आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

भूपिंदर सिंह के कुछ शेरो-शायरी

image

1.बन्दा ए दिल ए नाज़ुक का मक़ान है
रात भर छत को नज़र पे उठाये रहता है


2. शर -गफ्त बहक-आदाब और बे-नू सा दिखा
अदना गली का हर शख्स भूखा और मय-बू सा दिखा

( शर गफ्त - बुरा बोलने वाला या गालीबाज़ , बहक आदाब - बहके से आचरण वाला , बे-नू - पुराना
मय -बू   - जिस से शराब की महक आती हो )


3. ख़ुर्शीद मग़रिब के इधर आया न कभी
सहरी की दहलीज़ पे मेरे साये ना गए


( खुर्शीद - सूरज , मग़रिब - पश्चिम , सहरी - सुबह या इस शेर में पूर्व दिशा के लिए कहा है )
 
4परस्तिश के लिए हर दीवार से लटकाया गया
पाबन्द ए दीन ए ईमाँ का बेहतर क्या अंजाम होता

(परस्तिश - पूजन , पाबंद ए दीन ए ईमान - ईमानदारी के धर्म का पालक )

5कोई किस्मती इबारत सोने आ जाये कभी
पेशानी के बिस्तर से ये सिलवटें हटाइए
( इबारत - लेख , पेशानी - माथा )

6 लकीरों का राहगीर सहरा की दौड़ में
छोड़ेगा कोई नज़ीर तो भटकों के वास्ते
( सहरा - रेगिस्तान , नजीर - उदाहरण )

7 सिफ़्ल पयामी तेरा न मक़बूल तब्सरा होता
वज़्न शाना तेरे भी और ख़ुश्क गर पैमां होता

( सिफ्ल पयामी - जादुई या सफल  वर्णन कार , मकबूल - प्रसिद्द , तब्सरा - चर्चा , वज़न शाना - बोझिल कंधे ,यहाँ ज़िम्मेवारियों के लिए प्रयुक्त , खुश्क - सूखा , पैमां - मदिरा का पात्र )

8. हर रहबर के साये में सिमटने की क़वायद थी
कई  फ़लसफ़े रद्द हुए और कई ख़ुदा बदल गए
( रहबर - सहयात्री यहाँ साथी , कवायद - प्रक्रिया , फ़लसफ़े - दर्शन /दार्शनिक विचार )

9.  हुक़ूक़ ए जवांदिल  बे तर बे तरीन न हुए
पयामे ख़ाबीदा यूं नहीं के नाज़रीन न हुए
( हुकूक - अधिकार /यहाँ कर्तव्य , बेतर-बेतरीन  - छिन्न भिन्न , पयामे ख़ाबीदा - सपने में दिए सन्देश अथवा सपने में आने वाली के सन्देश , नाज़रीन - दर्शक /यहाँ घटित )

10. ठहर न सकेगी दीद ए महफ़िल नूर ए हुस्न पे आज
ज़िक्र ए रुसवा सर ए महफ़िल लब बदला करेगा
( दीद ए महफ़िल - महफ़िल की नज़र , नूर ए हुस्न - सौन्दर्य की आभा , जिक्र ए रुस्वा - बदनाम की चर्चा ,सर ए महफ़िल - भरी महफ़िल )

11. परवाज़ ए बयाँ अपने के पर ज़रा गिन लूं
सुना हद तेरे क़िरदार की आसमाँ से बात करती है
( परवाज़ - उड़ान )
12.एक दोस्ती आपकी फिर तल्खियाँ निज़ाम से
हो जाएगा मशहूर बेशक  'मामूली ' भी एक दिन
( तल्खियां - कटुता , निज़ाम - प्रशासन/व्यवस्था )

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.