शनिवार, 15 सितंबर 2012

प्रभुदयाल श्रीवास्तव का व्यंग्य - कमाल पिछले दरवाजे का

एक लड़की थी गोरी नारी सुंदर गोल मटोल। यह तो नहीं मालूम उसने कितने बसंत पार किये थे किंतु वह जवान थी और कुँवारी भी। उसके बाप का मकान बीच शहर में था। लड़की यदा कदा मकान की छत पर खड़ी हो जाती और् धूप अटारी पर खड़ी खोले सिर के बाल वाली कहावत चरितार्थ करती रहती। सामने के मकान में रहने वाले बिगड़े नवाब‌ से उसकी आंखें चार हो गईं। कहते हैं जिसकी आंखें चार हो जाती हैं वह उन्नति की सीढ़ियां बहुत जल्दी चढ़ जाना चाहता है। लड़का सामने के दरवाजे से उसके घर में घुसने लगा। लड़की ने समझाया कि मज़नूं जी सामने के दरवाजे से न आया करें वरना हम जल्दी बदनाम हो जायेंगे । मुहल्ले के सारे लोग देखते हैं।


"तो प्यारी लैला मैं क्या करूँ,तुम्हारे बिना तो एक पल भी नहीं रह सकता, मजनूं ने अपनी मजबूरी बताई। लड़की परेशान थी मज़नूं को भुलाना संभव नहीं था। बदनामी के साथ साथ वह अपने बाप से भी डरती थी। उसने इतिहास के पन्ने पल्टे,शीरी फरिहाद लैला मजनूं सोनी महिवाल, रूपमती बाज़बहादुर और मस्तानी बाज़ीराव से प्रेरणा ली। उसके दिल ने कहा"लैला अक्ल से काम ले,पीछे का दरवाज़ा खोल दे और इसी दरवाज़े सॆ मजनूं को आने दे। हर्र लगेगी और न फिटकरी और तेरा रंग भी चोखा होता रहेगा। फिर क्या था पिछला दरवाज़ा खुलने लगा।


दोपहर को लोग जब अपने घरों में मंत्रियों की तरह आराम फरमा रहे होते, लड़की का बाप सरकारी काम से सरकार को चूसने गया होता ,माँ गैर सरकारी काम से अपने कमरे में सो रही होती और भाई देश के विकास के लिये अपनी बीवी के साथ गुलछर्रे उड़ा रहा होता,लड़की पिछला दरवाज़ा खोल देती और मजनू जी अंदर आ जाते। अब कविता की पंक्तियाँ' धूप अटारी में पड़ी ले सूरज को संग हो जातीं। सिलसिला चल पड़ा। लैला मजनूं और पिछला दरवाज़ा जैसे एकाकार होकर एक दूसरे में आत्मसात हो गये।

एक दिन मिस्टर मजनूं को एक जूनियर मजनूं ने लड़की के घर में घुसते देख लिया।
     "तुम्हारे साथ कैसा व्यवहार किया जाये" जूनियर मज़नूं गुर्राया।
    "जैसा एक मज़नूं दूसरे मज़नूं के साथ करता है। " मजनू सीनियर ने लापरवाही से जबाब दिया। उसने हिंदुस्तानी सिकंदरों और पौरवों का इतिहास बांचा था। फिर क्या था दोनों मजनू लड़की के घर में घुसने लगे। क्रमिक और सिलसिलेवार विकास की पायदानें चढ़ते हुये मजनुओं की संख्या बढ़ने लगी। हज़ारों मजनुओं के लड़की के कमरे मे घुसने से आखिरकार भंडा फूट गया। लड़की गर्भवती हो गई। बिना सौभाग्यवती हुये गर्भवती हो जाना हमारे समाज में कलंक माना जाता है। लड़की के बाप को लड़की कि करतूत मालूम पड़ गई। माँ को जानकारी मिल गई। भैया को पता लग गया । सारा शहर स्तब्ध रह गया। अब सर्च हो रही रही है इतने सारे मजनूं लैला के कमरे में कैसे घुसे। पिछले दरवाज़े का निरीक्षण् हो रहा है,दरवाज़े की लंबाई चौड़ा नापी जा रही है। लोगों को लड़की के बाप पर शक है।

मजनुओं की मिली भगत से बाप ही लड़की शोषण करवा रहा था। सरकारी सेवा सुंदरी में आबंटन नामक शैतान दीवार फाँदकर भीतर कूदता रहा और सरकार के बाप को भनक भी नहीं पड़ी,इस विषय पर हमारे देश के नौजवान और नौजवाननियायें रिसर्च कर पी.एच. डी. कर सकते हैं। पिछले दरवाजे की महिमा का बखान पुराने ग्रंथों में भी मिलता है। पुराने घरों में शौचालय पीछे की तरफ ही रहते थे। सफाई करने वाले पीछे के पीछे आकर सफाई कर जाते थे। अभी भी सफाई हो रही है किंतु मल के बदले में माल साफ हो रहा है। बड़े बड़े सब घुटाले पीछे के दरवाजों से हो रहें हैं। यार लोग समझते हैं कि सब काम सनातनी ढंग से हो रहा है पर भाई साहिब देखिये न क्या हो रहा है। अरबों खरबों रुपयों का पता ही नहीं चलता कहां गये।

हमने जितनी भी गिनती प्राथमिक शालाओं पढ़ी थी मसलन इकाई, दहाई ,सैकड़ा हज़ार दस हज़ार लाख दस लाख करोड़ दस करोड़ अरब दस अरब खरब दस खरब नील दस नील पदम दस पदम शंख दस शंख ....बस उसके बाद.........इल्ले इससे ज्यादा घुटाले कैसे गिनोगे। वे तो कहते हैं कि हम इतना खायें कि तुम तो क्या तुम्हारे बाप भी नहीं गिन पायेंगे । तभी तो पकड़ने वाले मशीन लिये नोट गिनते रहते हैं और यह भी कूत नहीं सकते कि खाने वाले ने कितने सूंत लिये। मेरा एक सवाल है कि यदि आप चालीस‌ हज़ार रुपये प्रति माह कमाते हैं तो दो लाख करोड़ कमाने में आपको कितने साल लगेंगे। प्लीज़ बतायें न।


पिछला दरवाजा तो प्रायः हर घर में होता है
पिछले दरवाजे से न जाने क्या क्या होता है
जिस घर में पिछला दरवाजा नहीं लगा
उसका मालिक अपनी किस्मत को रोता है।

3 blogger-facebook:

  1. बहुत खूब .....पिछला दरवाजा और उसकी महिमा जगत प्रसिद्द है ....लेकिन इसके पीछे छिपे कारनामो को सामने के दरवाजे तक लाने में आपका प्रयास सफल रहा ...बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  2. prabhudayal ji pichle darwaaje ki kahani to jaise aaj ke samaj ka abhinn ang ho gai hai.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बेनामी3:00 pm

      Thanks for the comments
      Prabhudayal

      हटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------