रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

मनमोहन कसाना की शेरो शायरी

clip_image002[4]    

शेर-ओ-शायरी


             1    ऐ हाथ छिटकने वाले
                           जरा सोच ले
                      तेरे भी दो हाथ हैं 
  
            2        हो गई है ये गलियाँ
                       एक चाँद जो यहां
                         पैदल चला था


           3     पूछते हें जनाब खामोश क्यों हो
                            मालूम नहीं शायद
                    ये जालिम इश्क का कहर तो
                               खुद ने ढाया है
 
          4              नशा इतना था हम पर
                                उस वेवफा का
                              मर गया कसाना
                            खुली रह गई आंखें 
                    और नशा छलकता रह गया

5    कहने को हर जोड़ी कहती है
                  इंकलाब लायेंगे
        ‘कसाना' देखी है कहीं ‘कूवत'
           सिर्फ खुले में मिलने की।

6    ऐ! हसीनों बदली है
बदली है जमाने की ‘बयार'
बापर्दा रहा करो
गली-गली में जो आशिक पैदा हुए।

7    एक पल लगा भूल गया ‘कसाना'
किसी को जब देखा आईना तो साफ दिखा
आज भी ‘अक्‍स' उस जालिम का है
हमारी तो सिर्फ परछाईं ही थी।

8    जालिम का थोड़ा सा
         पल्‍लू क्‍या सरका
         बीच रोड पर कतार लग गई।

     
9      वो क्‍या कम खूबसूरत थी
       जो उसके बाद तूने․․․․․․․․․
            ऐ परवरदिगार
       ये नक्‍काशी बनाई।

10           एक रात तन्‍हाई ने
एक रात बेवफाई ने
और तो और ‘कसाना'
आज रात तो․․․․․․․․․․․․․
उसके आशिकों ने ही मारा।

 

--

 

लेखक परिचय-

मनमोहन कसाना

गांव- भौंडागांव, पोस्‍ट- जगजीवनपुर

तहसील- वैर, जिला- भरतपुर राजस्‍थान 321408

फोन- 09672281281, 09214281281

blog:- ekkona.blogspot.com

email:- manmohan.kasana@gmail.com

संप्रति-

देनिकभास्‍कर, राजस्‍थानपत्रिका, रचनाकार, हिमप्रस्‍थ, आदिमें कविता, कहानी,

प्रकाशित। वर्तमान में देहाती संगीत पर कार्य।

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

sher no 2 me ho gayi ye galiya ke aage dhany pade thanks

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget