अजय कुमार मिश्र ‘अजय श्री‘ की कविता - गौरैया की मांग

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

गौरैया की मांग

image

छत पर बैठी गौरैया

फुदक-फुदक कर करती मांग।

दे दो मुझका दाना पानी,

दिखता है बस अब मकान।

नहीं मिले अब वो बाग बगीचे,

नहीं रहे अब वो उपवन।

मेरा मन भी अब उचट गया है,

सोच रही हूं छोड़ दू तन।

पर काल चक्र के आगे,

कौन यहां टिकता है।

चाहे जो मन,

वो सब कर्म कहां होता है।

लेकिन बच्‍चों के खातिर,

मुझको आना जाना है।

रोज भोर में आकर छत पर,

चूं-चूं कर तुम्‍हें जगाना है।

बदले में मिल जायेगा मुझको,

थोड़ा दाना थेाड़ा पानी।

कट जायेगा जीवन मेरा,

कर देना बस इतना एहसान।

छत पर बैठी गौरैया,

फुदक-फुदक कर करती मांग।

 

---अजय कुमार मिश्र ‘अजय श्री‘

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "अजय कुमार मिश्र ‘अजय श्री‘ की कविता - गौरैया की मांग"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.