रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

राजीव आनंद की कविताएँ

image

  उँ


ब्रह्मांड का प्रतीक है उँ
प्रणव मंत्र
एक ध्‍वनि
शरीर के भीतर भी
शरीर के बाहर भी
    सून हर कोई सकता नहीं
    सुनने लगता है जो इसे
    जुड़ने लगता है परमात्‍मा से
ब्रह्मांड की अनाहत ध्‍वनि
ध्‍वनि के उत्‍पत्‍ति का अपवाद
ब्रह्मांड की समस्‍त ध्‍वनियों में
सबसे शक्‍तिशाली ध्‍वनि
    प्रारंभ तो है इसका अंत नहीं !

सबसे बड़ा लोकतंत्र


क्‍या बचा है मेरे पास
बाहर आकर जेल से
दशकों बाद
न बाप
न माँ
न बहन
न भाई
न किए जुर्म की सजा काट
पुलिस साबित न कर पायी एक भी बात
गुम हो गयी लंबी अंधेरी रातों में हयात
मां, बाप, बहन, भाई ने छोड़ दिया साथ
    कैसा है ये न्‍याय का तंत्र ?
    फंसाकर पुलिस निर्दोष को
    रचती है षडयंत्र
    जज साहब एक दशक तक
    फैसला सुनाते है
    जाओ अब जेल से बाहर
    तुम हो स्‍वतंत्र
    क्‍या गरीब को ऐसी ही
    जिंदगी मिलती है भारत में ?
    सूना है देश आजाद है
    और है
    सबसे बड़ा लोकतंत्र !
   

      कारखाना


इंसानियत का कारखाना
अब हो गया है पुराना
नहीं बना पा रहा
ममता, त्‍याग, प्रेम व करूणा का
औजार
जो जीवित कर सके इंसानों में
मरती हुई इन संवेदनाओं को
औजार घिस गए लगते है
मन-मस्‍तिष्‍क के आनंदित उत्‍पाद
नहीं बना पा रहा है कारखाना
टाटा, बिड़ला और अंबानी से कहो
लगाए वो दूसरा इंसानियत का कारखाना !

भगत सिंह आए पर.......
भगत सिंह फिर पैदा हो, चाहते है प्राय सभी
पर भगत सिंह पैदा न हो उनके घर कभी
     देश को आज जरूरत है भगत सिंह की
     ऐसा शिद्द‌त से चाहते है लोग सभी
        ब-शर्त्‍त
           बेटा या भाई बनकर न आए कभी
           आए तो पड़ोसी बनकर ही आए कभी

     

बाजारवाद


पैसे की हवस इतनी बढ़ गयी
छाती का दूध दुकानों पर चढ़ गयी
मांओं को समझना होगा
बाजार की जद से बचना होगा
    जैसे ही छाती का दूध
    बोतलों में बंद होगा
    जीवन बच्‍चों को देने से
    ऐसा दूध स्‍वच्‍छंद होगा
छाती का दूध है अनमोल
मत करो इसका नाप-तोल


                          राजीव आनंद
                         मो. 9471765417

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

bhaut hi acchi rachnaye likhi hai aapne....

bhahut ki sunde r rachanay. Shankar

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget