रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

भूपिंदर सिंह के कुछ शेरो-शायरी

image

1.बन्दा ए दिल ए नाज़ुक का मक़ान है
रात भर छत को नज़र पे उठाये रहता है


2. शर -गफ्त बहक-आदाब और बे-नू सा दिखा
अदना गली का हर शख्स भूखा और मय-बू सा दिखा

( शर गफ्त - बुरा बोलने वाला या गालीबाज़ , बहक आदाब - बहके से आचरण वाला , बे-नू - पुराना
मय -बू   - जिस से शराब की महक आती हो )


3. ख़ुर्शीद मग़रिब के इधर आया न कभी
सहरी की दहलीज़ पे मेरे साये ना गए


( खुर्शीद - सूरज , मग़रिब - पश्चिम , सहरी - सुबह या इस शेर में पूर्व दिशा के लिए कहा है )
 
4परस्तिश के लिए हर दीवार से लटकाया गया
पाबन्द ए दीन ए ईमाँ का बेहतर क्या अंजाम होता

(परस्तिश - पूजन , पाबंद ए दीन ए ईमान - ईमानदारी के धर्म का पालक )

5कोई किस्मती इबारत सोने आ जाये कभी
पेशानी के बिस्तर से ये सिलवटें हटाइए
( इबारत - लेख , पेशानी - माथा )

6 लकीरों का राहगीर सहरा की दौड़ में
छोड़ेगा कोई नज़ीर तो भटकों के वास्ते
( सहरा - रेगिस्तान , नजीर - उदाहरण )

7 सिफ़्ल पयामी तेरा न मक़बूल तब्सरा होता
वज़्न शाना तेरे भी और ख़ुश्क गर पैमां होता

( सिफ्ल पयामी - जादुई या सफल  वर्णन कार , मकबूल - प्रसिद्द , तब्सरा - चर्चा , वज़न शाना - बोझिल कंधे ,यहाँ ज़िम्मेवारियों के लिए प्रयुक्त , खुश्क - सूखा , पैमां - मदिरा का पात्र )

8. हर रहबर के साये में सिमटने की क़वायद थी
कई  फ़लसफ़े रद्द हुए और कई ख़ुदा बदल गए
( रहबर - सहयात्री यहाँ साथी , कवायद - प्रक्रिया , फ़लसफ़े - दर्शन /दार्शनिक विचार )

9.  हुक़ूक़ ए जवांदिल  बे तर बे तरीन न हुए
पयामे ख़ाबीदा यूं नहीं के नाज़रीन न हुए
( हुकूक - अधिकार /यहाँ कर्तव्य , बेतर-बेतरीन  - छिन्न भिन्न , पयामे ख़ाबीदा - सपने में दिए सन्देश अथवा सपने में आने वाली के सन्देश , नाज़रीन - दर्शक /यहाँ घटित )

10. ठहर न सकेगी दीद ए महफ़िल नूर ए हुस्न पे आज
ज़िक्र ए रुसवा सर ए महफ़िल लब बदला करेगा
( दीद ए महफ़िल - महफ़िल की नज़र , नूर ए हुस्न - सौन्दर्य की आभा , जिक्र ए रुस्वा - बदनाम की चर्चा ,सर ए महफ़िल - भरी महफ़िल )

11. परवाज़ ए बयाँ अपने के पर ज़रा गिन लूं
सुना हद तेरे क़िरदार की आसमाँ से बात करती है
( परवाज़ - उड़ान )
12.एक दोस्ती आपकी फिर तल्खियाँ निज़ाम से
हो जाएगा मशहूर बेशक  'मामूली ' भी एक दिन
( तल्खियां - कटुता , निज़ाम - प्रशासन/व्यवस्था )

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget