शुक्रवार, 26 अक्तूबर 2012

तेजेन्द्र शर्मा की कहानी - ढिबरी टाइट

(तेजेंद्र शर्मा - जिन्होंने हाल ही में अपने जीवन के 60 वर्ष के पड़ाव को सार्थक और अनवरत सृजनशीलता के साथ पार किया है. उन्हें अनेकानेक बधाईयाँ व हार्दिक शुभकामनाएं - सं.)

---

ढिबरी टाइट

तेजेन्द्र शर्मा

गुरमीत एकाएक ठहाका लगाकर हंसा।

घर के सभी सदस्य चौंक पड़े। गुरमीत तो लगभग दो वर्ष से दुःख के उस गहरे समुद्र में डूब चुका था, जहां से उसे खींचकर निकाल पाना शायद कठिन ही नहीं असंभव -सा भी लग रहा था। फिर वही गुरमीत, एकाएक बच्चों की-सी प्रसन्नता के साथ हंसने और नाचने लगा था।

'कर दी सालों की ढिबरी टाइट.......खा गया सालों को, .......उनकी तो मां.......!'

सभी अवाक् गुरमीत को देखे जा रहे थे। 'कहीं इतने दिनों की चुप्पी से पागल तो नहीं हो गया?'.......पर अभी-अभी ठीक-ठाक था।.......हां, शायद आजकल गुरमीत का चुप रहना ठीक ही लगता है। वो पुराना ज़िन्दादिल गुरमीत तो न जाने कहां खो गया है।.......आज जैसे उस पुराने गुरमीत की राख में से ही तो, गुरमीत की हंसी निकल कर आई है।.......यह गुरमीत है या कोई फ़िनिक्स?

घर के सभी लोग टेलीविज़न के सामने बैठे थे। वही परिचित-सी राष्ट्रीय कार्यक्रम की धुन बजी थी और फिर समाचार की। तब तक तो गुरमीत के चेहरे पर चुप्पी मनहूसियत की तरह चिपकी हुई थी। फिर समाचार वाचक ने समाचार पढ़ा, 'आज ईराक़ीद्न फ़ौज ने अचानक कुवैत पर हमला कर के उसे अपने कब्ज़े में ले लिया है.......' और उससे आगे का समाचार न तो गुरमीत को सुनना था और ना ही घर का कोई अन्य सदस्य सुन पाया।

जैसे उन्माद का एक दौरा ही पड़ गया था गुरमीत पर। इराक द्वारा कुवैत पर कब्ज़ा जैसे गुरमीत के जीवन की सबसे सुखद घटना बन गई थी। कहीं उसके दुःखी और अशांत मन को लगने लगा था जैसे उसने स्वयं ही कुवैत पर कब्ज़ा कर लिया हो। वह कमरे से बाहर आया।.......बत्ती जलाई और सहन में पड़े दो-तीन खाली डिब्बों को ठोकरें मारने लगा.......'यह साला अमीर गया; यह गया क्राउन प्रिंस.......स्साला कहता था - सोने की चादर की कार बनवाऊंगा......भाग गया उल्लू का पट्ठा।.......सब स्साले भाग लिए.......ओये दारजी ख़ुशियां मनाओ ओए.......आज तो जी भर के शराब पियो.......ओये ओन्हां दी तां मां मर गई ओए.......लै गया सौरयां नू.......करती सालयां दी ढिबरी टाइट।'

हंसी का जो बांध उसने अपनी आसुंओं के सामने खड़ा किया था उसमें दरारें उभरने लगीं और थोड़ी ही देर में वह बांध पूर्ण रूप से ध्वस्त हो गया.......गुरमीत जितनी जोर से हंसा था उतने ही ज़ोर से रोने लगा।

दारजी ने बेटे को संभाला। मां तो एक साल पहले ही पुत्तर को छोड़कर स्वर्गों र्में र्ठिकाना कर चुकी थी। गुरमीत अभी भी उन्माद में बड़बड़ाए जा रहा था, 'हुण नहीं छोड़ेगा जी, हुण कुछ नहीं बचेगा। सारे दा सारा गल्फ़ तबाह हो जाएगा। दारजी हुण ओथे कुछ नहीं बचना जे।'

दारजी को तो यह समझ नहीं आ रहा था कि वे दुःखी हों या प्रसन्न! एक ओर तो उनका पुत्र रो रहा था और दूसरी ओर प्रसन्नता इस बात की कि बेटा दो साल के बाद बोला तो! दो वर्ष से चुप्पी का एक ऐसा आवरण गुरमीत के चेहरे पर चढ़ा हुआ था कि उसके नीचे का दर्द किसी को दिखाई ही नहीं दे पाता था। गुरमीत कुछ बोले, तभी तो दर्द दिखाई दे।

दर्द भी तो उसने स्वयं ही मोल लिया था। अच्छा ख़ासा घर था; खेती-बाड़ी थी; यह सब छोड़कर गया ही क्यों वह? अधिक पाने की चाह में जो कुछ था वह भी लुट गया। मनुष्य संतुष्ट क्यों नहीं रह पाता? क्यों अधिक से अधिक पा लेना चाहता है!

गुरमीत के भी कई मित्र विदेश हो आए थे। हर एक के पास विदेश की अलग-अलग रसीली कहानियां थी। वहां की कारों की दास्तां, डिपार्टमेंट स्टोर, सोने की दुकानें, न जाने क्या-क्या.......सब के सब गुरमीत को अपनी ओर आकर्षित कर रहे थे। नहीं तो गुरमीत को क्या कमी थी। कुछ अर्सा पहले ही उसने कुलवंत कौर से विवाह किया था। खेतों की मुण्डेरों पर पला प्यार विवाह के बंधन में बंध गया था और फिर गर्भवती पत्नी और सभी परिवारजनों को छोड़कर गुरमीत कुवैत चला गया।

उसे तो केवल तरसेमलाल को दिखाना था कि वह भी विदेश जाने की कुव्वत रखता है। तरसेमलाल तो केवल आठवीं पास है, फिर भी देखो कैसे दुबई में नौकरी का जुगाड़ बना लिया और आज उसका घर देशी-विदेशी चीजों से भरा हुआ है। कौन कहेगा कि तरसेमलाल का पिता मूंगफली और गजक बेचकर गुजारा करता था।.......फिर गुरमीत के यहां तो वैसे ही खुशहाली है और वह तो ग्यारहवां पास भी है! ट्रैक्टर चलाता हुआ क्या बांका जवान लगता था।

बस कर लिया निर्णय-मैं भी विदेश जाऊंगा। 'दारजी या बड़े भाई के समझाने का कोई असर नहीं। बस एक ही ज़िद्द। हठीला तो बचपन से ही था। पहुंच गया एक ट्रैवल एजेंट के पास।

'ट्रैवल एजेंट' भी तो सपनों के सौदागर होते हैं। विदेश के ऐसे रंगीन सपने बेचते हैं कि सपने ख़रीदने के लिए इन्सान घर-बार भी बेचने को तैयार हो जाए। इन्हीं सपनों ने गुरमीत के दिल में भी विदेश जाने की इच्छा को दीवानेपन की हद तक भर दिया था।

गांव में गुरमीत का घर हमारे घर से कोई अधिक दूर नहीं है। अब तो उसे एक गांव कहना भी ठीक नहीं होगा। अनाज की बड़ी-सी मण्डी है और एक छोटे से शहर की लगभग सभी सुविधाएं वहां मौजूद हैं। हम दोनों के पिता अच्छे मित्र हैं। मेरे पिताजी की एक डिस्पेंसरी है वहां। अच्छी खासी प्रेक्टिस है। गुरमीत के पिता सरदार वरयाम सिंह का नाम बड़े किसानों में लिया जाता है।

गुरमीत जब कुवैत गया था तो पहले मेरे ही पास बंबई आया था, 'वीर जी, कमाल है! इतना बड़ा जहाज और कहते हैं एयर बस! ओए भला ऐ क्या बात होई जी? भाई जहाज जहाज है और बस बस! हमें वेवकूफ क्यों बनाते हैं.......भराजी, मेरे तो पेट में खलबली मची रही जब तक जहाज बंबई में आकर उतर नहीं गया।.......पर वीरजी पिण्ड वाले (गांव वाले) आपकी भी बहुत तरीफें करते हैं जी। हर आदमी इको ही गल (बात) करता है कि डॉक्टर जेतली दा पुत्तर बिल्कुल नहीं बदलया। देखो हवाई जहाज चलाता है पर अकड़ बिल्कुल नहीं।'

गुरमीत धारा प्रवाह बोले जा रहा था। मेरी पत्नी तो शहर की है - ख़ास बंबई शहर की। मैं कभी गुरमीत की ओर देखता और फिर अपराधी नज़रों से पत्नी की ओर भी देख लेता। परंतु पत्नी भी गुरमीत की बातों का आनंद ले रही थी। गुरमीत की निश्चल बातें उसे अच्छी लग रही थीं।

मैं स्वयं ही गुरमीत को कुवैत छोड़ने गया था। एअरलाईन की नौकरी के कुछ तो लाभ भी होते हैं ना।

वहां अपने दोस्त दिनेश बतरा से मिलवा भी आया। दिनेश तो लगभग दस वर्षों र्से कुवैत में चार्टड आकाउण्टेंट है। गांव के गुरमीत को परदेस में भी एक जानकार तो मिल ही गया था।

गुरमीत ने अपने सरल स्वभाव और व्यवहार से शीघ्र ही अपने आपको वहां सुव्यवस्थित भी कर लिया था। उसे रहने के लिए हिल्टन होटल के पीछे ही एक जगह मिल गई थी। उसने स्वयं ही यह स्थान पसंद किया था। कुछ गांव के घरों जैसा घर था। आंगन के मुख्य द्वार से घर तक पहुंचने तक ही तीन मिनट तो चलना ही पड़ता था। चारों ओर ऊंची दीवार और बीच मध्य में उसका तीन कमरे का वातानुकूलित घर! जी जान से मेहनत कर रहा था गुरमीत और वहां जगरांव में कुवंत ने एक फूल सी बेटी को जन्म दिया।

लाख चाहने पर भी गुरमीत अपनी पुत्री के जन्म पर जगरांव नहीं जा पाया। विदेश में छुट्टी अपनी मर्ज़ी से तो मिलती नहीं है। इस बीच मैं भी गांव हो आया था। कुलवन्त और गुड्डी को देख आया था अब मैं ही तो एक सूत्र था - गुरमीत और उसके परिवार के बीच।

मेरा एक चक्कर कुवैत का फिर लगा। अब गुरमीत में कई बदलाव आ चुके थे। अपनी कार में मुझे लेने आया और दोपहर का खाना सीज़र्स रेस्टॉरेन्ट में खिलाने ले गया। उसके भीतर का बालक अभी भी जिंदा था, 'भराजी, इस परदेस में तो घर से कोई चिट्ठी आ जाए उसी का तो एक सहारा होता है। यह अजब देश है जी जहां डाकिया ही नहीं होता। बस पोस्ट बॉक्स से आपे ही चिट्ठियां निकाल लाओ।' गुरमीत की आंखों में एक दर्द की टीस-सी उभरी। कुलवंत की याद और बिन-देखी गुड्डी की प्यारी-सी शक्ल ज़हन में उभरी।' आपने तो गुड्डी को देखा है ना जी? किस पर गई है? फोटो से तो कुछ पता ही नहीं चलता।'

मुझे लगा जैसे गुरमीत मेरी आंखों में कुलवंत और गुड्डी की छवि देखने की चेष्टा कर रहा है।

'भ्राजी, मैं दिनेश जी को कम ही मिलता हूं। बहुत पढ़े-लिखे लोग हैं, कई बार तो अपने पर ही शर्म आ जाती है। उनकी मम्मी तो बहुत ही बढ़िया औरत हैं जी। खाना खिलाए बिना आने ही नहीं देती और भाभी जी ने तो कुवैत में तहलका मचा दिया जी। कितना चंगा गातीं हैं जी। 'कुवैत टाइम्स' और 'अरब टाइम्स' दोनों में उनकी फोटो छपी थी जी।'

मैं बेसाख्ता उस इंसान को देखे जा रहा था। कितना सरल, कितना प्यारा।

मेरा जब भी कुवैत जाना होता, गुरमीत के पास हर बार कोई-न-कोई नई कहानी, नया किस्सा रहता - मुझे सुनाने के लिए। उनमें से आधी से अधिक घटनाओं में तो केवल उसके अंदर का बच्चा ही बोलता रहता था। विदेशी चमकीली वस्तुओं के प्रति एक बालक का आकर्षण स्वाभाविक ही था।

किंतु एक दिन बहुत उदास बैठा था, 'भ्राजी, यहां की पुलिस तो बहुत ही खराब है। इक तां निरी अनपढ़ पुलिस है जी। अंगरेजी का तो इक अक्षर भी नहीं बोलणा आंदा जी।......सो जी पकड़ लिया एक दिन हमारे एक मलयाली भाई को. ...ओजी वोही ......नायर को जी। पहले चौक पर उसकी वैन की तलाशी ली जी और 'ठुल्ला' (पुलिसवाला) अपनी ही बन्दूक उसकी वैन में भूल गया। और जी अगल चौराहे पर दूसरे ठुल्ले चेकिंग कर रहे थे। बस जी वैन में बंदूक मिली।. ...कर दी अगले की पिटाई। वोह बिचारा दुबला-पतला घास-फूस खाणेवाला आदमी जी, शरीर में कोई ज्यादा दम भी नहीं - फंस गया इन डंगरो के बीच जी। थाणे ले गये जी। बहुत मारा जी। वो अपणी अरबी में पूछे जा रहे थे और यह अपणा बंदा अंग्रेजी और मलयाली में रोए जा रहा था।......रब ने बचा लिता जी ओस बन्दे नूं। पता लग गया जी कि बंदूक उनके अपने ठुल्ले की है जी।......पर अपणा बन्दां तां अधमोया कर ता न जी।......ऐथे अरबी बोली तां, भराजी, जरूर आणी चाही दी।'

विदेश में अकेले पड़ जाने का ख़ौफ गुरमीत की आंखों में स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहा था। सात समुद्र पार करके विदेश जाने वाली ललक थी गुरमीत में। पर एक ही समुद्र के उस पास पहुंच कर उसका दिल दहल गया था।

फिर कुछ ऐसा भी हुआ कि कुछ महीनों के लिए कम्प्यूटर ने कुवैत और मेरे नाम के बीच भी एक समुद्र भर दिया। और मेरा नाम कुवैत की फ्लाइटों पर दिखाई नहीं दिया। इस बीच पत्रों से ही सूचना मिली कि गुरमीत गांव का चक्कर लगा आया है और कुलवंत और गुड्डी भी कुवैत पहुंच गये हैं।

कुलवंत और गुरमीत, साथ ही कुछ महीनों की गुड्डी-एक प्यारा सा परिवार। मैं भी यह सोच कर प्रसन्न था कि चलो दोनों का अकेलापन समाप्त हुआ। आखिर कुलवंत भी तो इतने परिवारजनों के बीच अकेली ही थी। गुरमीत के बिना उसे किसी और से कितना सरोकार होगा। और अब वही गुरमीत उसके पास था, उसके पास-उसका अपना गुरमीत। अब कोई गोरी मेम उसके गुरमीत को उड़ा कर नहीं ले जायेगी। अरब की हूरें भी तो जादू जानती हैं - बेचारी कुलवन्त!

दिनेश का फ़ोन कुवैत से आया तो मैं उस समय जापान गया हुआ था। यह नौकरी भी तो एक जगह टिक कर नहीं बैठने देती ना। दुनिया भर के शहरों का चक्कर काटता फिरता हूं। घर में टिक कर रह पाना तो एक बहुत बड़ी उपलब्धि जैसा लगता है।

दिनेश ने कोई विशेष संदेश भी नहीं छोड़ा था। बात भी तो हमेशा संयत ढंग से ही करता है। समय ने उसे संपूर्ण रूप से परिपक्व बना दिया है। उसकी आवाज तो सदा ही सपाट-सी लगती है, किसी भी उत्तेजना या भावुकता से रहित। पत्नी ने उसे बता दिया था कि मैं जापान से कब लौटूंगा। और उसने भी बस इतना भर ही कहा कि 'मैं फिर फ़ोन कर लूंगा।'

'इकबाल भाई ने ईद पर सिवइयां भिजवाईं थीं। नाराज़ हो रहे थे। कह रहे थे कि इतना बड़ा मोटर ट्रेनिंग स्कूल चला रहे हैं और हमारी भाभी हैं कि अभी तक गाड़ी भी नहीं चला पाती हैं।......आपको काफी डांट रहे थे कि बीवी को घर में कैद करके रखा हुआ है।' पत्नी ने सूचना दी।

इकबाल भाई को ईद-मुबारक कहने के लिए टेलीफ़ोन किया और चाय की चुस्की भरने लगा।

दिनेश का फोन फिर आया। वही संयत आवाज, 'सुरेन तुम कल ही कुवैत आ जाओ। बहुत जरुरी काम है। मैं एयरपोर्ट पर तुम्हारे लिए वीज़ा लेकर आ जाऊंगा। कम से कम एक हफ्ते की छुट्टी लेकर आ जाओ। काम बहुत जरूरी है। गुरमीत को तुम्हारी सख्त जरूरत है।'

मैं हलो-हलो कहता रहा। पर दिनेश को तो बस सूचना देनी थी और यह काम वह पहले ही कर चुका था।

पत्नी की नाराज़गी के बावजूद मैं कुवैत की ओर चल दिया। ना जाने क्या अनबूझ-सा रिश्ता बन गया था मेरे और गुरमीत के बीच।

घर से निकलने की सोच ही रहा था कि बाहर फ़ायर इंजन के चिंघाड़ने की आवाज आई। पता नहीं कहां आग लगी थी। टैक्सी में बैठा तो पास से सर्र करती हुए एंबुलैंस निकली। रास्ते में अंधेरी के श्मशान घाट के सामने से टैक्सी गुजरी तो शरीर में झुरझुरी-सी उभरी।

कुवैत पहुंचकर दिनेश मुझे सीधा अपने घर ही ले गया। गुरमीत वहीं पर था। चुप! एकदम चुप! उस हर समय चहकने वाले गुरमीत के स्थान पर जैसे किसी ने उसकी पत्थर की मूरत बनवा कर रखी दी हो। मुझे देखकर भी उस पर कोई विशेष प्रतिक्रिया नहीं हुई। उसकी आंखों में कोई पहचान या ख़ुशी नहीं उभरी। उस ज़िंदादिल गुरमीत को एक ज़िंदा लाश बना देने के लिए किसे कसूरवार ठहराया जाए - नियति को या......। और मैं कुछ भी नहीं सोच पा रहा था; केवल गुरमीत की एक ही बात, हथौड़े की तरह, बार-बार मेरे दिमाग में बजे जा रही थी, 'भ्राजी, यहां की पुलिस बड़ी खराब है जी।'

अगले ही दिन मैं और दिनेश गुरमीत को साथ लिये एक बार फिर उस रास्ते पर चल दिये जहां सब कुछ घटा था। गुरमीत की आंखों में फैले आतंक, ख़ालीपन और सूनापन मुझे उस दिन की तमाम घटना सुनाते दिख रहे थे।

कुलवन्त मां बनने वाली थी। बेटी के बाद बेटा होने की दोनों को प्रबल आकांक्षा थी। कुलवंत पूरे दिनों से थी। उसने गुरमीत को कहा भी, 'सुणो जी, आज कम ते ना जाओ। लगदा है आज हस्पताल जाणा पयेगा।'

'ओ भागवाने डरने की क्या गल है? ये फोन रख्या है न; बस कर देणा। मैं गोली वांग भजया आऊं। डरीदा नहीं होंदा। कल तों तां ईद दियां छुट्टिया नें।'

हुआ वही जिसका कुलवंत को डर था। प्रसव वेदना शुरू हो गई। थोड़ी देर तक तो वह सहती रही। फिर जब नहीं सहा गया तो उसने गुरमीत को फोन किया। गुरमीत भी काफी उत्तेजित था। प्रसन्नता और चिंता की मिश्रित भावनाएं लिए वह अपनी कार की ओर भागा। गुड्डी के जन्म के समय तो वह कुलवंत से बहुत दूर था किंतु इस बार वह कुलवंत के साथ होगा, उसे स्वयं सहारा देगा। साथी ने बधाई भी दी, 'गुरमीत सिंह अब तो ईद पर बेटा होने वाला है। बहुत किस्मत वाला होगा।'

आंखों में कुलवंत, गुड्डी और होने वाले पुत्र की तस्वीरें लिए गुरमीत ने अपनी कार स्टार्ट की। घर पहुंचने की जल्दी में गुरमीत ने एक्सीलेटर पर अपने पैर का दबाव बढ़ा दिया।

अभी वह 'सी-फेस' पर पहुंचा ही था कि पुलिस का सायरन सुनाई दिया। किंतु वह तो अपनी ही धुन में गाड़ी चलाए जा रहा था। कुवैत टॉवर के पास पहुंचते-पहुंचते पुलिस की गाड़ी ने उसे रुकने का इशारा किया। गुरमीत घबरा गया। न जाने क्या अपराध हुआ है उससे। ठुल्ला अरबी भाषा में चिल्लाए जा रहा था और 'स्पीडो मीटर' की ओर इशारा किए जा रहा था। काफ़ी कठिनाई से गुरमीत को समझ आया कि उसे तेज़ गाड़ी चलाने के जुर्म में पकड़ा जा रहा है। उसने अपने सारे कागज पुलिस के हवाले कर दिये। एकाएक विचार कौंधा कि कुलवंत की क्या हालत होगी। अपनी टूटी-फूटी अंग्रेजी में अरबी के शब्द मिलाकर वह पुलिस वालों को यह समझाने लगा कि उसकी पत्नी की 'डिलीवरी' होने वाली है और बच्चा किसी भी क्षण पैदा हो सकता है। किंतु उसकी बात न तो कोई सुन रहा था और ना ही किसी को समझ आ रही थी।

गुरमीत को ले जाकर कोतवाली में बंद कर दिया गया। वह गिड़गिड़ाया; उसने मिन्नतें की; वास्ते दिये। उसने हर एक पुलिस वाले से बात करने की चेष्टा की कि शायद किसी को उसकी बात समझ में आ जाए और उस पर दया करके उसे छोड़ दे।

हम तीनों दिनेश की कार में सवार कुवैत टॉवर तक पहुंच गये और गुरमीत की आंखों का दर्द जैसे कई गुणा बढ़ गया था। कुछ न कर पाने का अहसास उसे अंदर ही अंदर खाये जा रहा था।

गुरमीत को जेल में डालकर इंस्पेक्टर तो ईद की छुट्टियां मनाने चला गया। और गुरमीत चार दिन तक उस जेल की दीवारों से सिर टकराता रहा, चिल्लाता रहा; अपनी कुलवंत को याद करता रहा।

फिर ख्याल आया, कुलवंत के पास दिनेश जी का घर का फोन नंबर तो हैं। शायद भाभी जी को फोन कर लिया हो। शायद जब वह जेल से बाहर निकले तो कुलवन्त और बेटा दोनों हस्पताल में सुरक्षित हों।

कुलवन्त बेचारी गुरमीत की प्रतीक्षा करते-करते दर्द से निढाल होने लगी थी। गांव की लड़की परदेस में अकेली। हिम्मत करके दिनेश बतरा के घर फ़ोन किया। पर वहां कोई फ़ोन ही नहीं उठा रहा था। जब दर्द असह्य हो गया तो सलवार उतार कर ज़मीन पर चटाई बिछा कर लेट गई। फिर विचार आया कि अगर बच्चा ज़मीन पर गिर गया तो......वापिस जाकर पलंग पर लेट गई। सोचा मोमजामा बिछा लूं।......गुड्डी के जन्म के समय तो उसे कुछ सोचना ही नहीं पड़ा था। सब कुछ मां के घर ही हुआ था।......दर्द था कि बढ़ता ही जा रहा था।

डेढ़ साल की गुड्डी मां की हालत देखकर रोने लगी थी। पर मां की कराहटें उसके बाल सुलभ मन को पीड़ित किये जा रही थीं।

कुलवंत दर्द से चीखे जा रही थी। गुरमीत को भी याद किये जा रही थी और अपनी मां को भी।......जब तक ईद का चांद पैदा हुआ कुलवंत बेहोश हो चुकी थी। उसे पता ही नहीं चला कि उसका बेटा हुआ या बेटी। बच्चा रोया या नहीं?

गुड्डी भी रोये जा रही थी। उसकी मां का शरीर खून से लथपथ था और उसके साथ बंधा हुआ था एक छोटा-सा नन्हा मुन्ना। मुन्ना तो रोये जा रहा था। वह भी तो रक्त में सना पड़ा था। गुड्डी ने उसे हाथ लगाया तो उसे अपने हाथ में चिपचिपाहट महसूस हुई। अब वह पूर्ण रूप से घबरा गई। अपने नन्हें-नन्हें कदमों के सहारे दरवाज़े की ओर भागी। किंतु दरवाजे की चिटकनी तो उस नन्हीं सी गुड़िया की पहुंच से काफी ऊपर थी। काफी देर तक दरवाजा पीटती रही। मगर कोई सुन पाता तभी तो खोलता।

अब न तो मां की कराहटें सुनाई दे रहीं थीं और ना ही ही मुन्ने का रोना। पूरे घर में एक भयानक-सा सन्नाटा छाया हुआ था। रोते-रोते ही गुड्डी की भूख तेज होने लगी। वह बेचारी फ्रिज खोलने की कोशिश करने लगी। किंतु फ्रिज था कि खुल ही नहीं रहा था।

गुरमीत के सामने जेल में खाना पड़ा था। वह बेसुध कभी उस खाने की ओर देखता तो कभी दीवारों की ओर शून्य में ताकने लगता। और उधर गुड्डी पूरे घर में कुछ-न-कुछ खाने को खोज रही थी। आखिर थक कर चूर हो गई और रोते-रोते सो गई।

गुरमीत हवलदार के पैर छूकर गिड़गिड़ा रहा था, एक टेलीफ़ोन करने की अनुमति मांग रहा था। पर 'वहां की पुलिस वाले तो बहुत खराब होते हैं ना जी।'

सोते-सोते गुड्डी के पेट में मरोड़ ज़रूर उठा होगा। जाकर मां को जगाने की कोशिश करने लगी। पर कुलवन्त तो गहरी नींद में सो चुकी थी। गुड्डी के लिए एक बार फिर खाना ढूंढने और रोने का काम शुरू।

चौथे दिन गुरमीत की रिहाई हुई। वह सीधा घर पहुंचा। चाबी से बाहर से ही दरवाजा खोला और अंदर घुसते ही उसे नाक पर हाथ रखना पड़ा। सामने कुलवन्त और बच्चे की नंगी लाशें पड़ी थीं। गुड्डी को खोजा। वह फ्रिज के पास ही पड़ी थी।

'हरामज़ादो!' वह दहाड़ा, 'मैं तुम्हें ज़िंदा नहीं छोडूंगा। एक -एक को मार डालूंगा......सबको चुन-चुनकर मार डालूंगा।' वह चिल्लाए जा रहा था। कुलवन्त, गुड्डी और मुन्ने की लाशों पर काफ़ी देर तक रोता रहा। थोड़ा संभला और दिनेश बतरा को फ़ोन किया।

दिनेश अपने चिरपरिचित अंदाज़ में गुरमीत को हौसला दिलाता रहा।

'दिनेश जी मैं अब यहां नहीं रहूंगा जी। पर जाने से पहले सबका काम तमाम कर दूंगा जी। किसी हरामजादे को नहीं छोडूंगा।' रह-रहकर गुरमीत के भीतर का हिंसक पशु जाग उठता।

दिनेश ने उसे बड़ी कठिनाई से संभाला। और अब हम दोनों उसे समझा रहे थे।

अपनी गृहस्थी खुद अपने हाथों से जलाकर गुरमीत वापस आ गया था, दारजी के पास। पर सब कुछ सह जाने और कुछ न कर पाने की अपनी असर्मथता के कारण गुरमीत भीतर ही भीतर घुटता रहा - एक भयानक चुप्पी ओढ़़े हुए।

और यह चुप्पी आज ही टूटी थी जब वह हर्षोल्लास से चिल्ला उठा था-'कर दी सालों की ढिबरी टाइट!'

'''''''

--

साभार-

2 blogger-facebook:

  1. आपने तेजेंद्र शर्मा जी की प्रवासी भारतीयों की मनोदशा पर एक बेहद मार्मिक एवं संवेदनशील कहानी आपनेध कराई, इसके लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपने तेजेंद्र शर्मा जी की प्रवासी भारतीयों की मनोदशा पर एक बेहद मार्मिक एवं संवेदनशील कहानी आपने उपलब्ध कराई, इसके लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------