मंगलवार, 13 नवंबर 2012

चन्द्रेश कुमार छतलानी की दीपावली विशेष रचना - श्री राम वन्दना

चंद्रेश कुमार छतलानी

श्री राम वन्दना





राम-राम में रम ले बन्दे, रम ले राम नाम में।

यही नाम तो आयेगा बन्दे, आखिर तेरे काम में।

जय राम - श्री राम - श्री राम जय-जय राम।





रोग-शोक ना क्रोध रहेगा

मन में विषाद ना आक्रान्त है।

राम नाम को जपने वाला

आनन्दित और शान्त है।



आओ उठकर सब पुकारें, आ राम आराम में।

जय राम - श्री राम - श्री राम जय-जय राम।





बजरंग जिसका ध्यान लगाऐं

नारद जिसकी कथा सुनाऐं।

ब्रह्ममुख से आई जो वाणी

राम नाम ही हम सब गाऐं।



राम नाम के जप से फैले, शान्ति चारों धाम में।

जय राम - श्री राम - श्री राम जय-जय राम।



-

चंद्रेश कुमार छतलानी,
सहायक आचार्य (कम्यूटर विज्ञान),  उदयपुर (राजस्थान)
http://chandreshkumar.wetpaint.com
+91 99285 44749
chandresh.chhatlani@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------