सुरेन्द्र अग्निहोत्री की कविता - नौसिखुआ न कहो

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

नौसिखुआ न कहो.....

जवां हैं हम

जवां हैं उमंगें

हर ताल पर झूम

सजगता की अभिव्यक्ति

रंगो से बुना यथार्थ

बाजीगरों के नए ठिकाने

रोशनी की नई किरण

महलों में गूंजता ककहरा

परंपरा की डोर थामे

उदारता हो प्‍यार का आधार

लय की समझ के लिए

लिख रही तकदीर परदे पर

रग-रग में उतरता राग

सुनाई दे रही

भविष्‍य की दस्‍तक

हरफन मौला हो

तो मुश्‍किल नहीं चुनौती

एक सपना उंची उड़ान का

अनुभव असल जिन्‍दगी के

अब यहां से कहां जाए हम

सपने कभी नहीं मरते

कभी न कभी सच होते हैं

कभी अंधेरे में जन्‍मते हैं

तो उजाले में पूरे होते हैं

000

सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री

ए-305, ओ.सी.आर.

विधान सभा मार्ग;लखनऊ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "सुरेन्द्र अग्निहोत्री की कविता - नौसिखुआ न कहो"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.