मंगलवार, 21 अगस्त 2012

पुस्तक समीक्षा - आवारगी नोनस्टोप

पुस्तक समीक्षा

अनन्त अलोक

clip_image002

हंसी की फूलझड़ियां

राग दरबारी के लिए श्रीलाल शुक्ल को 2009 का संयुक्त रूप से मिला ज्ञानपीठ पुरस्कार यह निर्विवाद साबित करता है, कि कभी साहित्यिक विधा ही न माना जाने वाला व्यंग्य आज एक स्थापित साहित्यिक विधा हो गई है।

जीवन में हास्य विनोद का महत्व आज एक और सहज स्वीकार किया जा रहा है तो दूसरी ओर कुछ लोग मजबूरी में भी इसे अपने जीवन का एक अभिन्न अंग समझने व स्वीकारने लगे हैं। आज जिंदगी की ट्रेन इतनी तीव्र गति से भाग रही है कि हमारे पास मुस्कराने की भी फुरसत नहीं है। यही कारण है कि आज हास्य विनोद की दुकाने खूब फल फूल रही है। जहां आपको हा- हा- हा के हिसाब से कीमत चुकानी पड़ती है; लेकिन आज भी हमारे समाज में ऐसे अनेकों कवि एवं व्यंग्यकार मौजूद है जो आपको एकदम निशुल्क हंसी की फूलझड़ियां देते हैं।

ऐसे ही कवि और व्यंग्यकार हैं 'आवारगी नोनस्टाप' के कवि आवारा जी। इनके इस काव्य संग्रह में नोनस्टोप कविताएं आपको नोनस्टोप हंसाने के लिए पुस्तक के पन्नों से बाहर झांकती नजर आएंगी।

फैशन की प्रर्दशनी में शरीर की नुमाइश करती आज की युवा पीढ़ी पर व्यंग्य करते हुए आवारा जी कहते है ''जिस्म आज भी टाइट है उसका इस तरह / बांध दी हो बोरियां कस कर जिस तरह।'' शाश्वत सत्य प्रेम को आज के युवाओं ने किस कदर मजाक बना कर रख दिया है , आवारा जी की बानगी देखिए '' पार्कों में मिलते हैं आज के तोता मैना/ शोपिंग मॉलों में मिलते हैं, आज के तोता मैना/ फिक्र नहीं हैं।'' इनको घोंसला बनाने का/ मैना को शोक है नये नये तोते पटाने का।''

आवारा जी मेरी नजर में एक निर्भीक स्पष्टवादी कवि हैं। उच्छंखलता को आधूनिकता का पर्याय मानने वाली आज की नारी पर पर आवारा जी व्यंग्य बाण छोड़ते हैं '' शर्म भी बेशर्म है इस शहर में आवारा/ घूंघट डालती हैं वो ट्रांस्पेरेन्ट साड़ी पहन कर।'' नेताओं पर व्यंग्य करते हुए आवारा जी कहते हैं ''दिल्ली में बैठन लागे डाकू चोर हजार/ गोल घर से गोल हुए नेता सेवक समझदार।'' इसी प्रकार के व्यंग्यों से सुसजित आवारा जी का काव्य संग्रह कुल मिलाकर एक अच्छा संग्रह बन पड़ा है। स्वध्याय एवं स्वसंपादन से और निखार आएगा और इनके पेन की स्याही और चमक बिखेरेगी ऐसी उम्मीद एवं कामना करते है।

--

पुस्तक का नामः आवारगी नोनस्टोप

कवि : हास्य कवि आवारा जी

प्रकाशकः उत्कर्ष प्रकाशन, मेरठ , उ0 प्र0

मूल्य : 51 रूपये मात्र

अनन्त आलोक

संपर्क सूत्र - 'साहित्‍यालोक', आलोक भवन, ददाहू, त0 नाहन,

जि0 सिरमौर, हि0प्र0 173022 Email : anantalok1@gmail.com

Blogs - <http://sahityaalok.blog>

4 blogger-facebook:

  1. समीक्षा प्रकाशित करने के लिए श्रद्धेय रवि जी का हार्दिक आभार और भाई आवारा जी को हार्दिक बधाई एवं मंगलकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. Heartly congratulations 2 Awara Ji for such unique one,...

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------