मंगलवार, 18 सितंबर 2012

गणपति बप्पा की पर्यावरण मित्र प्रतिमा स्वयं ऐसे बनाएं

मनुष्य उत्सवधर्मी है. गणेशोत्सव एक बार फिर आ गया है. पूरे चौदह दिनों तक पूरा देश उत्सवमय रहेगा. सड़कों चौराहों पर और अपने घरों में गणपति बप्पा विराजेंगे और पंडालों में, घरों में भारतीय संस्कृति अपने तमाम रूपाकारों में खिलती चमकती रहेगी.

यदि आप भी गणपति बप्पा की स्थापना करने जा रहे हैं तो थोड़ा रुक जाइए. थोड़ा सा विचार करें. बाजारों में प्लास्टर ऑफ़ पेरिस की जहरीली रंगों से बनी रंगबिरंगी गणपति बप्पा की मूर्तियाँ खरीद कर आप कहीं अपनी अधार्मिकता, अमानवीयता का परिचय तो नहीं दे रहे?

clip_image001

यदि कहीं से गणपति बप्पा की मूर्ति खरीद भी रहे हों तो सुनिश्चित करें कि वो मिट्टी से व पर्यावरण मित्र चीजों से बनी हो. यदि आपको कुछ शंका हो तो उसे बिलकुल नहीं खरीदें. जब ऐसी चीजों से बने गणपति बप्पा की मूर्तियाँ कोई भी नहीं खरीदेगा तो ये खुद ब खुद बनना बंद हो जाएंगे.

और, यदि आप थोड़ा सा प्रयास करें तो आप स्वयं गणपति बप्पा की एनवायरनमेंटल फ्रेंडली मूर्ति बना सकते हैं.

गणपति बप्पा का रूप ऐसा है कि वो अपने हर रूप में अच्छे लगते हैं. तो बस जिस आकार की मूर्ति बनानी हो उतनी मिट्टी ले आएं. चिकनी काली मिट्टी हो तो बढ़िया. आप किराना दुकान से मुलतानी मिट्टी भी खरीद कर ला सकते हैं.

फिर उसे गणपति बप्पा का रूप दें. इसके लिए आपको कलाकार होने की जरूरत या प्रेक्टिस की जरूरत कतई नहीं है. गणपति बप्पा का मोटा पेट का हिस्सा पहले बनाएं. फिर उसमें दो पैरों को उकेरें या जोड़ें. फिर ऊपर सूंड युक्त सिर जोड़ें और दो या चार हाथ बनाकर जोड़ दें. आप देखेंगे कि यदि आपने अनुपात में थोड़ी कमी बेसी भी कर दी है तो आपके गणपति बप्पा फिर भी सुंदर लग रहे हैं. और हाँ, गणपति की सवारी, मूषक राजा बनाना न भूलें.

clip_image003

अब बारी है बप्पा को सजाने संवारने की. तो घर में उपलब्ध दालें, चावल, हल्दी इत्यादि का प्रयोग आप बखूबी कर सकते हैं. विभिन्न रंग के दालों को चिपका कर आप गणपति बप्पा का शृंगार कर सकते हैं. गीली मिट्टी में ये स्वयं चिपक जाते हैं, और यदि समस्या हो तो आटे की लेई का प्रयोग किया जा सकता है. बप्पा के परिधानों को रंगने के लिए हल्दी का प्रयोग किया जा सकता है. हल्दी में थोड़ा सा चूना मिलाकर लाल रंग बनाया जा सकता है.

आप देखेंगे कि इस बार आपके पर्यावरण मित्र गणपति बप्पा आप पर कुछ ज्यादा ही प्रसन्न हैं.

--

डॉ. रेखा श्रीवास्तव

101, आदित्य एवेन्यू, एयरपोर्ट रोड, भास्कर कॉलोनी,

भोपाल, मप्र 462020

4 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------