रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

चन्द्रशेखर प्रसाद की कविता - घनी घास को चीरती पगडंडियों पर

image

घनी घास को चीरती पगडंडियों पर

भयावह सन्नाटे के बीच

बहती बेसुध हवाएँ

बीच –बीच में डराते उल्लुओं और सियारों के स्वर

इन्हीं के बीच अंधेरों से बेखबर

घनी घास को चीरती पगडंडियाँ,

उन पर

बढ़ते चरण

लेकर कुछ ख्वाब

तुम्हारे संग के, साथ के

बदल जाते थे जहाँ मिनट बरसों में

युगों में

और,

दूर किसी झाड़ी की परछाईं में

तुम ही तुम तो दिखाई पड़ती थीं

 

पल-प्रति पल

करीब आते ही

जब दुबक जाती थीं तुम

उस परछाईं की छांव में

बे मौसम बरस पड़ती थीं आँखेँ

भादों के मेघ-सी

फिर मिली थीं तुम अचानक

जब एक दिन

धौल देकर पीठ पर

चंचल हवा-सी

वो तुम्हारा आगमन

ऐसे लगा था

पहाड़ों से गिरी

कोई बेगवती सरिता

बहाकर

ला रही हो

प्रेम से अनगिन हार औ उपहार मोती के

औ मिली हो

किसी सागर से

शायद इसलिए ही तो

तुम्हारी धार में रफ़्तार आयी थी |

 

और उसके बाद

बदले युग पलों में

फूल मुसकाए थे

अचानक रातरानी के

उतर आया था

धारा पर चाँद जैसे

ले थाल चाँदी की

सो गया था संगीत तितली का

चुपचाप सीने पर हमारे

उस समय

जब तुम हुईं थी

बेताब सुनने को

धड़कनें दोनों दिलों की

और देकर कान

लेटी रह गयी थीं

कुछ पलों तक

चुपचाप सीने से

और बोली थी अचानक

चाँदनी से

सौत-सी क्यों छल रही

पावन प्रणय को

चाँदनी ने तब समेटा

जाल अपना

और उसको रख चली उषा सखी के द्वार

इस तरह जब ख्वाब टूटा था हमारा

आज तक

लौटे न वे छन

जिन्हें लेकर चले थे पग हमारे

घनी घास को चीरती पगडंडियों पर |

 

चन्द्रशेखर प्रसाद बी.-टेक(III); कंप्यूटर इंजीनियरिंग; एस.वी.एन.आई.टी, सूरत;

मुखियापट्टी, साहरघाट, मधुबनी (बिहार); मो. : +91-7600562108;

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget