आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

रामदीन की कविता - क्या हैं हम

‘‘अर्धसत्‍य''

क्‍या हैं हम

सोची समझी नासमझी में घटना हो गई ट्विन टावर की।

मरे निरीह अभागे उस दिन थी बदकिस्‍मत ट्विन टावर की॥

 

तत्‍क्षण फुंफकारा अमरीका चारों तरफ ध्‍यान से देखा।

बैठ झरोखे उसने सोचा क्‍यों विश्‍वास खा गया धोखा॥

 

महज एक शक ही होने पर नोच लिया अफगानिस्‍तान।

एक एक गढ़ दहशत का जो खोद दिया अफगानिस्‍तान॥

 

अब तो बम की बात ही नहीं तेज पटाखा वहां गुनाह।

खोद जमी से दी फांसी मिटा पड़ोसी तानाशाह॥

 

शेर ढूँढने के चक्‍कर में ढूंढ-ढूंढ कर मारे चूहे।

एयरपोर्ट पर बढ़ी चौकसी बेगाने सब बन गये चूहे॥

 

किसी के जूते, किसी के चप्‍पल, किसी की चड्‌ढी खोलके देखी।

नंगा करके एक-एक को किया तमाशा दुनिया देखी॥

 

नहीं शर्म हमको है आती सभी पड़ोसी हमें सतायें।

कोई भेजे खुफिया सैनिक कोई जाली नोट चलाये॥

 

हथियारों का करें प्रदर्शन देश में घुसकर दुष्‍ट पड़ोसी।

नाक में दम भिखमंगे करते झेल रहे हम दुष्‍ट पड़ोसी॥

 

घुसपैठिये देश में सोयें, खायें, पियें और मजे उड़ाये।

कड़े कारगर कदम न लेकर हम दुनिया में हंसी उड़ाये॥

 

यहां वहां रोते फिरते हैं इसने हमको मारा है।

गद्‌दारों को मार भगाओ भारत देश हमारा है॥

 

अब तो शर्म करो आकाजी कुछ तो सीखो अमरीका से॥

अपनी सीमा करो सुरक्षित कुछ तो सीखो अमरीका से

 

किसका डर है किसी दहशत देश हमारे साथ है।

लगता है कुछ नादानी वश तंग हमारा हाथ है॥

 

करगिल, संसद, मुम्‍बई, सरहद सब कुछ है, अब आगे।

हमीं भुलक्‍कड़ कुछ ना करते दुनियाभर में भागे॥

 

--

-रामदीन,

जे-431, इन्‍द्रलोक कालोनी,

कृष्‍णानगर, लखनऊ-23

टिप्पणियाँ

  1. बेनामी4:26 pm

    हमीं भुलक्‍कड़ कल्पना जरुरतों का मूल्यांकन करने के लिए विभिन्न पहलूओं पर युवाओं को राष्ट्रीय प्रतिनिधियों से बौध्दिक चर्चा-परिचर्चाके द्वारा अमरीका से सबक सीख़े औऱ ऱामदीऩ की कबिता का॑ सच कऱॅ
    पंकज शमा॔

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी4:26 pm

    हमीं भुलक्‍कड़ कल्पना जरुरतों का मूल्यांकन करने के लिए विभिन्न पहलूओं पर युवाओं को राष्ट्रीय प्रतिनिधियों से बौध्दिक चर्चा-परिचर्चाके द्वारा अमरीका से सबक सीख़े औऱ ऱामदीऩ की कबिता का॑ सच कऱॅ
    पंकज शमा॔

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.