शुक्रवार, 21 सितंबर 2012

मोतीलाल की कविता - अपने भर

image
अपने हिस्से में लोग 
हिस्सा का गणित करते हैं
और जहाँ नहीं जाना चाहिए
तय नहीं करना चाहिए
उन वर्जित क्षेत्रों को
वे घुस जाते हैँ और बना लेते हैं
अपने लिए पूरा हिसाब

वे जो गंदे से बीनते हैं कचरे
और वे जो धूल उड़ाते हैं मारुति से
अपने हिस्से का धूप रख लेते हैं
अपने पास
फर्क की चादर में
पहला काला-कलूटा होकर
ताकता है अपने हिस्से के आकाश को दूसरा उड़ाता है गुब्बारा
सेंकता है सागर किनारे
अपने नर्म नाजुक देह को

अभी हिसाब के खाते में
चंद्रमा नहीं आया है ना ही सूरज
पेड़ तो निलाम हो चुके हैं
और नदी कसमसाती रहती है दिन-रात अपने जंजीरों से खुलने के लिए

अभी रोटी की बात कुछ देर टल गयी है बात हो रही है मंगल की
और वे अपने हिस्से का मंगल चाहते हैं जहाँ सूखी रोटी की जगह
काकटेल पार्टी की हुड़दंग हो

समय की घड़ी अभी बूढ़ी नहीं हुई है
बूढ़ा गये हैं हम
जिसे अपने हिस्से का
न धूप, न पानी, न रोटी,
न ही फुटपाथ मिल पाता है

उनके खाते में
सबका हिस्सा आ गया है जरुर
पर अभी तक उसने
नहीं पकड़ सका है
हमारे असीम समय को ।

* मोतीलाल/राउरकेला

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------