रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

चंद्रेश कुमार छतलानी की कविता - प्रभु ना निहार मेरी ओर - मेरी प्रार्थना

प्रभु ना निहार मेरी ओर - मेरी प्रार्थना

प्रभु ना निहार मेरी ओर

मैं छुपाना चाहता हूँ तुझसे 

मेरे सारे आंसू - मेरे सारे दुःख ।

नहीं चाहता हूँ मचलना मैं 

किसी बच्चे की तरह 

न ही तेरी आँखों की ममता 

देख के पा लूंगा मैं सारे सुख।

मैं छुपाना चाहता हूँ तुझसे 

मेरे सारे आंसू - मेरे सारे दुःख ।

तू भले ही व्याप्त हो हर ओर हर जगह 

मेरा तो लेकिन कोई अस्तित्व ही नहीं 

हर तत्व में तेरा ही अंश बसा है 

मुझसे ही रह गया प्रभु तू चुक ।

मैं छुपाना चाहता हूँ तुझसे 

मेरे सारे आंसू - मेरे सारे दुःख ।

अगर देखना है तो मेरे दिल में देखना 

ज़ंजीर से बंधा हुआ हर भाव दिखेगा 

तेरे बेबस अंशों को तू ना देख पायेगा 

निगाहें ना रह जाएँ कहीं तेरी यहीं रुक ।

मैं छुपाना चाहता हूँ तुझसे 

मेरे सारे आंसू - मेरे सारे दुःख ।

----


Chandresh Kumar Chhatlani

http://chandreshkumar.wetpaint.com

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget