैसे बोझ लाद दिये हज़ार

कुछ बजट से पहले, कुछ बजट के बाद.

...........................................................................................................

--
v k verma,sr.chemist,D.V.C.,BTPS

BOKARO THERMAL,BOKARO
vijayvermavijay560@gmail.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

4 टिप्पणियाँ "विजय वर्मा की बेहद महंगी ग़ज़लें"

  1. बहुत सुंदर
    वाकई काफी पैनी नजर है विक्रम जीकी
    बधाइयां

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. 'ग्राहकों' को धोखे मेँ रखना मना है ,
    कुछ नयाँ लिख डालिए, शुभकामना है ।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.