रविवार, 21 अक्तूबर 2012

रेखा जोशी की लघुकथा - बिंदिया

मीनू की डोली जब प्रशांत के घर के आगे रुकी तो दरवाजे पर पूजा की थाली लिए शिखा खड़ी थी। शिखा ने आगे बढ़ कर अपने प्यारे भैया प्रशांत और अपनी प्यारी सखी जो आज दुल्हन बनी, भाभी के रूप में उसके सामने  खड़ी थी, आरती उतार कर स्वागत किया। बर्तन में भरे हुए चावल को अपने पैर से बिखराते हुए, पूरे रीति रिवाज के अनुसार मीनू ने अपने ससुराल में प्रवेश किया। पूरा घर खुशियों से चहक उठा, शिखा ने मीनू को गले लगाते हुए कहा, ''आज तुम्हारा पांच साल से परवान चढ़ता हुआ प्रेम सफल हुआ, मैं जानती हूँ तुम और प्रशांत भैया दो जिस्म एक जान हो, तुम एक दूसरे के बिना रह ही नहीं सकते ''।

जल्दी ही मीनू अपने ससुराल में घुल मिल गई, खासतौर से शिखा के साथ उसकी दोस्ती और भी गहरी हो गई। समय कब पंख लगा कर उड़ जाता है, मालूम ही नहीं पड़ता, दिन महीने और साल पर साल गुजरने का एहसास ही नहीं हुआ मीनू को, फिर पता नहीं किसकी नजर लग गई और दबे पाँव अनहोनी ने उसकी प्यारी सी जिंदगी में दस्तक दे दी, प्रशांत की एक कार दुर्घटना में मौत हो गई। मीनू की जिंदगी में घनघोर अँधेरा छा गया, सारा सारा दिन प्रशांत की यादों में निकल जाता और रातें तो कटने का नाम ही नहीं लेती, रो रो कर आंसू भी सूख गये थे। शिखा भी अपने भाई को भूल नहीं पा रही थी, जब भी वह मीनू को देखती उसकी आँखें मीनू के सूने माथे पर ही अटक  कर रह जाती, जहाँ कभी दमकती लाल रंग की बिंदिया मीनू की सुन्दरता की और भी निखार देती थी, ''नहीं नहीं, मैं मीनू की यूं घुट घुट कर जीने नहीं दूंगी, उससे बात करनी ही होगी, ''

और एक दिन उसने मीनू से दूसरी शादी की बात छेड़ दी, शिखा की बात सुन कर मीनू को जोर का झटका लगा, तड़प उठी वह, ''शिखा  मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ, तुम्हें उस प्यार की कसम, जो आज के बाद तुमने यह बात दुबारा कही,तुम ही तो जानती हो कि तुम्हारे भैया से मैं कितना प्यार करती हूँ, किसी और के बारे में सोचना भी मेरे लिए पाप है, चाहे वह आज  शारीरिक रूप से मेरे साथ नहीं, लेकिन मैं सिर्फ और सिर्फ प्रशांत की हूँ, वह हर पल मेरे दिल में रहते है, मैं अपने से उनकी यादें दूर नहीं कर सकती।

शिखा उसकी प्रिय सखी होने के नाते उसकी मनोदशा अच्छे से समझ रही थी, ''ठीक है मीनू, मैं तुम्हें समझ सकती हूँ, लेकिन तुम्हें भी मेरी एक बात तो माननी ही होगी, ''शिखा ने मेज से बिंदियों का एक पत्ता उठाया और लाल रंग की एक बिंदी निकाल कर मीनू के सूने  माथे पर लगा दी, ''यह बिंदिया मेरे भैया के उस प्यार के लिए, जिसे तुम अब भी महसूस करती हो। मीनू अवाक खड़ी देखती रह गई।

रेखा जोशी

 

फरीदाबाद

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------