शरद जायसवाल की कविताएं

image

1
परिधानों'
की
संस्कृति
पहले थी अमरबेल !
फिर
सेल
अब
कालबेल !!


2
वो
देखो
आए हैं घर में
सजाएंगे
संवारेंगे !
पंखुड़ी
पोर से कहती
नया
रिश्ता है ये अपना !!


3
गुल
हो गई
सभी की
सिट्टी - पिट्टी !
दुल्हन
के
पर्स में
आँगन की मिट्टी !!


4
हमारे
दिल को जो छू ले
वही तो
खास होता है
भले
वो दूर हो हमसे
हमारे
पास होता है !
जमा
है रक्त धमनी में

आंसू
लौट जाते हैं
हों
आँखें खुदबखुद गीली
वही
मधुमास होता है !!


5
सफ़र
कितना भी लम्बा हो
मंजिल
आ ही जाती है !
चले
इठला के बल खा के
थाली
में
चपाती है !!


6
अब
तो
बयां करते हैं
आँखों देखा
हाल !
पति
के
रूमाल !!


7
फलक
को
देखने वाले
पलक
पे
क्या बिठाएंगे !
कहाँ
घूंघट
कहाँ परदे
कहाँ
जुल्फों के साए हैं !!


8
आम
के
आम
गुठली के
दाम !
राशन
कार्ड में दर्ज़ हुआ
बहु का
नाम !!


9
सुबह
का
नाश्ता अक्सर
मुझको
मुंह चिढ़ाता है
आधा
मेम के ऑफिस
बचा
स्कूल जाता है !
फेरे

डाल के लाए
मुसीबत
अपने आँगन में
पड़ोसी
मुंह दबा हँसते
समय भी मुस्कुराता है !!


10
सुख
के
पलवे
भारी होते
दुःख
तो
काँटों में होता है !
इधर
झुके तो
टीस ह्रदय में

उधर
झुके तो
मन रोता है !!

0 टिप्पणी "शरद जायसवाल की कविताएं"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.