शनिवार, 17 नवंबर 2012

रमाशंकर की कविता - हँसती हुई गली

हंसती हुई गली हमारी पदचाप से खामोश हो जाती है
पता है, सांस थामे कोई झुकने का इंतज़ार कर रहा है.


अब कैसे बताएं कि झुकना कमर का शातिर होता है
मेरा दिल तो लोट कर प्यार का इकरार कर रहा है.

जमाने भर की हरकतों पर खामोश होना पडा है
अब कोई नाराजगी समझे तो शंका बेकार कर रहा है.


मेरी प्यारी हवाओं जाकर उनके कानों में कह दो
वह बदनसीब बड़े संकोच में तुम्हारा मनुहार कर रहा है

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------