प्रमोद कुमार सतीश की कविता-- आज की हकीकत

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------


ओहदा बढ़ रहा है गद्दारों का
निशां मिट रहा है वफादारों का
तू यहां इंसानियत ढूंढता है
ये शहर नहीं है खुद्दारों का
हर तरफ बिखरी पड़ी हैं लाशें
दौर है जिन्दगी के व्यापारों का
जो भी आता है बिक जाता है यहाँ
अजब रुतबा है खरीददारों का
शोहरत से तय होती है औकात
यही चलन है बाजारों का
शराफत सरॆआम होती है नंगी
यहाँ कब्जा है गुनहगारों का
बगावत की बू हवा में उड़ जाती है
कोई हाकिम नहीं है राजदारों का
सियासत की नदी हद भूल बैठी है
सब्र टूट रहा है किनारों का

--
प्रमोद कुमार सतीश
म0न0 109/1 तालपुरा झाँसी

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "प्रमोद कुमार सतीश की कविता-- आज की हकीकत"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.