बुधवार, 26 सितंबर 2012

प्रमोद कुमार सतीश की कविता - हकीकत-ए-जिन्दगी

हकीकत--जिन्दगी

बेरंग जिन्दगी बेनूर जिन्दगी

कैसे बनती है कोहिनूर जिन्दगी

अकड़कर चलती है, ठोकर मारती है

कमबख्त बेरहम, मगरुर जिन्दगी

तन्हाइयों से दामन भरती है जिन्दगी

बर्बाद-ए-गुलिस्तां करती है जिन्दगी

न मंजिल ही बताती है, न रास्ता यारों

घुट-घुटकर मारती, मरती है जिन्दगी

तमाम उलझनों में फँसाती है जिन्दगी

रिश्तों की डोर से नचाती है जिन्दगी

बिछड़ जाते हैं जब सारे हमसफर

तब राज-ए-हकीकत बताती है जिन्दगी

प्रमोद कुमार सतीश

.नं. 109/1 तालपुरा झांसी

ईमेल-- kumar.pramod547@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------