शुक्रवार, 10 अगस्त 2012

श्याम गुप्त की कृष्ण जन्माष्टमी विशेष रचना


नहिं बातन आवै ये राजदुलारी
साथ लिए सब गोप सखा, काहे रोकि  खड़े हो राह हमारी |
ढीठ बड़े नहिं लाज तनिक, मग छांडि चलौ  नहिं देहें गारी |


गारी भले तुम देहु सवै, मटुकी जनि छोड़ेंगे आज तुम्हारी |
माखन ले क्यों चली मथुरा,बरज्यो  जब कान्हा-कृष्ण-मुरारी |

चोरी करौ, बरजोरी करौ , वन-बाग फिरौ बनिकें बनवारी |
नचिहौ जो बने वन-मोर लला,माखन मिलिहै नहिं देहें गारी ||

जनि माखन पे टरकाउ  भला, दधि-माखन लूटि तौ नीति हमारी |
चोरी कहौ, बरजोरी कहौ ,मटुकी  जनि  छोड़ेंगे आज  तिहारी |
बनिकें वन-मोर नचें हमतौ, यदि पैज की बात रखौ  जु हमारी |
फिरिहै जो बनी वन-मोरलिया, हमरे संग-संग वृषभानु दुलारी |
नैन नचाय  कही राधा, हम आपुहि  आपुन मन की जुहारी |
चोरी करौ, बरजोरी करौ, तुम कौन कहाँ के हौ ठाकुर भारी ||

अपने मन की नहिं बात करौ, तुम सांचुहि आपुन हिय की जुहारी  |
झांकि  लखौ आपुन हियरे, तौ पैहो हमारी ही छवि सुकुमारी |
कान्हा न कान्हा, राधा न राधा, राधा बिना कंह वन, वनबारी |
बात हि बात भुरइ राधा, मन मोहि लियो मोहन मनहारी |
मन ही मन मुसुकांय सखीं, मन मोहन पे राधा बलिहारी |
बोलें नहीं भरमाउ लला, नहिं  बातन आवै ये राज-दुलारी ||

                                        ---- डा श्याम गुप्त ... के-३४८, आशियाना, लखनऊ -२२६०१२...मो ९४१५१५६४६४ ..

3 blogger-facebook:

  1. धन्यवाद ..परन्तु यह इस तरह नहीं लिखा जायगा..यह छः पंक्तियों का श्याम-सवैया है जो मेरा स्वयं का रचित सवैया-छंद है....और इस प्रकार लिखा जाना चाहिए ....

    "साथ लिए सब गोप सखा, काहे रोकि खड़े हो राह हमारी |
    ढीठ बड़े नहिं लाज तनिक, मग छांडि चलौ नहिं देहें गारी |
    गारी भले तुम देहु सवै, मटुकी जनि छोड़ेंगे आज तुम्हारी |
    माखन ले क्यों चली मथुरा,बरज्यो जब कान्हा-कृष्ण-मुरारी |
    चोरी करौ, बरजोरी करौ , वन-बाग फिरौ बनिकें बनवारी |
    नचिहौ जो बने वन-मोर लला,माखन मिलिहै नहिं देहें गारी ||"

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी, ठीक कर दिया है, धन्यवाद.

      हटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------