रविवार, 26 अगस्त 2012

पूरन सरमा का व्यंग्य - आवश्यकता है चंद विधायकों की!

जोड़-तोड़ की सरकार के गठन के लिए चंद विधायकों की आवश्‍यकता है। हमारा दल सत्‍ता से केवल बीस कदम दूर रह गया है। मतलब सत्‍तारुढ़ होने के लिए बीस विधायक और चाहिए। चाहें तो छोटे दल समर्थन दे दें अथवा तमाम निर्दलीय जीते हुये प्रत्‍याशी हमें सहयोग कर सकते हैं। हम आपसे समर्थन मुफ्‍त में नहीं मांग रहे। बदले में हम धन और मंत्रीपद दोनों सादर समर्पित करेंगें। समर्थन चाहें तो भीतर से दें अथवा बाहर से, सौदा घाटे का नहीं है। भीतर से समर्थन देंगे तो पांचों अंगुलियां घी में रहेंगी और आपके साथ कोई वैल्‍यूज का सवाल हो तो आप हमें बाहर से भी समर्थन दे सकते हैं। हम विरोधी दल से अधिक सुविधाएं आपको देंगे। विरोधी एक मंत्रालय देगा तो हम एकाधिक मंत्रालयों का पदभार आपको सौंपेंगे। मंत्री बनते ही लफड़ा समाप्‍त और आप धन सेवा में लग जाइये। छोटे दल चाहें तो सम्‍पूर्ण प्रत्‍याशियों सहित अपने दल का विलय हमारे दल में कर सकते हैं। इससे किसी प्रकार की संवैधानिक कठिनाई भी खड़ी नहीं होगी और वे मूल्‍यों को तिलांजली देकर अपना घर भर सकेंगे।

अकेला निर्दलीय विधायक भी हमसे सम्‍पर्क करे, हम उसे निहाल कर देंगे। सरकार बनते ही हमें विकास का काम हाथ में लेना है। जैसा कि आप जानते हैं कि विकास में पौ बारह है। सारी कमाई का मार्जिन ही यह विकास है। आइये और हमारे दल को अपना समूल्‍य सहयोग दीजिये। मंत्री पद के साथ मन चाहा मंत्रालय पाने की भी आपको छूट होगी। हमें पता है घोड़ा घास से यारी करेगा तो खायेगा क्‍या? आपने चुनाव में एक-दो करोड़ रुपयो पागल कुत्‍ते के काट खाने के कारण खर्च नहीं किये हैं। आपको सब मिलेगा, बस आप हमारी सरकार बनवा दीजिये, फिर हम आपका जीवन बदलने की गारंटी देते हैं। जैसा कि आप जानते हैं- मंत्री क्‍या करते हैं और किसी तरह कमाते हैं, यह हमें बताने की आवश्‍यकता नहीं है। लालबत्‍ती की गाड़ी में बैठते ही आपको अपनी महत्‍ता आप समझ में आ जायेगी। घोटाले करिये, जमीनें बेचिये, दलाली खाइये। ये ऐसे काम हैं जो करोड़ों के व्‍यारे-न्‍यारे कराते हैं। पूरे पांच वर्ष ‘लूटो और खाओ' का खुला ताण्‍ड़व चलेगा। नये-नये कार्यक्रम और योजनाएं आपको दी जायेंगी, जिनके माध्‍यम से आप अपनी सम्‍पत्‍ति का अकूत अर्जन कर सकते हैं। ऐसे विधायक हमसे दूर रहें, जो ‘लूटो और खाओ' में विश्‍वास नहीं रखते। आज की यह परम आवश्‍यकता है। आपको सफेदपोश बन कर लूटना है।

इतना भी न लूटें कि जांच आयोग बैठाना पड़े और अंत में रंगे हाथ पकड़े जाने पर जेल जाना पड़े। जेल जाने वाले अपनी सुरक्षा खुद करें। उस समय हम अपनी छवि बचाने के चक्‍कर में कोई हैल्‍प नहीं कर पायेंगे। ऐशो आराम का जीवन जीयें, लेकिन सेक्‍स स्‍कैण्‍डल जैसे काण्‍ड़ को अंजाम न दें, वरना जेल जाने व कोर्ट-कचहरी के चक्‍कर आपका कैरियर चौपट कर देंगे। आइये․․․․․․ आइये․․․․․ और हमारी सरकार बनाइये। मुंह मांगा ईनाम मिलेगा।

-----

पूरन सरमा

124/61-62, अग्रवाल फार्म,

मानसरोवर,

जयपुर-302020 (राजस्‍थान)

मोबा․ ः 09828024500

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------